--Advertisement--

लेडी इम्पलॉई के सेक्शुअल हैरेसमेंट में फंसे अफसर, अब कहा- वे तो मेरी बेटियों जैसी

आईएएस अफसर नीलकमल दरबारी का कहना है कि जिस पर इतना बड़ा आरोप लगे, वह बचने के लिए कुछ भी बोल सकता है।

Danik Bhaskar | Nov 30, 2017, 05:12 AM IST
मामले में अारोपी शीतल प्रसाद श मामले में अारोपी शीतल प्रसाद श

जयपुर. कृषि विभाग के अतिरिक्त निदेशक शीतल प्रसाद शर्मा अपने ही कार्यालय की तीन महिला कर्मियों के यौन शोषण के आरोपों में फंस गए हैं। मुख्यमंत्री कार्यालय को यौन शोषण के संबंध में मिले एक गुमनाम पत्र की जांच के बाद शर्मा को दोषी मान लिया गया है, लेकिन शर्मा ने आरोपों से इनकार करते हुए दोष विभाग की प्रमुख सचिव नीलकमल दरबारी पर मढ़ दिया। क्या कहा आरोपी अफसर ने...

- शर्मा ने कहा कि प्रमुख सचिव नीलकमल दरबारी ने ही उन्हें फंसाने के लिए साजिश रची। जिन महिलाओं की ओर से यौन शोषण का आरोप लगाया है, वे तो उनकी बेटियों की तरह हैं। दुर्गापुरा गेस्ट हाउस में रहने और खाने को लेकर दरबारी पर पैसा बकाया है। इसे लेकर रिट लगाई तो वे बदला ले रही हैं।

- वहीं आईएएस अफसर नीलकमल दरबारी का कहना है कि जिस पर इतना बड़ा आरोप लगे, वह बचने के लिए कुछ भी बोल सकता है।

- कृषि विभाग के अति. निदेशक शीतल प्रसाद शर्मा का कहना है कि दुर्गापुरा में एक कार्यशाला थी, जिसमें सोविनियर का विमोचन होना था। इसमें विभाग की प्रमुख सचिव नील कमल दरबारी का संदेश जाना था, लेकिन संदेश देर से आने के कारण सोविनियर में बाद में जोड़ा गया। शर्मा ने कहा कि यहीं से मैं दरबारी के टारगेट पर आना शुरू हो गया।

प्रमुख सचिव बोलीं, बचने को झूठे आरोप लगा रहे
कृषि विभाग की प्रमुख सचिव नील कमल दरबारी का कहना है कि शीतल प्रसाद केवल बचने का प्रयास कर रहे हैं। इसीलिए मेरे ऊपर आरोप लगा रहे हैं। उनके द्वारा लगाए गए आरोप बेबुनियाद हैं। मैं गेस्ट हाउस में रुकी हूं, लेकिन उसके बाद भुगतान किया है।