--Advertisement--

बेटी की मौत के 19 दिन बाद बिछुड़ा बेटा, 14 घंटे बाद बोरवेल से निकली लाश

ट्यूबवेल में गिरे 5 साल के अमन को बचाने की इंसानी कोशिशों के बावजूद उसकी लाश ही बोरवेल से निकली।

Danik Bhaskar | Nov 16, 2017, 03:59 AM IST
एलएंडटी से इस तरह सुरंग बनाकर निकाला बच्चे को एलएंडटी से इस तरह सुरंग बनाकर निकाला बच्चे को

सवाई माधोपुर. बुधवार काे पनियाला गांव के एक ट्यूबवेल में गिरे 5 साल के अमन को बचाने की इंसानी कोशिशों के बावजूद उसकी लाश ही बोरवेल से निकली। सरकार, एडमिनिस्ट्रेशन, वहां मौजूद हजारों लोगों की भीड़ ये उम्मीद कर रही थी कि भगवान इस परिवार के साथ इंसाफ करेगा, लेकिन वहां मौजूद किसी को यह पता नहीं था कि अमन के मामले में विधाता मुंह फेर चुका है। अमन की एक छोटी बहन भी थी, लेकिन पंद्रह दिन पहले ही अचानक उसकी मृत्यु हो गई। परिवार अभी इस सदमे से बाहर भी नहीं हो पाया था।

ऐसे जिंदगी की जंग हारा मासूम

- मंगलवार की शाम पांच बजे हंसता-खिलखिलाता पांच साल का अमन अपनी बड़ी बहन सरिता के साथ गांव के किनारे सड़क के किनारे खेल रहा था।

- शाम 5 बजे: अमन सरिता के पास से भाग कर पास के खेत की तरफ दौड़ा और सरिता की आंखों के सामने ही खुले बोरवेल में जा गिरा।

- 5.15 बजे: गांव के लोग मौके पर पहुंच और यह पता लगाने की कोशिश की कि अमन बोर में है या नहीं।

- 5.30 बजे: पहली जेसीबी मौके पर लाई गई और बोर की खुदाई शुरू हुई। इसी दौरान बच्चे का बोर से वीडियो मिल गया।

- 5.40 बजे: तहसीलदार और पुलिस के जवान मौके पर पहुंच गए और घटना के बारे में एडमिनिस्ट्रेशन से मदद मांगी।

- 6.00 बजे: दूसरी जेसीबी ने भी खुदाई शुरू कर दी और 108 एम्बुलेंस के साथ डॉक्टर्स मौके पर पहुंच गए और बोर में ऑक्सीजन की सप्लाई शुरू कर दी।

- 8.30 बजे: तीसरी जेसीबी भी मौके पर पहुंची और तीनों ने तेजी से खुदाई शुरू कर दी।

- 8. 45 बजे: दोबारा बच्चे का वीडियो लेने की कोशिश की, लेकिन बच्चा दिखाई नहीं दिया, लेकिन बचाव का काम जारी रखा।

- 9.00 बजे: भास्कर के कॉरेस्पॉन्डेंट खेमराज मीना पास के गांव पहुंचे और अपने दोस्त बत्तीलाल गुर्जर से अपनी एलएंडटी लेकर चलने की रिक्वेस्ट की।

- 10.00 बजे: एलएंडटी मौके पर पहुंची और तीन जेसीबी, दो ट्रैक्टर और एलएंडटी से मिट्‌टी हटाने का काम शुरू किया।

- 11.00 बजे: मौके पर 22 फीट गहरा गड्ढा खोदा जा चुका था, मेडिकल टीम के वीडियों में बच्चा जिंदा दिखाई दिया। बच्चे के साथ बोर में सांप भी दिखाई दे रहा था।

- सुबह 1 बजे: जयपुर से 12 लोगों की टीम वहां पहुंची और अपने तरीके से बचाव काम शुरू किया।

- सुबह 3 बजे: अजमरे से एनडीआरएफ की टीम भी वहां पहुंच गई। उन्होंने सभी को हटाकर अपने तरीके से आगे की खुदाई शुरू करवाई।

- सुबह 7 बजे: टनल से होते हुए एनडीआरएफ का जवान बच्चे तक पहुंचा और आनन-फानन में बच्चे को निकालकर एम्बुलेंस में पहुंचाया।

- सुबह 8 बजे: डीएसपी की निगरानी में बच्चे को लेकर जिला अस्पताल पहुंचे।

- 8.15 बजे: डॉक्टर्स ने बच्चे को मृत घोषित कर दिया। इसके बाद पोस्टमॉर्टम कर लाश परिजनों को दे दिया गया।

- दोपहर 2 बजे: गांव के श्मशान पर हजारों लोगों ने नम आंखों के साथ मासूम अमन का दाहसंस्कार किया।

बोरवेल में दो बड़े सांप भी निकले थे

- बच्चे का पोस्टमॉर्टम करने वाले मेडिकल बोर्ड के ज्यूरिस्ट का कहना है कि बच्चे की मौत दम घुटने की वजह से 12 घंटे पहले ही हो चुकी थी।

- जानकारी के मुताबिक, रेस्क्यू के दौरान जिस बोरवेल में बच्चा गिरा था उस बोरवेल में दो बड़े सांप भी निकले थे।

आगे की स्लाइड्स में देखें इस खबर से जुड़ीं फोटोज...

अमन के शव को बाहर लाते एनडीआरएफ के जवान। अमन के शव को बाहर लाते एनडीआरएफ के जवान।
14 घंटे तक चला रेस्क्यू ऑपरेशन, लेकिन मासूम की जान नहीं बचा सके। 14 घंटे तक चला रेस्क्यू ऑपरेशन, लेकिन मासूम की जान नहीं बचा सके।
कांग्रेस के प्रदेश सचिव दानिश अबरार जयपुर से रात को ही मौके पर पहुंच गए। कांग्रेस के प्रदेश सचिव दानिश अबरार जयपुर से रात को ही मौके पर पहुंच गए।
मिट्टी के पहाड़ तले सांस नहीं ले पाया अमन।  (मां की गाेद में) मिट्टी के पहाड़ तले सांस नहीं ले पाया अमन। (मां की गाेद में)
बच्चे के पिता को ढाढस बंधाते लोग। बच्चे के पिता को ढाढस बंधाते लोग।