Hindi News »Rajasthan »Jaipur »News» Vancts Posts Affects Govenment Works

ये रसूखदार कुर्सियां : इनके खाली होने से भर्तियां रुकी हैं, फैसले अटके पड़े हैं

#सरकार की धीमी रफ्तार को बयां करतीं 7 तस्वीरें

मदन कलाल | Last Modified - Nov 23, 2017, 08:15 AM IST

  • ये रसूखदार कुर्सियां : इनके खाली होने से भर्तियां रुकी हैं, फैसले अटके पड़े हैं
    +6और स्लाइड देखें

    जयपुर.ये खाली कुर्सियां...रोज लाखों लोगों की उम्मीदें तोड़ रही हैं। ये सभी हाईप्रोफाइल कुर्सियां हैं। प्रदेश के विकास की दिशा को तय करने वालीं। हैरानी यह है कि ये सभी पद लंबे समय से खाली पड़े हैं। चाहे आरपीएससी हो या अधीनस्थ मंत्रालयिक सेवा चयन बोर्ड..जहां से आने वाली हर खबर पर लाखों बेरोजगारों की उम्मीदें टिकी रहती हैं...दोनों ही जगह अध्यक्ष पद खाली पड़े हैं। करीब 10 ऐसे बाेर्ड या आयोग हैं, जहां मुखिया का पद खाली पड़ा है। हमने इनमें से सात को चुना। हम पर कैसे असर डाल रही हैं ये खाली कुसियां, पढ़िए रिपोर्ट।

    क्यों खाली पड़े हैं पद

    ये पद राजनीतिक नियुक्तियाें वाले पद हैं। सरकार किसी एक को नियुक्ति देकर दूसरों की नाराजगी नहीं लेना चाहती, यही वजह है कि लंबे समय से इन पदों पर नियुक्तियों को लेकर कोई फैसला नहीं हो सका है। जबकि वरिष्ठ कार्यकर्ता इन पदों को पाने के लिए काफी समय से दौड़ में हैं। कुछ ने तो उच्च स्तर पर बायोडाटा तक भेज रखे हैं।

    ये हालात डराते हैं...
    कई अहम जगह तो सदस्यों की संख्या तक अधूरी
    बीस सूत्रीय कार्यक्रम क्रियान्वयन समिति (बीसूका) के उपाध्यक्ष का पद 28 अक्टूबर से खाली पड़ा है। इसके अलावा राजस्थान राज्य सूचना आयोग, राज्य कर्मचारी सफाई आयोग, राज्य किसान आयोग, राजस्थान अन्य पिछड़ी जाति आयोग, कर्मचारी अधिकरण ट्रिब्यूनल, राज्य लोक सेवा आयोग जैसे अहम स्थानों पर सदस्यों की संख्या तक पूरी नहीं है।

  • ये रसूखदार कुर्सियां : इनके खाली होने से भर्तियां रुकी हैं, फैसले अटके पड़े हैं
    +6और स्लाइड देखें

    राजस्थान क्रीडा परिषद अध्यक्ष : तीन साल से खाली

    कब से खाली :10.12.13 से। अंतिम अध्यक्ष-शिवचरण माली। पदेन रूप में अजीत सिंह और वर्तमान में जे.सी. मोहंती कार्यभार देख रहे हैं।
    असर :कोचों के पद खाली हैं। स्पोर्ट्स कैलेंडर तक नहीं बना।

  • ये रसूखदार कुर्सियां : इनके खाली होने से भर्तियां रुकी हैं, फैसले अटके पड़े हैं
    +6और स्लाइड देखें

    अधीनस्थ एवं मंत्रा. सेवा चयन बोर्ड का अध्यक्ष : 8 माह सेे पद खाली

    कब से खाली 18.03.2017 से। अंतिम अध्यक्ष- रामखिलाड़ी मीणा। फिलहाल नंदसिंह नरुका के पास अतिरिक्त चार्ज।
    असर : भर्तियों के कलेंडर गडबड़ाए। नतीजा-विभिन्न विभागों में पद खाली पड़े हैं।

  • ये रसूखदार कुर्सियां : इनके खाली होने से भर्तियां रुकी हैं, फैसले अटके पड़े हैं
    +6और स्लाइड देखें

    आरटीडीसी चैयरमैन : 4 साल से पद खाली

    कब से खाली12.12. 13 से। अंतिम अध्यक्ष-रणदीप धनकड़। फिलहाल एसीएस एनसी गोयल के पास में अध्यक्ष का चार्ज।
    असर : आरटीडीसी बुरे दौर से गुजर रही है। नतीजा- रेवेन्यू में भारी घाटा उठाना पड़ रहा है।

  • ये रसूखदार कुर्सियां : इनके खाली होने से भर्तियां रुकी हैं, फैसले अटके पड़े हैं
    +6और स्लाइड देखें

    राजस्थान खादी बोर्ड अध्यक्ष : तीन माह से खाली

    कब से खाली : 19.08.17 से। अंतिम अध्यक्ष-शंभुदयाल बडगूजर (सेवा के दौरान मौत)

    असर : जिलों में खादी मेले लगने हैं। खादी मेलों में कोई नयापन तक नहीं आ पाता। योजनाओं पर काम नहीं हो पाता।

  • ये रसूखदार कुर्सियां : इनके खाली होने से भर्तियां रुकी हैं, फैसले अटके पड़े हैं
    +6और स्लाइड देखें

    राज्य प्रदूषण नियंत्रण मंडल अध्यक्ष : तीन माह से खाली

    कब से खाली :19.08.17 से। अंतिम अध्यक्ष-शंभुदयाल बडगूजर (सेवा के दौरान मौत)
    असर :जिलों में खादी मेले लगने हैं। खादी मेलों में कोई नयापन तक नहीं आ पाता। योजनाओं पर काम नहीं हो पाता।

  • ये रसूखदार कुर्सियां : इनके खाली होने से भर्तियां रुकी हैं, फैसले अटके पड़े हैं
    +6और स्लाइड देखें

    किसान आयोग अध्यक्ष .: चार माह सेे पद खाली

    कब से खाली9.07.17 से। अंतिम अध्यक्ष-सांवरलाल जाट (सेवा के दौरान मौत)
    असर :किसानों की समस्याएं अटकी हुई हैं। प्लानिंग में दिक्कतें आ रही हैं।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Jaipur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Vancts Posts Affects Govenment Works
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×