--Advertisement--

चेतन की मौत मामला : मौके पर मिले पत्थर और कागज की लिखावट अलग

नाहरगढ़ किले पर हुई चेतन की मौत की कहानी किसने लिखी?

Danik Bhaskar | Nov 30, 2017, 04:30 AM IST

जयपुर. नाहरगढ़ किले पर 24 नवंबर की सुबह चेतन का शव दीवार पर रस्सी से लटका मिला था। घटनास्थल पर पद्मावती फिल्म समेत अन्य विवादित बयान लिखे हुए थे। एफएसएल ने घटनास्थल से राइटिंग की जांच करने के लिए नमूने लिए थे। पुलिस ने डायरी व दस्तावेजों को जब्त करके चेतन की हैंड राइटिंग के नमूने लेकर जांच के लिए एफएसएल को भेजे है। शुरुआती जांच में सामने आया कि पत्थरों पर लिखी राइटिंग व चेतन की डायरी व दस्तावेजों में लिखी राइटिंग से बिल्कुल भी नहीं मिल रही है।

- पुलिस अफसरों का कहना भी है कि पत्थरों और कागज पर लिखी राइटिंग का मिलान होना काफी मुश्किल है। हालांकि, पुलिस अब एफएसएल रिपोर्ट का इंतजार कर रही है।
- भास्कर में पुलिस की लापरवाही के खुलासे के बाद बुधवार को चेतन की हैड राइटिंग व विसरा के सैंपल एफएसएल को भेजे गए।

- एफएसएल विशेषज्ञों के अनुसार जांच में अब 2 दिन लगेंगे और यह रिपोर्ट के बाद ही मौत के कारणों का पता चल सकेगा। घटनास्थल पर लिखे विवादित बयानों की राइटिंग व चेतन की हैंडराइटिंग की एफएसएल रिपोर्ट मिलने के बाद ही पुलिस यह तय कर पाएगी कि चेतन ने आत्महत्या की थी या फिर उसकी हत्या की गई थी।

- डीसीपी सत्येन्द्र सिंह ने बताया कि सभी सैंपल एफएसएल को भेज दिए हैं। जांच रिपोर्ट मिलने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।


- दरअसल चेतन का शव शुक्रवार 24 नवंबर की सुबह नाहरगढ़ किले की दीवार पर लटकता मिला था। उसकी मौत गुरुवार को ही हो चुकी थी।

- ब्रह्मपुरी पुलिस ने शुक्रवार दोपहर तक शव उतारकर पोस्टमार्टम तो करवा लिया, मगर विसरा के सैंपल एफएसएल को नहीं भेजे। मौके पर पहुंची एफएसएल टीम ने पत्थरों पर मिले विवादित बयानों की लिखावट के सैंपल लिए थे, लेकिन इसका मिलान करने के लिए टीम को चेतन की हैंडराइटिंग के नमूने चाहिए थे।

- पुलिस ने चेतन के घर से उसकी हैंडराइटिंग के नमूने लिए, लेकिन एफएसएल को नहीं भेजे थे जबकि पुलिस अब तक कह रही है कि एफएसएल रिपोर्ट आने के बाद ही ये तय हो पाएगा कि ये हत्या थी या आत्महत्या।