जोधपुर

--Advertisement--

100 साल पुराना मंदिर सड़क के 8 ft. नीचे चला गया, श्रद्धालु खुदाई कर पूजन के बाद जमींदोज करते हैं प्रतिमाएं

कापरड़ा के मेघवालों के मोहल्ले में शीतला माता का सौ साल पुराना थान है। समय के साथ यह आसपास के घरों के ऊंचाई लेने से सड़क

Danik Bhaskar

Mar 10, 2018, 08:26 AM IST
शीतला माता की पूजा करती महिलाएं। शीतला माता की पूजा करती महिलाएं।

जोधपुर. राजस्थान के कापरड़ा के मेघवालों के मोहल्ले में शीतला माता का सौ साल पुराना थान है। समय के साथ यह आसपास के घरों के ऊंचाई लेने से सड़क के 8 फीट नीचे चला गया। शीतलाष्टमी के दिन भोग लगाने के लिए श्रद्धालु हर साल यहां खुदाई करते हैं। फिर एक बच्चे को गड्ढे में उतारते हैं। वह माता की प्रतिमाओं की सफाई करता है। महिलाएं मंगल गीत गाती हैं। इस वजह से चल गया 8 फीट नीचे...

- दरअसल, नजारा कापरड़ा के मेघवालों के मोहल्ले का है। यहां शीतला माता का सौ साल पुराना थान स्थापित है। यह थान समय के साथ आसपास के घरों के ऊंचाई लेने से सड़क के 8 फीट नीचे चला गया।

- शीतलाष्टमी के दिन माता काे भोग लगाने के लिए श्रद्धालु हर साल यहां खुदाई करते हैं। फिर मोहल्ले के एक बच्चे को गड्ढे में उतारा जाता है।

- जो पहले माता की प्रतिमाओं की सफाई कर पूजन करता है, फिर बारी-बारी मोहल्ले के हर घर का भोग माता को अर्पित करता है। दूसरे दिन इस गड्ढे को वापस रेत से भर दिया जाता है।

Click to listen..