Hindi News »Rajasthan »Jodhpur »News» Hundred Year Old Temple Of Sheetla Mata

100 साल पुराना मंदिर चला गया जमीन के 8 फीट नीचे, श्रद्धालु खुदाई के बाद करते हैं पूजन

कापरड़ा के मेघवालों के मोहल्ले में शीतला माता का सौ साल पुराना थान है। समय के साथ यह आसपास के घरों के ऊंचाई लेने से सड़क

Bhaskar News | Last Modified - Mar 10, 2018, 08:46 AM IST

  • 100 साल पुराना मंदिर चला गया जमीन के 8 फीट नीचे,  श्रद्धालु खुदाई के बाद करते हैं पूजन
    +2और स्लाइड देखें
    शीतला माता की पूजा करती महिलाएं।

    जोधपुर.राजस्थान केकापरड़ा के मेघवालों के मोहल्ले में शीतला माता का सौ साल पुराना थान है। समय के साथ यह आसपास के घरों के ऊंचाई लेने से सड़क के 8 फीट नीचे चला गया। शीतलाष्टमी के दिन भोग लगाने के लिए श्रद्धालु हर साल यहां खुदाई करते हैं। फिर एक बच्चे को गड्ढे में उतारते हैं। वह माता की प्रतिमाओं की सफाई करता है। महिलाएं मंगल गीत गाती हैं। इस वजह से चल गया 8 फीट नीचे...

    - दरअसल, नजारा कापरड़ा के मेघवालों के मोहल्ले का है। यहां शीतला माता का सौ साल पुराना थान स्थापित है। यह थान समय के साथ आसपास के घरों के ऊंचाई लेने से सड़क के 8 फीट नीचे चला गया।

    - शीतलाष्टमी के दिन माता काे भोग लगाने के लिए श्रद्धालु हर साल यहां खुदाई करते हैं। फिर मोहल्ले के एक बच्चे को गड्ढे में उतारा जाता है।

    - जो पहले माता की प्रतिमाओं की सफाई कर पूजन करता है, फिर बारी-बारी मोहल्ले के हर घर का भोग माता को अर्पित करता है। दूसरे दिन इस गड्ढे को वापस रेत से भर दिया जाता है।

  • 100 साल पुराना मंदिर चला गया जमीन के 8 फीट नीचे,  श्रद्धालु खुदाई के बाद करते हैं पूजन
    +2और स्लाइड देखें
  • 100 साल पुराना मंदिर चला गया जमीन के 8 फीट नीचे,  श्रद्धालु खुदाई के बाद करते हैं पूजन
    +2और स्लाइड देखें
Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Jodhpur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Hundred Year Old Temple Of Sheetla Mata
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×