Hindi News »Rajasthan »Jodhpur »News» Indian Dalveer Bhandari Elected In International Court Of Justice

इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में चुने गए भंडारी, दो बार पहुंचने वाले दूसरे भारतीय

जस्टिस दलबीर भंडारी दूसरी बार हेग स्थित इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में चुने गए हैं।

Bhaskar News | Last Modified - Nov 21, 2017, 04:18 AM IST

नई दिल्ली/जोधपुर. जस्टिस दलवीर भंडारीदूसरी बार हेग स्थित इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (ICJ) में चुने गए हैं। लंबी इलेक्शन प्रॉसेस के बाद आखिरकार उनके ब्रिटिश कॉम्पिटीटर जस्टिस क्रिस्टोफर ग्रीनवुड ने अपनी दावेदारी वापस ले ली। भारतीय समयानुसार सोमवार देर रात 2:25 बजे जस्टिस भंडारी के चुने जाने का एलान हुआ। वे इस ऑर्गनाइजेशन में दो बार पहुंचने वाले दूसरे भारतीय हैं। उनके खिलाफ मैदान में जस्टिस ग्रीनवुड के आईसीजे की दौड़ से बाहर होते ही यह पहला मौका होगा, जब यूएस, रूस, चीन, ब्रिटेन और फ्रांस (पी-5) का कोई जज इंटरनेशनल कोर्ट में नहीं होगा।

भंडारी को जनरल असेंबली के 183 और सिक्युरिटी काउंसिल के सभी 15 वोट मिले

- जस्टिस ग्रीनवुड के मैदान से हटने के बावजूद यूनाइटेड नेशन्स में वोटिंग हुई। इसमें जस्टिस भंडारी को जनरल असेंबली के 183 और सिक्युरिटी काउंसिल के सभी 15 वोट मिले।

- वे 2012 में आईसीजे के जज बने थे, उनका टेन्याेर 18 फरवरी में पूरा हो रहा है। इससे पहले भारत से जस्टिस नगेंद्र सिंह ICJ में दो बार चुने जा चुके हैं।

- भंडारी की इस जीत को भारत की बड़ी डिप्लोमैटिक कामयाबी के तौर पर देखा जा रहा है। नरेंद्र मोदी ने जस्टिस भंडारी के लिए जबर्दस्त कैम्पेन किया था।

- सुषमा ने ट्वीट किया, "वंदे मातरम्! इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में भारत की जीत हुई है। जय हिंद।"

पाक में कैद भारतीय जाधव को फांसी से बचाया था

- जज बनने के बाद आईसीजे में अब तक जितने भी फैसले हुए हैं, उनमें जस्टिस भंडारी का स्पेशल ओपिनियन रहा है।

- उन्होंने समुद्री विवादों, अंटार्कटिका में हत्या, नरसंहार के अपराध, महाद्वीपीय शेल्फ के परिसीमन, न्यूक्लियर डिजार्मामेंट (परमाणु निरस्त्रीकरण), टेरर फाइनेसिंग, वॉयलेशन ऑफ यूनिवर्सल राइट्स जैसे केसों में अहम भूमिका निभाई।

- इसके अलावा, पाकिस्तान में कैद भारतीय कुलभूषण जाधव को फांसी से बचाने में भी जस्टिस भंडारी का अहम राेल था। उन्होंने 2008 के भारत-पाक समझौते का हवाला देते हुए कहा था कि पाक ने ह्यूमन राइट्स का वॉयलेशन किया है।

पद्मभूषण से सम्मानित हैं जस्टिस भंडारी

- जोधपुर के नामी वकील महावीरचंद भंडारी के घर 1946 में जन्मे जस्टिस भंडारी ने जोधपुर यूनिवर्सिटी से लॉ करने के बाद अमेरिका से मास्टर्स डिग्री ली।

- राजस्थान हाईकोर्ट में कुछ सालों की प्रैक्टिस के बाद वे दिल्ली में प्रैक्टिस करने लगे। जस्टिस दलवीर भंडारी को 2014 में पद्मभूषण से सम्मानित किया गया था।

आईसीजे है 15 जजों की अदालत

- आईसीजे नीदरलैंड के हेग में स्थित है। संयुक्त राष्ट्र चार्टर के आर्टिकल 93 के मुताबिक, युनाइटेड नेशन्स के सभी 193 मेंबर्स देश आईसीजे में इंसाफ पाने के हकदार हैं। हालांकि, जो देश यूएन के मेंबर नहीं हैं, वे भी अपील कर सकते हैं।

- इसमें 15 जज होते हैं, जिनका टेन्योर 9 साल का होता है। हर तीसरे साल 5 नए जज इसमें चुने जाते हैं, दूसरे जज दूसरी बार चुने जा सकते हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Jodhpur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: intruneshnl kort mein dusri baar jj chune gae bhndaari, susmaa bolin- bharat ki jeet huee
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×