Hindi News »Rajasthan »Jodhpur »News» Mumbai Attack Eyewitness Devika Got Help

इस लड़की की गवाही पर मिली थी कसाब को फांसी, पाक से मिलती थी धमकियां

मुंबई हमले के दोषी कसाब को फांसी चढ़ाने में अहम रही थी देविका की गवाही।

Bhaskar News | Last Modified - Nov 29, 2017, 07:55 AM IST

  • इस लड़की की गवाही पर मिली थी कसाब को फांसी, पाक से मिलती थी धमकियां
    +7और स्लाइड देखें
    देविका मुंबई में ही गरीब बस्ती में रह रही है।

    श्रीगंगानगर. मुंबई हमले के मुख्य आरोपी अजमल कसाब को फांसी के मामले में प्रमुख कड़ी रही देविका मुंबई में ही गरीब बस्ती में रह रही है। तीन फीट की गली में 10 गुणा 10 के एक ही कमरे के मकान में वह अपने पिता नटवरलाल और अपाहिज बड़े भाई जयेश के साथ रहती है। घर में तंगहाली इतनी कि शब्दों में बयान करना ही मुश्किल।

    पाक और हैदराबाद से आते थे फोन, मिलती थी धमकियां

    देश की बहादुर बेटी देविका ने बताया कि कसाब के पकड़े जाने के बाद जैसे ही पुलिस ने मुझे गवाह बनाया तभी से मेरे पिता के मोबाइल पर कॉल आने लग गई। कभी पाकिस्तान तो कभी हैदराबाद से फाेन आते। कुछ ने तो गवाही नहीं देने के लिए पहले लालच दिया। एक करोड़ रुपए तक ऑफर किए लेकिन हम लोग झुके नहीं। फिर हमें धमकियां भी खूब मिली। हमने पुलिस को सूचना दी। पुलिस का इस मामले में बहुत सहयोग रहा।

    कोर्ट में उसे देखते ही पहचाना, फिर हुई फांसी की सजा
    कोर्ट में केस चला तब पुलिस ने एक युवक को गिरफ्तार कर रखा था। कोर्ट में सुनवाई के दौरान जज साहब ने देविका से पूछा कि क्या वह गोली मारने वाले को पहचान सकती है। मैने कहा, हां मैं उसे देखते ही पहचान लूंगी। कोर्ट में तीन युवक पेश हुए और मुझे बुलाया गया। मैं आरोपी को देखते ही पहचान गई। बाद में पता चला कि वह अजमल कसाब था और पाकिस्तान ने उसे मुंबई में लोगों को मारने के लिए भेजा था। मेरी गवाही पर कसाब को कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई।

    पहनने को एक स्कूल ड्रेस के अलावा दो पेंट और दो ही टीशर्ट

    - 10वीं की इस छात्रा के पास पहनने को एक स्कूल ड्रेस के अलावा दो पेंट और दो ही टीशर्ट हैं। तपोवन प्रन्यास अध्यक्ष महेश पेड़ीवाल मंगलवार सुबह करीब 11 बजे ढूंढ़ते हुए उसके घर तक जा पहुंचे।

    - रोज की तरह यह दिन भी देविका के लिए सामान्य ही था, लेकिन पेड़ीवाल ने वहां पहुंच उसे दो लाख रुपए नकद की मदद सौंपी तो मारे खुशी के उसकी आंखों से आंसू निकल पड़े।

    - पेड़ीवाल ने देश की इस बहादुर बेटी के आंसू पौंछे। उनकी पेशकश पर देविका अपनी 10वीं की पढ़ाई इस साल पूरा करते ही अपने बीमार भाई के साथ श्रीगंगानगर आ जाएगी। उसकी आगे की सारी पढ़ाई और कामयाब होने तक का - सारा खर्च तपोवन प्रन्यास उठाएगा। उसके बीमार भाई का इलाज भी श्रीगंगानगर में ही होगा। देविका के पिता वापस अपने मूल गांव राजस्थान के सुमेरपुर में ही रहना चाहते हैं।

    आगे की स्लाइड्स में देखें खबर से जुड़ीं फोटोज...

  • इस लड़की की गवाही पर मिली थी कसाब को फांसी, पाक से मिलती थी धमकियां
    +7और स्लाइड देखें
    9/11 मुंबई हमले के दौरान देविका के पैर में लगी थी गोली।
  • इस लड़की की गवाही पर मिली थी कसाब को फांसी, पाक से मिलती थी धमकियां
    +7और स्लाइड देखें
    मुंबई में देविका के घर जाते महेश पेड़ीवाल।
  • इस लड़की की गवाही पर मिली थी कसाब को फांसी, पाक से मिलती थी धमकियां
    +7और स्लाइड देखें
    देश की बहादुर बेटी देविका ने बताया कि कसाब के पकड़े जाने के बाद जैसे ही पुलिस ने मुझे गवाह बनाया था।
  • इस लड़की की गवाही पर मिली थी कसाब को फांसी, पाक से मिलती थी धमकियां
    +7और स्लाइड देखें
    9/11 मुंबई हमलों का गुनाहगार सीसीटीवी में हुआ था कैद।
  • इस लड़की की गवाही पर मिली थी कसाब को फांसी, पाक से मिलती थी धमकियां
    +7और स्लाइड देखें
    तीन फीट की गली में 10 X10 के एक ही कमरे के मकान में वह अपने पिता नटवरलाल और अपाहिज बड़े भाई जयेश के साथ रहती है देविका।
  • इस लड़की की गवाही पर मिली थी कसाब को फांसी, पाक से मिलती थी धमकियां
    +7और स्लाइड देखें
    देविका उस वक्त की फोटो।
  • इस लड़की की गवाही पर मिली थी कसाब को फांसी, पाक से मिलती थी धमकियां
    +7और स्लाइड देखें
    देविका की फाइल फोटो।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Jodhpur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Mumbai Attack Eyewitness Devika Got Help
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×