--Advertisement--

शाही ट्रेन के पर्यटकों ने कड़े पहरे में देखा चित्तौड़गढ़ फोर्ट

सीजनमें हर शुक्रवार को यहां आने वाली शाही ट्रेन के पर्यटकों ने पहली बार कड़ी सुरक्षा संशय के बीच दुर्ग भ्रमण किया।

Danik Bhaskar | Nov 25, 2017, 08:58 AM IST
चित्तौड़गढ़. सीजनमें हर शुक्रवार को यहां आने वाली शाही ट्रेन के पर्यटकों ने पहली बार कड़ी सुरक्षा संशय के बीच दुर्ग भ्रमण किया। हालांकि उनको कहीं कोई विरोध का सामना नहीं करना पड़ा, पर पाडनपोल पर दस मिनट रुकना पड़ा। जहां पद्मावती फिल्म के विरोध में दिए जा रहे धरने पर लोगों ने इन पर्यटकों को भी आंदोलन की वजह बताई। फिल्म पद्मावति के विरोध में धरना दे रहे लोगों द्वारा देश-विदेश में कहीं भी फिल्म रिलीज पर उग्र आंदोलन की चेतावनी के बीच शुक्रवार को यहां शाही ट्रेन पैलेस ऑन व्हील्स के फेरे से प्रशासन सुबह से सतर्क हो गया। तहसीलदार थानेदार पहले से जाकर टोह लेने लगे। दोपहर 2:48 बजे ट्रेन के पहुंचते ही सुरक्षा बढ़ गई। रतलाम की बम स्कवायड टीम ने सर्च किया। ट्रेन में सवार 65 पर्यटक 3:45 बजे बाहर निकले। एसएचओ आरपीएफ लीनेश बैरागी, सदर शिवलाल मीणा आदि ब्लैककेट कमांडो, एस्कोर्ट पार्टी जीआरपी जाब्ते के साथ तैनात थे। ट्रेन जीएम प्रदीप बोहरा के साथ पर्यटकों को तीन बसों से दुर्ग भ्रमण पर ले जाया गया। आगे सदर थाना पुलिस एस्कार्ट कर रही थी। पीछे तहसीलदार रामप्रसाद खटीक अन्य वाहनों में पुलिस जवान चल रहे थे। पाडनपोल पर पहले से एसडीएम सुरेश खटीक, डिप्टी गजेंद्रसिंह जोधा, कोतवाली सीआई ओमप्रकाश सोलंकी मय जाब्ता मौजूद थे।