Hindi News »Rajasthan »Nohar» कुरीतियों, अंधविश्वासों तथा उत्पीड़न को खत्म करने से समाज में आएगी समानता: मेघवाल

कुरीतियों, अंधविश्वासों तथा उत्पीड़न को खत्म करने से समाज में आएगी समानता: मेघवाल

पीलीबंगा| दलित शोषण मुक्ति मंच का दो दिवसीय जिला सम्मेलन का समापन रविवार देर शाम को एक पैलेस में हुआ। मंच के...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 05, 2018, 05:40 AM IST

कुरीतियों, अंधविश्वासों तथा उत्पीड़न को खत्म करने से समाज में आएगी समानता: मेघवाल
पीलीबंगा| दलित शोषण मुक्ति मंच का दो दिवसीय जिला सम्मेलन का समापन रविवार देर शाम को एक पैलेस में हुआ। मंच के प्रदेशाध्यक्ष किशन मेघवाल ने कहा कि समाज में व्याप्त कुरीतियों, अंधविश्वासों तथा जातीय उत्पीडऩ को खत्म कर समानता लाई जा सकती है। सम्मेलन के अध्यक्षीय मंडल में एडवोकेट अशोक गुडेसर, कमला मेघवाल, एडवोकेट अनिल कुमार, रघुवीर वर्मा व दलुराम चालिया मौजूद रहे। डीएसएमएम के प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ. संजय माधव ने देश व प्रदेश की स्थिति पर कहा कि दलित अत्याचारों में बढ़ोतरी हुई है। एडवोकेट रघुवीर वर्मा ने कहा कि दलितों की शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार तथा उत्पादन के साधन नहीं होने से उनकी आर्थिक स्थिति कमजोर होती है। सम्मेलन में 21 सदस्यों की जिला कमेटी का निर्वाचन सदन में उपस्थित प्रतिनिधियों की सहमति के अनुसार किया गया। सर्वसम्मति से किए गए चुनाव पैनल में मनीराम मेघवाल को जिलाध्यक्ष, मनोहरलाल को सचिव, संदीप बाजीगर व राजेश नोखवाल को उपाध्यक्ष व महानंद खोखर को संयुक्त सचिव मनोनीत किया गया। इसके अलावा चुन्नीराम पंवार, जे पी बेरवाल राजेंद्र कुमार, महेंद्र सिंह व अजय मेघवाल को पैनल में सदस्य के रूप में शामिल किया गया।

सम्मेलन में पंचायत समिति की पूर्व प्रधान कमला मेघवाल, पूर्व सरपंच श्योपतराम मेहरड़ा, फूलचंद आदि ने विचार रखे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Nohar News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: कुरीतियों, अंधविश्वासों तथा उत्पीड़न को खत्म करने से समाज में आएगी समानता: मेघवाल
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Nohar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×