Hindi News »Rajasthan »Pali» Special Story On Bullet Baba Temple In Pali

यहां से गुजरने वाले देवी-देवता से नहीं इस बुलेट से मांगते हैं मन्नत, ये है वजह

पाली से 20 किमी दूर रोहट के पास बांडाई गांव में बुलेट बाबा का मंदिर बना हुआ है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Feb 14, 2018, 12:32 PM IST

  • यहां से गुजरने वाले देवी-देवता से नहीं इस बुलेट से मांगते हैं मन्नत, ये है वजह
    +3और स्लाइड देखें

    पाली. यहां से 20 किमी दूर रोहट के पास बांडाई गांव में एक ऐसा मंदिर है, जहां किसी देवी-देवता की नहीं बल्कि एक बुलेट की पूजा होती। पाली से जोधपुर मार्ग पर स्थित एक चबूतरा दिखाई देता है, जहां फूल से लदी एक 350cc की बुलेट खड़ी रहती है। यहां से गुजरने वाला हर इंसान यहां रुककर मत्था जरूर टेकता है और अपनी सुरक्षित यात्रा की मन्नत मांगता है। 30 साल से यहां खड़ी है बुलेट...

    बता दें कि ये बुलेट यहां 30 साल से खड़ी है। स्थानीय लोगों के मुताबिक- 23 दिसंबर 1988 को यहां ओम सिंह राठौर नाम के 23 वर्षीय लड़के की बाइक एक्सिडेंट में मौत हो गई थी।

    ऐसे हुई थी ओम सिंह राठौर की मौत

    - ओम सिंह राठौर अपनी बुलेट पर सवार होकर यहां से गुजर रहे थे। तभी उनकी बाइक अनियंत्रित होकर पेड़ से टकरा गई। इस हादसे में ओम सिंह की मौके पर ही मौत हो गई।

    आगे की स्लाइड्स में जानें क्या है इस मंदिर के बनने का रहस्य....

  • यहां से गुजरने वाले देवी-देवता से नहीं इस बुलेट से मांगते हैं मन्नत, ये है वजह
    +3और स्लाइड देखें

    थाने से गायब हो जाती थी बुलेट

    - बताया जाता है कि घटनास्थल पर पड़ी इस बुलेट को पुलिस उठाकर थाने ले गई। लेकिन, दूसरे दिन बाइक थाने से गायब हो गई। जब पुलिसवालों ने खोजबीन की तो पाया कि बुलेट उसी घटनास्थल पर पड़ी हुई थी, जहां से पुलिसवाले उसे लेकर आए थे।

    - इसके बाद दोबारा पुलिसवाले बुलेट को थाने ले आए और इस बार से पेट्रोल निकाल दिया और जंजीर से बांधकर बाइक खड़ी कर दी। लेकिन अलगे दिन भी वही हुआ थाने से बुलेट गायब थी और फिर से घटनास्थल पर मिली।

  • यहां से गुजरने वाले देवी-देवता से नहीं इस बुलेट से मांगते हैं मन्नत, ये है वजह
    +3और स्लाइड देखें

    लोगों ने बनवाया मंदिर

    - इसके बाद लोगों ने मानना शुरू कर दिया कि इस बुलेट पर कोई दिव्य शक्ति है। धीरे-धीरे लोगों ने इसे आस्था का रूप देते हुए यहां एक मंदिर भी बनवा दिया। तब से लोग इसे बुलेट बाबा का मंदिर या ओम बन्ना मंदिर कहने लगे।

    - गांव वालों का मानना है कि ओम बन्ना आज भी रात में यहां आते हैं और इधर से गुजरने वाले लोगों को सुरक्षित घर पहुंचाते हैं। इसके पीछे गांववालों का तर्क ये है कि ओम बन्ना एक अच्छे इंसान थे, वो नहीं चाहते कि जिस तरह से वो दुर्घटना का शिकार होकर अपनी जान गंवा बैठे, वैसा किसी और के साथ हो।

  • यहां से गुजरने वाले देवी-देवता से नहीं इस बुलेट से मांगते हैं मन्नत, ये है वजह
    +3और स्लाइड देखें

    मंदिर बनने के बाद से नहीं हुआ कोई सड़क हादसा

    - यहां के स्थानीय लोगों के पास ऐसे कई किस्से और कहानियां हैं, जिसमें वो बताते हैं कि ओम बन्ना ने उनकी जान बचाई। लोगों का मानना है कि जिस दिन से यहां बुलेट मंदिर बना है। तब से इस स्थान पर कोई दुर्घटना नहीं हुई, जबकि ये राजस्थान का वो इलाका है, जहां अक्सर दुर्घटनाएं हुआ करती थीं और पुलिस के रिकॉर्ड में भी ये दुर्घटना बाहुल्य क्षेत्रों की गिनती में आता है।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Pali News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Special Story On Bullet Baba Temple In Pali
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Pali

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×