--Advertisement--

संडे सेलिब्रिटी  टिम पैन

ऑस्ट्रेलिया की क्रिकेट टीम बॉल टैम्परिंग विवाद के बाद जब पहली बार खेलने उतरी तो उसके सभी खिलाड़ियों ने विरोधी टीम...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 04:25 AM IST
ऑस्ट्रेलिया की क्रिकेट टीम बॉल टैम्परिंग विवाद के बाद जब पहली बार खेलने उतरी तो उसके सभी खिलाड़ियों ने विरोधी टीम के सभी खिलाड़ियों से हाथ मिलाया। यह शायद पहला मौका था, जब ऑस्ट्रेलियाई टीम विपक्षी टीम को सम्मान देकर मैच की शुरुआत कर रही थी। इसका श्रेय टीम के नए कप्तान टिम पैन को दिया जा रहा है। 33 साल के पैन को बॉल टैम्परिंग विवाद के बाद तीसरे टेस्ट के बीच में ही कप्तानी सौंप दी गई थी। टिम पैन पहली बार तब चर्चा में आए थ, जब उन्होंने तस्मानिया से 10 हजार डॉलर का पहला प्रोफेशनल करार किया, तब उनकी उम्र महज 16 साल थी। वे ऐसा करार करने वाले सबसे कम उम्र के ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर थे। पैन पहली बार 25 साल की उम्र में नेशनल टीम में चुने गए। तीन साल बाद उनकी एंट्री टेस्ट टीम में हो गई। हालांकि, चोट की वजह से 2011 में ही उनके करिअर पर ब्रेक लग गया। उन्होंने 2017 में संन्यास का मन बना लिया था। पर तस्मानिया टीम के कोच ग्रिफिथ ने उन्हें रोक लिया। इसके कुछ महीने बाद ही पैन को एशेज सीरीज के लिए टीम में चुन लिया गया। वापसी के तीन महीने बाद ही वे टीम के कप्तान बन चुके हैं।

यह तस्वीर तब की है, जब पैन (बाएं) और स्टीवन स्मिथ को टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू करने के लिए बैगी ग्रीन पहनाई गई थी। यह मैच ऑस्ट्रेलिया-पाकिस्तान के बीच खिलाफ खेला गया था।

बीच क्रिकेट खेलकर बड़े हुए, भाई और चाचा फुटबॉलर हैं

टिम पैन ने एक इंटरव्यू में बताया था कि उनका घर बीच किनारे था। इसलिए वे छोटी उम्र से ही बीच क्रिकेट खेलने लगे थे। घर पर क्रिकेट पिच थी और पड़ोस में टर्फ विकेट थी। हालांकि, परिवार में ऑस्ट्रेलियन फुटबॉल का माहौल था। चाचा और बड़े भाई फुटबॉलर थे। पैन भी क्रिकेट के साथ-साथ फुटबॉल खेलते। वे 12 साल की उम्र तक फुटबॉलर ही बनना चाहते थे। पर इसी दौरान उनका सलेक्शन स्कूल की क्रिकेट टीम में हो गया। यहीं से उनका खेल करिअर शुरू हुआ। दो साल बाद वे तस्मानिया की अंडर-15 टीम के कप्तान चुन लिए गए।