• Home
  • Rajasthan News
  • Pali News
  • भारत-प्रशांत क्षेत्र को खुला रखने पर काम करेंगे भारत-वियतनाम
--Advertisement--

भारत-प्रशांत क्षेत्र को खुला रखने पर काम करेंगे भारत-वियतनाम

भारत और वियतनाम ने भारत-प्रशांत क्षेत्र को खुला रखने पर मिलकर काम करने का निर्णय लिया है। भारत की यात्रा पर आए...

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 07:35 AM IST
भारत और वियतनाम ने भारत-प्रशांत क्षेत्र को खुला रखने पर मिलकर काम करने का निर्णय लिया है। भारत की यात्रा पर आए वियतनाम के राष्ट्रपति त्रान दाई क्वांग और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच हैदराबाद हाउस में शनिवार को बातचीत के बाद परमाणु सहयोग सहित तीन समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए। वियतनाम के राष्ट्रपति की मौजूदगी में मोदी ने कहा, ‘हम मिलकर एक ऐसे खुले, स्वतंत्र और प्रगति वाले भारत-प्रशांत क्षेत्र के लिए काम करेंगे, जिसमें अंतरराष्ट्रीय कानूनों का सम्मान होगा। मतभेदों को बातचीत से सुलझाएंगे। समुद्री सहयोग बढ़ाएंगे।’ इससे पहले विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भी पहली बार भारत के दौरे पर आए राष्ट्रपति दाई क्वांग से मुलाकात की।

भारत-वियतनाम के बीच भारत-प्रशांत क्षेत्र में करार अहम है, क्याेंकि दक्षिण चीन सागर में चीन की मौजूदगी से इस क्षेत्र में उसका दबदबा बढ़ा है। प्रशांत क्षेत्र में भारत के साथ अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया पहले ही मिलकर काम करने की इच्छा जता चुके हैं। वियतनाम, भारत की ‘एक्ट ईस्ट नीति’ में महत्वपूर्ण साझेदार है। वह दक्षिण पूर्वी एशियाई देशों के संगठन (आसियान) में भारत के लिए समन्वयक की भूमिका में है।

वियतनाम के राष्ट्रपति त्रान दाई क्वां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिले

2 साल में व्यापार 2 गुना करने का लक्ष्य

भारत-वियतनाम केे बीच 2016-17 में 40,666 करोड़ का व्यापार हुआ था। इसे 2020 तक 97,800 हजार करोड़ रुपए से अधिक करने पर दोनों देशों में सहमति बनी है। भारत-वियतनाम ने रक्षा उत्पादन में गठजोड़ करने और प्रौद्योगिकी हस्तांतरण में अवसर तलाशने का फैसला किया है।