--Advertisement--

गुरु की दृष्टि। काम में अधिकता। आय वृद्धि के साथ कार्य में सफलता प्राप्त होगी। भाग्य का साथ मिलेगा। गुरु-शुक्रवार...

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 03:20 AM IST
गुरु की दृष्टि। काम में अधिकता। आय वृद्धि के साथ कार्य में सफलता प्राप्त होगी। भाग्य का साथ मिलेगा। गुरु-शुक्रवार को अष्टम चंद्र के कारण कुछ मामुली विघ्न आ सकते हैं। प्रयास करने से काम होगा। मित्रों से सहयोग मिलेगा। विरोधी सक्रिय रहेंगे। सावधान रहने की आवश्यकता।


मेष

प्रोफेशन एवं व्यापार| व्यापार में परेशानी। नौकरी में स्थान परिवर्तन संभव है।

शिक्षा | आधुनिक सुविधा प्राप्त होगी। शिक्षक सहयोग करेंगे।

स्वास्थ्य | कफ एवं सर्दी की समस्याएं हो सकती हैं। शरीर में दर्द होगा।

प्रेम ¿ साथी से विवाद हो सकता है। वैवाहिक समस्याएं बढ़ सकती हैं।

करने योग्य : दुर्गाजी को पीले पुष्प अर्पण करें।

वृषभ

मंगल की दृष्टि आय को बेहतर बनाएगी एवं संतान से सहायता दिलाएगी। कार्य के लिए यात्रा का योग बन सकता है। अतिथियों को आगमन होगा। संपित्त से लाभ प्राप्त एवं किराएदारों से समस्याएं हो सकती हैं। कार्य स्थान पर समस्याएं समाप्त होंगी। विवादों का अंत होगा।

प्रोफेशन एवं व्यापार| व्यापार सामान्य रहेगा। नौकरी में अधिकारी प्रसन्न।

शिक्षा | व्यर्थ समय व्यय हो सकता है। पढ़ाई से ध्यान हटेगा, नुकसान संभव।

स्वास्थ्य | आंख, कमर एवं त्वचा में समस्याएं हो सकती हैं।

प्रेम ¿ साथी से विवाद एवं वैवाहिक संबंध मधुर रहेगा।

करने योग्य : गणेशजी को लड्डू का प्रसाद चढ़ाएं।

िमथुन

तीन बड़े ग्रहों की दृष्टि, किंतु अष्टम चंद्र से खर्च की अधिकता होगी एवं आय कमजोर हो सकती है। प्रयासों से सफलता प्राप्त होगी। चिंता अधिक रहेगी एवं पुराने मित्रों से मुलाकात होगी। नए काम मिलने के आसार बनेंगे। योजनाओं के साथ गुप्त बातें लीक होगी। सलाह लेकर कार्य करना श्रेष्ठ रहेगा।

प्रोफेशन एवं व्यापार| व्यापार में सचेत रहें। नौकरी में तनाव संभव।

शिक्षा | पढ़ाई में समय का उपयोग होगा एवं नई बातें जानने को मिलेंगी।

स्वास्थ्य | कंधों एवं बांयी, आंख, कान में दर्द संभव है। धूल से बचकर रहें।

प्रेम ¿ साथी से संबल प्राप्त, वैवाहिक साथी के साथ भ्रमण का मौका।

करने योग्य : शिवजी को शाम को घी का दीप लगाएं।

कर्क

पंचम स्थान में गोचर विरोधी नुकसान पंहुचाने का प्रयास करेंगे। साथियों के साथ वैचारिक मतभेद। बुध एवं गुरुवार ज्यादा परेशानी देने वाले हो सकते हैं। आय में भी गिरावट रहेगी। शुक्रवार से समय पक्ष का हो जाएगा। नए वाहन खरीदने का मन होगा एवं धार्मिक अनुष्ठान में शामिल होंगे।

प्रोफेशन एवं व्यापार| व्यापार सामान्य से अच्छा। नौकरी में सहयोग मिलेगा।

शिक्षा | आत्मविश्वास रहेगा एवं अध्ययन बेहतर चलता रहेगा।

स्वास्थ्य | पैर में ठोकर से चोट एवं तीखे औजार से कट लग सकता है।

प्रेम ¿ साथी की बातें चुभने वाली। प्रेम प्रस्ताव स्वीकार, वैवाहिक प्रस्ताव मिलेंगे।

करने योग्य : श्रीराम दरबार का दर्शन, मीठा अर्पण करें।



साप्ताहिक राशिफल

िसंह

स्वामी सूर्य की दृष्टि है। धन-सपंित्त में वृद्धि का विचार आएगा। आय बेहतर बनी रहेगी। कार्य में मन लगेगा एवं सफलता भी प्राप्त होगी। स्थायी संपित्त से लाभ होगा। विवादित मामलों में पक्ष मजबूत रहेगा। गुरु एवं शुक्रवार को आय में कमी एवं अनावश्यक तनाव। सप्ताहांत बेहतर रहेगा।

प्रोफेशन एवं व्यापार| धातुओं का व्यापार उत्तम रहेगा। नौकरी में सफलता।

शिक्षा | पढ़ाई उच्च कोटि की रहेगी। समस्याएं समाप्त होंगी।

स्वास्थ्य | दांत में दर्द एवं ब्लड प्रेशर की समस्याएं हो सकती हैं। कंधें में दर्द।

प्रेम ¿ साथी से बेहतर संवाद रहेगा। जीवनसाथी सुख प्रदान करेगा।

करने योग्य : गणपतिजी को लाल पुष्प अर्पण करें।

कन्या

चंद्र का गोचर, बुध-शुक्र की दृष्टि। आय उत्तम एवं पराक्रम श्रेष्ठ। अटके कार्य में गति आएंगी। समस्याओं से लड़ने की क्षमता प्राप्त होगी। कला में रुचि होगी। संतान से सहयोग प्राप्त एवं भाग्य का साथ प्राप्त। शुक्रवार की शाम से समस्याएं खड़ी हो सकती हैं। सावधान रहें। कीमती सामान की रक्षा करें।

प्रोफेशन एवं व्यापार| व्यापार में काम अधिक रहेगा व नौकरी में संतुष्ट।

शिक्षा | मेहनत सतत् जारी रहेगी। रुकावटें समाप्त होंगी।

स्वास्थ्य | सिरदर्द, चक्कर एवं मूत्र विकार हो सकता है। कमजोरी रहेगी।

प्रेम ¿ प्रेम में सफलता प्राप्त होगी। कुंवारों को वैवाहिक प्रस्तावों की प्राप्ति होगी।

करने योग्य : दुर्गाजी को नारियल अर्पित करें।

गुरुवार को मंगल की राशि वृश्चिक में चंद्रमा के साथ मंगल राशि परिवर्तन कर धनु में शनि के साथ जाएगा। मंगल-शनि की युति धनु में प्राकृतिक आपदाओं के साथ कई प्रकार के क्लेश उत्पन्न कर सकती है। दो देशों में युद्ध के हालात बन सकते हैं। व्यापार मद्धम एवं सेंसेक्स में गिरावट होगी।

तुला

गुरु के गोचर से बल प्राप्त होगा। आरंभ में द्वादश चंद्रमा से नुकसान हो सकता है। घर में अचानक मरम्मत का कार्य निकल सकता है। मंगलवार से समस्याओं का निदान प्राप्त होगा। गुरु एवं शुक्रवार सामान्य रहेंगे। यात्रा में विघ्न आ सकते हैं। शेष समय में कोई बड़ी समस्या नहीं आएगी।

प्रोफेशन एवं व्यापार| व्यापार में दिक्कत। नौकरी में मेहनत ज्यादा होगी।

शिक्षा | पढ़ाई औसत रह पाएंगी। विघ्न ज्यादा आएंगे, पर सफलता तय।

स्वास्थ्य | गले में खराश, खांसी। सिरदर्द एवं ज्वर आने की समस्याएं होंगी।

प्रेम ¿ साथी का व्यवहार उत्तम रहेगा एवं जीवन साथी से सुख प्राप्त होगा।

करने योग्य : हनुमानजी को तेल का दीपक लगाएं।

वृश्चिक

मंगल का गोचर संतान से सुख एवं बेहतर आय के साधन प्राप्त होंगे। योजनाएं सफल। धार्मिक कार्यक्रम में शामिल होने का मौका। मंगलवार शाम से गुरुवार की सुबह तक आय में कमी एवं चिंताएं अधिक हो सकती है। उसके पश्चात समय में सुधार। सप्ताहांत में मंगल राशि से निकल जाएगा।

प्रोफेशन एवं व्यापार| व्यापार में तेजी एवं नौकरी में समय अच्छा।

शिक्षा | अध्ययन में रुचि रहेगी एवं संसाधन उपलब्ध होगे।

स्वास्थ्य | नेत्रों में जलन। नींद अधिक। सिरदर्द व तनाव संभव।

प्रेम ¿ साथी से विवाद हो सकता है। वैवाहिक सुख में कमी आएगी।

करने योग्य : माता-पिता का चरण स्पर्श करेंं।

धनु

शनि का गोचर है। बैचेनी रहेगी। चंद्र के कारण आवक अच्छी। शरीर में विभिन्न हिस्सों में दर्द बना रहेगा। नकारात्मक समाचार ज्यादा मिलेंगे। गुरु एवं शुक्रवार को व्यय की अधिकता होगी एवं आय कम होगी। मंगल का प्रवेश राशि में होगा। सप्ताहांत में चंद्र भी आएगा। यह समय अनुकूल रहेगा।

प्रोफेशन एवं व्यापार| नौकरी में समयानुसार कार्य नहीं, व्यापार मद्धम।

शिक्षा | पढ़ाई की इच्छा होंगी, किंतु मन नहीं लगेगा।

स्वास्थ्य | वायु विकार एवं सिरदर्द चक्कर की समस्याएं हो सकती हैं।

प्रेम ¿ साथी से उपहार प्राप्त होगा। जीवनसाथी अनुकूल रहेगा।

करने योग्य : गुरुदेव का आर्शीवाद प्राप्त करें।

मकर

केतु का गोचर। आय बेहतर रहेगी एवं समस्याओं का समाधान होगा। धार्मिक यात्रा का योग है। सफलता का समाचार ऊर्जा प्रदान करेगा। कार्य में मन लगेगा एवं आगे बढ़ने के मौके प्राप्त। सप्ताहांत में संभलकर रहना होगा। वाहन प्रयोग में सावधानी रखें। व्यय की अधिकता होगी एवं कार्य में विघ्न आएंगे।

प्रोफेशन एवं व्यापार| व्यापार में व्यवधान। नौकरी में व्यवस्थित रहेगी।

शिक्षा | मौके का फायदा उठाने में सक्षम होगे। सहयोग प्राप्त होगा।

स्वास्थ्य | कान में दर्द होगा एवं हाथ में चोट लग सकती है।

प्रेम ¿ साथी का व्यवहार अनुचित। जीवनसाथी से सुख प्राप्त होगा।

करने योग्य : गणेशजी को घी का दीपक लगाएं।

कुंभ

गुरु-शनि-मंगल की दृष्टि प्राप्त होगी। आरंभ में कठिनाई होगी। बेवजह के विवाद हो सकते हैं। बुधवार से आय में वृद्धि होगी एवं कार्य समयानुसार होंगे। संतान भी अनुकूल हो जाएगी। नए वाहन खरीदने का मन होगा। न्यायालयीन कार्य में सफलता मिलेगी। घर में मांगलिक कार्य हो सकता है।

प्रोफेशन एवं व्यापार| व्यापार में सफलता मिलेगी, नौकरी में प्रमोशन के मौके।

शिक्षा | बेकार के कार्य से राहत मिलेगी। पढ़ाई में मन रहेगा।

स्वास्थ्य | पेट, कमर एवं सीने में दर्द होगा। गले में भी परेशानी हो सकती है।

प्रेम ¿ साथी से खुशी मिलेगी एवं वैवाहिक समस्याएं समाप्त होगी।

करने योग्य : शिवलिंग पर कच्चा दूध अर्पण करें।

मीन

चंद्र की दृष्टि से उत्साह बढ़ेगा। आय उत्तम रहेगी एवं पुरानी समस्याओं से निजात पाने का मौका प्राप्त होगा। योजनाएं सफल होगी एवं अटके कार्यों में गति आएंगी। मंगल-बुधवार को संभलकर रहें। गुरुवार से भाग्य का साथ मिलेगा एवं नए लाभदायक प्रस्तावों की प्राप्ति होगी। व्यर्थ के कार्यों से मुक्ति प्राप्त होगी।

प्रोफेशन एवं व्यापार| व्यापार में तेजी आएगी एवं नौकरी में सुधार आएगा।

शिक्षा | परीक्षा की तैयारी में तेजी आएगी एवं आत्मविश्वास बढ़ेगा।

स्वास्थ्य | पैर, घुटनों, एड़ी में दर्द होगा। बाल झडऩे की समस्याएं होंगी।

प्रेम ¿ प्रेम प्रस्ताव में सफलता एवं वैवाहिक सुख प्राप्त होगा।

करने योग्य : हनुमानजी को चमेली तेल, सिंदूर चढ़ाएं।

शुभ मुहूर्त

प्रसूति का स्नान (सुबह 9. 15 से 12.10 के बीच) 4 मार्च, रविवार

खेत जोतना, बीज बोना

(दिन में 10.30 से 1.30 के बीच) 6 मार्च, मंगलवार

गृह प्रवेश, नवीन व्यापार

(दिन में 4.30 से 7.30 के बीच) 8 मार्च, गुरुवार

व्रत-पर्व

5 मार्च, सोमवार संकष्टी चतुर्थीव्रत

6 मार्च, मंगलवार

श्री रंगपंचमी पर्व

8 मार्च, गुरुवार

शीतला सप्तमी

-डॉ. पं. हेमचंद्र पांडेय

ऐसा क्यों?

गणेशजी को दूर्वा क्यों?

अनल नामक दैत्य ने संसार को दुख दे रखा था। अनल को अर्थ है, अग्नि। जगत कल्याण हेतु गणेशजी इस अनल दैत्य को निगल गए थे, जिससे उनके पेट बड़ी भारी जलन हुई थी। इस जलन को मिटाने के लिए उन्होंने दूर्वा को सेवन किया था। तभी से उनको दूर्वा अर्पण की जाती है। दूर्वा पेट की जलन मिटाने हेतु प्रयोग होती है।