Hindi News »Rajasthan »Pali» बारां के शाहाबाद क्षेत्र में भी मिले क्रूड आयल के संकेत

बारां के शाहाबाद क्षेत्र में भी मिले क्रूड आयल के संकेत

आदित्य शर्मा/अनिल भार्गव | बारां/राजपुर सैटेलाइट सर्वे के आधार पर हाड़ौती में पेट्रोलियम पदार्थों की अच्छी...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 01:25 PM IST

आदित्य शर्मा/अनिल भार्गव | बारां/राजपुर

सैटेलाइट सर्वे के आधार पर हाड़ौती में पेट्रोलियम पदार्थों की अच्छी उपलब्धता के संकेत मिलने पर ओएनजीसी के तहत अल्फा जियाे इंडिया लिमिटेड की टीम ने जिले में सर्वे शुरू कर दिया है। खास बात यह है कि सर्वे में क्रूड ऑयल को लेकर अच्छे संकेत मिल रहे हैं। मशीनों से गहराई में जाकर ब्लॉस्ट कर एक्सरे लिया जा रहा है। इसकी रिपोर्ट मार्च 2019 तक आएगी। इसके बाद थ्री डी सर्वे किया जाएगा। उसकी फाइनल रिपोर्ट आने पर आगामी कार्रवाई प्रारंभ होगी। जिले में पेट्रोलियम पदार्थों की अच्छी मात्रा मिलने पर इस क्षेत्र के सरसब्ज होने की उम्मीद है।

पेट्रोलियम मंत्रालय की ओर से देशभर में जमीन के भीतर क्रूड ऑयल की मौजूदगी को लेकर सैटेलाइट सर्वे किया गया है। इसके आधार पर ओएनजीसी के तहत कंपनी अल्फा जियाे इंडिया लिमिटेड एमपी सहित प्रदेश के हाड़ौती में बारां, झालावाड़ और कोटा जिले में सर्वे करेगी। फिलहाल बारां के शाहाबाद ब्लॉक के मुहाल, ओडाखारा, बांसखेड़ा, समरानियां, गणेशपुरा आदि स्थानों पर सर्वे किया है। टीम समीपवर्ती एमपी के कराहल के जंगल में भी सर्वे कर रही है।



सूत्रों के अनुसार टीम को शाहाबाद क्षेत्र से अच्छे डाटा प्राप्त हो रहे हैं। टीम रिपोर्ट तैयार कर नमूनों का परीक्षण कराएगी। अच्छी संभावना वाले क्षेत्रों में थ्री डी सर्वे शुरू होगा। इसके परिणाम आने पर क्रूड ऑयल भंडारों की मौजूदगी की फाइनल रिपोर्ट मिलेगी। इंडिया सेक्टर 9 विंध्यान, नर्मदा और सतपुड़ा बेसिन में यह सर्वे किया जा रहा है।

ऐसे मिलती है पेट्रोलियम स्टॉक की जानकारी

कंपनी के फील्ड इंचार्ज अजय मिश्रा के अनुसार मुख्यत: यह सर्वे जमीन में क्रूड ऑयल और प्राकृतिक गैस की मौजूदगी को लेकर है। सैटेलाइट सर्वे में जमीन के भीतर हलचल के आधार पर पेट्रोलियम पदार्थों के भंडार का पता लगता है। निश्चित स्थान पर बोरिंग करने के बाद अंदर ब्लास्ट करते हैं और पूरा एक्स-रे लेते हैं। इसके साथ सेंटर भी लगाया जाता है, यह जमीन के भीतर की हलचल को रिकॉर्ड करता है। पूरी प्रक्रिया की वीडियोग्राफी की जाती है। यह डाटा मिलने पर छह माह बाद जांचा जाता है। इसमें पुख्ता होता है कि जमीन के अंदर कुछ है। इसके बाद थ्री डायमेंशनल सर्वे किया जाता है। वर्तमान में टू डायमेंशनल सर्वे किया जा रहा है।

60 से 100 मीटर की गहराई से ले रहे डाटा, अच्छे संकेत

कंपनी सूत्रों के अनुसार 60 से 100 मीटर की गहराई तक ड्रिलिंग करते हैं। इसमें एक्सरे व्यू के साथ कैमरा व्यू भी लिया जाता है। सैटेलाइट से सीधी पट्टियां मिली है। इसके अनुसार सर्वे प्रक्रिया हो रही है। शाहाबाद क्षेत्र में किए जा रहे सर्वे में प्राकृतिक गैस और क्रूड ऑयल को लेकर अच्छे संकेत मिल रहे हैं।

कंपनी के फील्ड इंचार्ज अजय मिश्रा के अनुसार मुख्यत: यह सर्वे जमीन में क्रूड ऑयल और प्राकृतिक गैस की मौजूदगी को लेकर है। सैटेलाइट सर्वे में जमीन के भीतर हलचल के आधार पर पेट्रोलियम पदार्थों के भंडार का पता लगता है। निश्चित स्थान पर बोरिंग करने के बाद अंदर ब्लास्ट करते हैं और पूरा एक्स-रे लेते हैं। इसके साथ सेंटर भी लगाया जाता है, यह जमीन के भीतर की हलचल को रिकॉर्ड करता है। पूरी प्रक्रिया की वीडियोग्राफी की जाती है। यह डाटा मिलने पर छह माह बाद जांचा जाता है। इसमें पुख्ता होता है कि जमीन के अंदर कुछ है। इसके बाद थ्री डायमेंशनल सर्वे किया जाता है। वर्तमान में टू डायमेंशनल सर्वे किया जा रहा है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Pali

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×