• Home
  • Rajasthan News
  • Pali News
  • उम्मेद मिल पर 10 करोड़ रुपए का इनपुट क्रेडिट टैक्स फर्जी तरीके से लेने का आरोप
--Advertisement--

उम्मेद मिल पर 10 करोड़ रुपए का इनपुट क्रेडिट टैक्स फर्जी तरीके से लेने का आरोप

एसडीआरआई की टीम कर रही है जांच भास्कर संवाददाता | पाली जिले की सबसे बड़ी कपड़ा मिल महाराज उम्मेद मिल पर 10 करोड़...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 05:45 AM IST
एसडीआरआई की टीम कर रही है जांच

भास्कर संवाददाता | पाली

जिले की सबसे बड़ी कपड़ा मिल महाराज उम्मेद मिल पर 10 करोड़ रुपए का फर्जी तरीके से इनपुट क्रेडिट टैक्स लेने का मामला सामने आया है। यह खुलासा एसडीआरआई यानि स्टेट डायरेक्टरेट ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस विभाग की ओर से हुई जांच में सामने आया है। इसको लेकर एसडीआरआई की टीम ने उम्मेद मिल पर छापा मार इससे जुड़े दस्तावेजों की जांच शुरू कर दी थी। एसडीआरआई के अधिकारियों ने बताया कि उम्मेद मिल्स कंपनी के मालिकों पर दस करोड़ रुपए का इनपुट क्रेडिट टैक्स फर्जी तरीके से लेने का आरोप है। वर्ष 2012 में आग लगने के बाद उम्मेद मिल के मालिकों की राख से माल बनाकर बेचने के मामले की जांच की तो कई चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। इसमें सामने आया कि ओम मेटल्स कंपनी के मालिक व श्री उम्मेद मिल्स कंपनी के मालिकों ने फर्जी तरीके से इनपुट टैक्स क्रेडिट का लाभ लेकर राज्य सरकार को दस करोड़ रुपए का चूना लगाया है। इसके लिए एसडीआरआई ने मिल पर छापे की कार्रवाई कर टैक्स चोरी संबंधित सभी दस्तावेज जब्त कर लिए है।

तीस दिन पहले कार्रवाई, नहीं तो सरकार को हो सकता था नुकसान

गौरतलब है कि एसडीआरआई की सतर्कता से बड़ी टैक्स चोरी का खुलासा किया है। क्योंकि तीस दिन बाद वैट का क्षेत्राधिकार समाप्त होने के बाद राज्य सरकार उम्मेद मिल्स कंपनी के इस फर्जीवाड़े पर कोई कार्रवाई नहीं कर पाती। ऐसे में राज्य सरकार को दस करोड़ रुपए से ज्यादा का चूना लगना तय था लेकिन इससे पूर्व ही जांच एजेंसी ने मिल्स के मालिकों पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है।