Hindi News »Rajasthan »Pali» इलाहाबाद व सिद्धार्थनगर में अांबेडकर की प्रतिमा तोड़ी

इलाहाबाद व सिद्धार्थनगर में अांबेडकर की प्रतिमा तोड़ी

भास्कर न्यूज नेटवर्क|इलाहाबाद उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद और सिद्धार्थनगर में कुछ अराजक तत्वों द्वारा संविधान...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 01, 2018, 04:10 AM IST

भास्कर न्यूज नेटवर्क|इलाहाबाद

उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद और सिद्धार्थनगर में कुछ अराजक तत्वों द्वारा संविधान निर्माता डॉ. भीमराव आंबेडकर की मूर्ति को तोड़कर माहौल बिगाड़ने की कोशिश की गई। इलाहाबाद के झूंसी में त्रिवेणीपुरम के पास शुक्रवार देर रात आंबेडकर प्रतिमा को तोड़ दिया। शनिवार को जब लोगों ने टूटी प्रतिमा को देखा तो हंगामा करने लगे और दोषियों को पकड़ने की मांग की।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी मामले में संज्ञान लेते हुए जांच के आदेश दिए हैं। पुलिस ने इस मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। इलाहाबाद में मूर्ति क्षतिग्रस्त होने की खबर मिलते ही सपा और बसपा के नेता और कार्यकर्ता भी मौके पर पहुंच गए। दोनों पार्टी के कार्यकर्ता पार्क में धरना देते हुए नई मूर्ति लगाने और मूर्ति तोड़ने वालों की गिरफ्तारी की मांग करने लगे।



स्थिति को देखते हुए पुलिस तैनात कर दी गई है। मौके पर पहुंचे फूलपुर सांसद नागेंद्र पटेल का आरोप है कि सूबे की सरकार बाबा साहब पर राजनीति तो कर रही लेकिन उनकी मूर्ति की सुरक्षा नहीं कर पा रही है। सिद्धार्थनगर जिले में शरारती तत्वों ने मूर्ति का दाहिना हाथ तोड़ दिया है। शनिवार की सुबह डुमरियागंज थाना क्षेत्र के गौहनिया गांव में हुई इस घटना से स्थानीय लोग आक्रोशित हैं और शरारती तत्वों की गिरफ्तारी के साथ मूर्ति बदलने की मांग को लेकर धरने पर बैठ गए थे।

दोषी के खिलाफ कठोर कार्रवाई करें: सीएम

गृह विभाग के माध्यम से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी कलेक्टर और एसपी को सख्त निर्देश दिए हैं कि वे अपने जनपद में स्थापित महापुरुषों की मूर्तियों की सुरक्षा में पूरी सतर्कता बरतें। उन्होंने कहा है कि इन घटनाओं के लिए लिए दोषी व्यक्तियों के विरुद्ध कठोरतम कार्रवाई करे, जिससे वे शांति-व्यवस्था भंग करने की स्थिति न उत्पन्न कर सकें।

भाजपा-संघ को दलितों की फिक्र नहीं : मायावती

बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि पिछड़ी जातियों और आदिवासियों के लोगों को लेकर भाजपा और आरएसएस को कोई परवाह नहीं है। वे अपनी इनके लिए काम करने के बजाय बाबासाहेब को ‘रामजी’ बनाने पर अधिक ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। वे केवल दलितों के वोट बैंक की राजनीति में रुचि रखते हैं और कुछ नहीं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Pali

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×