--Advertisement--

पूछताछ के लिए पेश नहीं हुए थे परिजन

मई 2016 में जब इंटर आर्ट्स का रिजल्ट आया, तो वैशाली जिले के वीआर कॉलेज के कई छात्र टॉपर लिस्ट में आए। इसी कॉलेज की रूबी...

Dainik Bhaskar

Apr 01, 2018, 04:10 AM IST
मई 2016 में जब इंटर आर्ट्स का रिजल्ट आया, तो वैशाली जिले के वीआर कॉलेज के कई छात्र टॉपर लिस्ट में आए। इसी कॉलेज की रूबी राय 444 अंक लाकर टॉपर बनी थी। मीडिया से बातचीत में उसने पॉलिटिकल साइंस को प्रोडिकल साइंस बताया था। इससे पता चला कि जिस छात्रा को सब्जेक्ट के बार में पता तक नहीं था, वह टॉपर बन गई। बच्चा राय वैशाली जिले के लालगंज में स्थित वी आर कॉलेज चलाता था। वह अपने कॉलेज के छात्रों से अच्छे अंक दिलाने के बदले मोटी रकम वसूलता था। उसने बिहार बोर्ड अध्यक्ष लालकेश्वर प्रसाद से गठजोड़ कर रखा था। वह बोर्ड अध्यक्ष के साथ मिलकर अपने कॉलेज के छात्रों को मनमाने मार्क्स दिलाता था। वह छात्रों की कॉपी बदलवा देता था और उसकी अलग से मार्किंग कराता था।

ईडी ने की कार्रवाई, अवैध कमाई को जमीन खरीदने में लगाया

पटना | प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शनिवार को बिहार में टॉपर घोटाले के मास्टरमाइंड अमित कुमार उर्फ बच्चा राय की 4.53 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त की। ईडी ने यह कार्रवाई मनी लॉन्ड्रिंग के केस में की है। ईडी ने 4 बार बच्चा राय की प|ी और अन्य परिजन को समन देकर पूछताछ के लिए बुलाया, लेकिन कोई पेश नहीं हुआ। इसके बाद ईडी ने यह कार्रवाई की। घोटाले का मुख्य आरोपी बच्चा राय जेल में है। उसकी गिरफ्तारी के बाद से उसकी प|ी और अन्य परिजन वैशाली जिले के लालगंज स्थित घर को छोड़कर फरार हैं। पूछताछ के लिए ईडी की टीम ने गांव में बच्चा राय के घर पर नोटिस चिपकाया, लेकिन इसका कोई नतीजा नहीं निकला। बच्चा राय ने अवैध तरीके से हुई अकूत कमाई जमीन खरीदने में लगाई थी। जांच एजेंसी को इसके अलावा भी उसके द्वारा कई जगहों पर निवेश के सबूत मिले हैं।

बिहार: टॉपर घोटाले के मास्टरमाइंड बच्चा राय की 4.5 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त

मई 2016 में हुआ था घोटाला

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..