Hindi News »Rajasthan »Pali» बिल गेट्स ने कहा- हाइपरलूप का कंसेप्ट कारगर नहीं होगा, इसकी सुरक्षा चुनौतीपूर्ण; ड्राइवरलेस-इलेक्ट्रिक कारें बेहतरीन साबित होंगी

बिल गेट्स ने कहा- हाइपरलूप का कंसेप्ट कारगर नहीं होगा, इसकी सुरक्षा चुनौतीपूर्ण; ड्राइवरलेस-इलेक्ट्रिक कारें बेहतरीन साबित होंगी

दुनिया के दूसरे बड़े अरबपति और माइक्रोसॉफ्ट के कोफाउंडर बिल गेट्स ने कहा है कि मुझे नहीं लगता कि हाइपरलूप का...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 01, 2018, 05:10 AM IST

बिल गेट्स ने कहा- हाइपरलूप का कंसेप्ट कारगर नहीं होगा, इसकी सुरक्षा चुनौतीपूर्ण; ड्राइवरलेस-इलेक्ट्रिक कारें बेहतरीन साबित होंगी
दुनिया के दूसरे बड़े अरबपति और माइक्रोसॉफ्ट के कोफाउंडर बिल गेट्स ने कहा है कि मुझे नहीं लगता कि हाइपरलूप का कंसेप्ट कारगर होगा। इसे सुरक्षित बनाना चुनौतीपूर्ण होगा। गेट्स रेडिट के एएमए (आस्क मी एनिंथिंग) सेशन में शामिल हुए थे। उन्होंने ट्रांसपोर्टेशन, क्रिप्टोकरेंसी समेत कई विषयों पर बात की।

एक यूजर ने गेट्स से पूछा कि आप फ्यूचर ट्रांसपोर्टेशन में गेट्स फाउंडेशन ध्यान क्यों नहीं दे रहा है। इस पर गेट्स का कहना था कि निजी सेक्टर ट्रांसपोर्टेशन में इनोवेशन के लिए काफी खर्च कर रहे हैं। मुझे उम्मीद है कि ऑटोनोमस व्हीकल और इलेक्ट्रिक कारें बेहतरीन साबित होंगी।





हाइपरलूप का कंसेप्ट 2013 में पहली बार टेस्ला सीईओ इलोन मस्क ने रखा था। उनकी बोरिंग कंपनी इस पर काम कर रही है। इस सिस्टम में लोगों को एक खास तरह के पॉड में सफर करवाया जाएगा। ये पॉड एक ट्यूब के अंदर करीब 1,000 किमी प्रतिघंटे की स्पीड से ट्रेवल करेंगे। इसके लिए भूमिगत सुरंगें बनानी होंगी। इससे पहले एमट्रेक सीईओ रिचर्ड एंडरसन भी हाइपरलूप की सफलता पर शंका जता चुके हैं। उनका मानना है कि इस सिस्टम पर होने वाले खर्च को मौजूदा पुल और सुरंगों को सुधारने में लगाना चाहिए।

गेट्स ने कहा कि उन्हें क्रिप्टोकरेंसी की वकालत करने वाले लोग पसंद नहीं हैं। जो लोग लंबे समय तक चलना चाहते हैं, उन्हें क्रिप्टोकरेंसी या सट्‌टेबाजी की जोखिम से बचना चाहिए। उन्होंने कहा कि मनी लॉन्ड्रिंग, टैक्स चोरी और टेरर फंडिंग को रोकने क्षमता प्रशंसनीय है। एक यूजर ने पूछा कि नकद पैसों का इस्तेमाल ड्रग्स खरीदने और न जाने किन-किन चीजों में हो रहा है, तो गेट्स का कहना था कि ये बात सही है कि छुप हुए नकद का इस्तेमाल गलती चीजों में हो रहा है लेकिन आप जब खुद मौजूद रहते हैं तो इस तरह की गड़बड़ियों की संभावना कम हो जाती है।

रेडिट एएमए एक इंटरेक्टिव सेशन होता है, जिसमें अलग-अलग क्षेत्रों के दिग्गजों का इंटरव्यू लिया जाता है। 2009 में इसकी शुरुआत हुई थी।

अब मैं सफल पिता बनने की कोशिश कर रहा हूं: गेट्स

जब गेट्स से पूछा गया कि आप खुद को पूरी तरह सफल कब मानेंगे तो उनका कहना था कि मेरे लिए सफलता के अलग-अलग मायने हैं। हाईस्कूल में था तो अच्छे स्कोर मिले। 20 की उम्र में था तो अच्छे कोड लिखने में सफल रहा। अब मैं अच्छा पिता बनने की कोशिश कर रहा हूं। गेट्स के मुताबिक दुनिया से पोलियो व मलेरिया खत्म करना और क्लाइमेट चेंज घटाना उनके प्रमुख लक्ष्य हैं। उनका मानना है कि टेक का इस्तेमाल हेल्थकेयर खर्च घटाने, शिक्षा सुधार और गरीबी दूर करने में होना चाहिए।





अपने नाम को लेकर पूछे सवाल में कहा कि आपको बहुत सारे हमनाम मिलते होंगे, मुझे कम ही मिले हैं। पर मुझे खास फर्क नहीं पड़ा। वैसे भी मेरा फॉर्मल नाम विलियम है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Pali News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: बिल गेट्स ने कहा- हाइपरलूप का कंसेप्ट कारगर नहीं होगा, इसकी सुरक्षा चुनौतीपूर्ण; ड्राइवरलेस-इलेक्ट्रिक कारें बेहतरीन साबित होंगी
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Pali

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×