--Advertisement--

जीडीपी ग्रोथ 5 तिमाही में सबसे तेज

उद्योग जगत ने जीडीपी वृद्धि दर 7.2% पर पहुंचने को अर्थव्यवस्था में तेजी का संकेत बताया है। उद्योग संगठनों का कहना है...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 05:10 AM IST
उद्योग जगत ने जीडीपी वृद्धि दर 7.2% पर पहुंचने को अर्थव्यवस्था में तेजी का संकेत बताया है। उद्योग संगठनों का कहना है कि मैन्युफैक्चरिंग और कुछ सेवा क्षेत्रों में सुधार से आर्थिक गतिविधियां बढ़ी हैं। सीआईआई के महानिदेशक चंद्रजीत बनर्जी ने एक बयान में कहा कि जीडीपी ग्रोथ में उल्लेखनीय बढ़ोतरी हुई है। इससे भारतीय अर्थव्यवस्था की क्षमता का पता चलता है। उन्होंने कहा कि तीसरी तिमाही की तेजी के बल पर चालू वित्त वर्ष में आर्थिक विकास दर के बढ़कर 6.6% पर पहुंचने का अनुमान है, जबकि पहले इसके 6.5% रहने की संभावना जताई गई थी। एसोचैम ने कहा कि मैन्युफैक्चरिंग, कंस्ट्रक्शन और कृषि क्षेत्र में सुधार से तीसरी तिमाही में आर्थिक गतिविधियां बढ़ी हैं। इससे अगले वित्त वर्ष में आर्थिक विकास दर में और अधिक तेजी आने की संभावना बनी है। संगठन ने कहा कि निर्यात सहित कुछ क्षेत्र हैं जिन पर अब भी ध्यान दिए जाने की जरूरत है। केयर रेटिंग्स के मुख्य अर्थशास्त्री मदन फडणवीस ने कहा कि नोटबंदी और जीएसटी का असर अब पीछे छूट गया है। हालांकि इकोनॉमी में तेजी के बारे में अभी कुछ कहना जल्दबाजी होगी। बहुत कुछ इस बात पर निर्भर करेगा कि मार्च तिमाही और उसके बाद नए साल में डिमांड कैसे बढ़ती है। अरिहंत कैपिटल मार्केट्स की अनिता गांधी के अनुसार ग्रोथ रेट भले बढ़ी हो, लेकिन इससे रिजर्व बैंक से ब्याज दरों में कटौती की उम्मीद कम नहीं हुई है। रिजर्व बैंक को ग्रोथ और महंगाई के बीच संतुलन बनाना है।

विशेषज्ञों ने कहा- ग्रोथ रेट भले बढ़ी हो, रिजर्व बैंक से ब्याज में कटौती की उम्मीद कम नहीं हुई

इंडस्ट्री ने कहा- अगले साल विकास दर में और तेजी की संभावना बनी

निवेश के इंडिकेटर ग्रॉस फिक्स्ड कैपिटल फॉर्मेशन में ग्रोथ 6.6% से बढ़कर 12%

सरकारी खर्च बढ़ा, लेकिन निजी क्षेत्र की खपत की ग्रोथ 5.6%

ग्रॉस फिक्स्ड कैपिटल फॉर्मेशन को इकोनॉमी में निवेश का इंडिकेटर माना जाता है। इसमें दिसंबर तिमाही में 12% बढ़ोतरी हुई है। निजी क्षेत्र की खपत का इंडिकेटर प्राइवेट कंजम्पशन एक्सपेंडिचर 5.6% ही बढ़ा है। सितंबर 2017 की तिमाही में इसमें 6.5% बढ़ोतरी हुई थी। सरकारी खर्च को बताने वाले इंडिकेटर गवर्मेंट कंजम्पशन एक्सपेंडिचर में दिसंबर तिमाही में 6.05% ग्रोथ है।

जीडीपी का ट्रेंड पीएमआई, आईआईपी और कंज्यूमर डिमांड के अनुरूप : देबरॉय

जीडीपी पर सीएसओ के दूसरे अग्रिम अनुमान पर प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद के चेयरमैन बिबेक देबराय ने कहा, आंकड़े बताते हैं कि इकोनॉमी सही रास्ते पर है। सरकार जो लगातार ढांचागत सुधार कर रही है, उससे आने वाली तिमाही में विकास दर में और तेजी आने के आसार हैं। उन्होंने कहा कि जीडीपी ग्रोथ का ट्रेंड पीएमआई, औद्योगिक उत्पादन (आईआईपी) और उपभोक्ता डिमांड के अनुरूप है।

कृषि, खनन, मैन्युफैक्चरिंग में सालाना ग्रोथ रेट घटने का अंदेशा

सेक्टर 2016-17 2017-18

कृषि एवं संबद्ध 6.3% 3%

खनन 13% 3%

मैन्युफैक्चरिंग 7.9% 5.1%

बिजली, गैस, पानी 9.2% 7.3%

कंस्ट्रक्शन 1.3% 4.3%

होटल, ट्रांसपोर्ट 7.2% 8.3%

फाइनेंस, रियल्टी 6.0% 7.2%

जन प्रशासन, रक्षा 10.7% 10.1%

कोर सेक्टर का उत्पादन जनवरी में 6.7% बढ़ा

नई दिल्ली|आठ
प्रमुख इंडस्ट्री सेक्टर के उत्पादन में जनवरी में 6.7% बढ़ोतरी हुई है। जनवरी 2017 में इसमें 3.4% और दिसबंर 2017 में 4.2% रही थी। अप्रैल 2017 से अब तक इसमें 4.3% ग्रोथ रही है। एक साल पहले इन 10 महीनों में ग्रोथ 5.1% रही थी। औद्योगिक उत्पादन के इंडेक्स (आईआईपी) में इन इंडस्ट्रीज की हिस्सेदारी 40.27% है। बुधवार को वाणिज्य मंत्रालय की तरफ से जारी आंकड़ों के मुताबिक जनवरी में कोयले के उत्पादन में 3%, रिफाइनरी प्रोडक्ट्स में 11%, और बिजली उत्पादन में 8.2% बढ़ोतरी हुई है।





लेकिन क्रूड ऑयल में 3.2%, प्राकृतिक गैस में 1% और उर्वरक उत्पादन में 1.6% गिरावट आई है।