• Home
  • Rajasthan News
  • Pali News
  • एयरसेल ने दिवालिया घोषित करने के लिए एनसीएलटी को किया आवेदन
--Advertisement--

एयरसेल ने दिवालिया घोषित करने के लिए एनसीएलटी को किया आवेदन

15,500 करोड़ रुपए के कर्ज में दबी मोबाइल सेवा प्रदाता कंपनी एयरसेल ने खुद को दिवालिया घोषित करने के लिए मुंबई के नेशनल...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 05:10 AM IST
15,500 करोड़ रुपए के कर्ज में दबी मोबाइल सेवा प्रदाता कंपनी एयरसेल ने खुद को दिवालिया घोषित करने के लिए मुंबई के नेशनल कंपनी लॉ ट्राइब्यूनल (एनसीएलटी) में आवेदन किया है। कंपनी का कहना है कि भारी वित्तीय दबाव के कारण वह बुरे वक्त से गुजर रही है।

कंपनी की ओर से यहां जारी बयान के अनुसार एक नए टेलीकॉम प्लेयर (जियो)की एंट्री से बढ़ी भारी प्रतिस्पर्धा, नियामकीय और कानूनी चुनौतियां, असहनीय ऊंचे दर्जे का कर्ज और लगातार हो रहे घाटे जैसे कारणाें की वजह से कंपनी के कारोबार और इसकी साख पर बड़ा असर पड़ा है। सूत्रों के अनुसार कंपनी के इस नोटिस में कहा गया कि वॉयरलेस कारोबार को किसी दूसरे ऑपरेटर के साथ विलय करने के प्रयास भी सफल नहीं हो पाए। कंपनी ने कहा कि कर्जदाताओं और शेयरधारकों के साथ लंबी बातचीत के बावजूद किसी नतीजे पर नहीं पहुंचा जा सका।



इन हालातों में इन्सोल्वेंसी और बेंन्क्रप्सी कोड के तहत संचालित की जाने वाली प्रक्रिया के अलावा कोई चारा नहीं बचा। कंपनी ने कहा कि वह अपने ग्राहकों को निर्बाध सेवा प्रदान करने का प्रयास करेगी।

राजस्थान में 35 लाख ग्राहक: एयरसेल के राजस्थान में 35 लाख ग्राहक बताए जाते हैं जिनमें से अधिकांश प्री-पैड हैं। खास तौर पर ग्रामीण क्षेत्रों में इसके ग्राहक अधिक हैं।

यह रहेगी प्रक्रिया

अगर नेशनल कंपनी लॉ ट्राइब्यूनल एयरसेल की दिवालिया घोषित करने की अपील पर विचार करता है तो वह एक इनसॉल्वेंसी रेजॉलूशन प्रोफेशनल नियुक्त करेगा जिसे 270 दिनों के भीतर कंपनी के रीपेमेंट प्लान तैयार करना होगा। अगर रेजॉलूशन प्रोफेशनल ट्राइब्यूनल को रीपेमेंट प्लान देने में या उसपर सहमति बनाने में नाकामयाब रहता है तो कंपनी को बैंकरप्ट घोषित करके इसके लिक्विडेशन की प्रकिया शुरू कर दी जाएगी।