--Advertisement--

कर्नाटक के सीएम, डिप्टी सीएम रहे आयोजन से दूर; भाजपा का विरोध

कर्नाटक के गठबंधन सहयोगियों जेडीएस- कांग्रेस में मतभेद, तकरार एजेंसी | बेंगलुरू भाजपा और अन्य दक्षिणपंथी...

Dainik Bhaskar

Nov 11, 2018, 08:50 AM IST
Ras - karnataka cm deputy cm is away from organizing bjp39s opposition
कर्नाटक के गठबंधन सहयोगियों जेडीएस- कांग्रेस में मतभेद, तकरार

एजेंसी | बेंगलुरू

भाजपा और अन्य दक्षिणपंथी संगठनों के विरोध के बीच शनिवार को कर्नाटक में टीपू सुल्तान की जयंती मनाई गई। कड़ी सुरक्षा के तहत कई जिलों में धारा 144 भी लागू थी। विरोध प्रदर्शन करने पर भाजपा के तीन विधायक और सैकड़ों कार्यकर्ता गिरफ्तार भी किए गए। विवाद से बचने के लिए मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी और उपमुख्यमंत्री जी परमेश्वर टीपू जयंती के कार्यक्रमों से दूर रहे।

कुमारस्वामी डॉक्टर की सलाह पर 11 नवंबर तक आराम करने का हवाला देकर आयोजन से दूर रहे। निमंत्रण पत्रों पर भी उनका नाम नहीं था। उपमुख्यमंत्री जी परमेश्वर को विधानसभा में मुख्य कार्यक्रम का उद्घाटन करना था, लेकिन उनके शहर से बाहर होने की बात कही गई थी। ऐसे में मुख्य कार्यक्रम फीका रहा। मुख्यमंत्री के टीपू जयंती से दूर रहने की घोषणा के बाद सत्तारूढ़ गठबंधन सहयोगियों जेडीएस और कांग्रेस के बीच तकरार की भी चर्चाएं हैं।

भाजपा के तीन विधायक, कार्यकर्ता गिरफ्तार

कड़ी पुलिस सुरक्षा में मनी जयंती

कोडागु में विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष एवं विराजपेट से भाजपा विधायक केजी बोपैया को विरोध प्रदर्शन पर गिरफ्तार कर लिया गया। विधान परिषद सदस्य सुनील सुब्रमण्या को काले झंडे दिखाने पर मदिकेरी से पकड़ा गया। यहीं से विधायक अपाचु रंजन को भी गिरफ्तार किया गया। जगह-जगह भाजपा कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की।

कांग्रेस के विधायक बोले- मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री का कार्यक्रम से दूर रहना मुस्लिमों का अपमान है

कांग्रेस के विधायक और पूर्व मंत्री तनवीर सैत ने टीपू जयंती के कार्यक्रम से मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री की गैर मौजूदगी को मुस्लिमों का अपमान बताया है। उन्होंने कहा, ‘नई सरकार की यह पहली टीपू जयंती थी। लेकिन सीएम डॉक्टर की सलाह पर आराम कर रहे हैं। उपमुख्यमंत्री विदेश दौरे पर हैं। इसमें कोई संदेह नहीं कि यह परिस्थितियां मुस्लिम समुदाय के लिए अपमानजनक हैं।’ कांग्रेस सूत्रों के अनुसार पार्टी के कई मुस्लिम विधायक इस मुद्दे पर मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री से नाराज हैं। वहीं, पूर्व मुख्यमंत्री सिद्दारमैया ने कहा कि टीपू जयंती के कार्यक्रमों का विरोध करने वाले लोग सांप्रदायिक हैं।

कुमारस्वामी ने 3 साल पहले जयंती का विरोध किया था

कुमारस्वामी ने विपक्ष में रहते हुए पिछली सिद्दारमैया सरकार के टीपू जयंती मनाने के फैसले पर सवाल उठाए थे। सिद्दारमैया ने 2015 से 10 नवंबर को टीपू जयंती मनाने की शुरुआत की थी। टीपू को 18वीं शताब्दी का धर्मांध शासक, कर्नाटक-केरल में बड़ी संख्या में हिंदुओं की हत्या करवाने वाला बताते हुए भाजपा जयंती मनाने का विरोध करती है।

X
Ras - karnataka cm deputy cm is away from organizing bjp39s opposition
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..