• Home
  • Rajasthan News
  • Pali News
  • फ्रांस में लड़कियों को देखकर सीटी बजाने पर 60 हजार रु. जुर्माना लगेगा; युवा बोले- ऐसे तो फ्रेंच रोमांस की परंपरा ही खत्म हो जाएगी
--Advertisement--

फ्रांस में लड़कियों को देखकर सीटी बजाने पर 60 हजार रु. जुर्माना लगेगा; युवा बोले- ऐसे तो फ्रेंच रोमांस की परंपरा ही खत्म हो जाएगी

फ्रांस सरकार ने मनचलों को रोकने के लिए यौन उत्पीड़न कानून को कड़ा किया है। इसके तहत अब लड़कियों को देखकर सीटी बजाना,...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 03:15 AM IST
फ्रांस सरकार ने मनचलों को रोकने के लिए यौन उत्पीड़न कानून को कड़ा किया है। इसके तहत अब लड़कियों को देखकर सीटी बजाना, भद्दे कमेंट पास करना, उनके नंबर मांगना, पीछा करना अपराध की श्रेणी में आएगा। इसके अलावा बिल में लिखा गया है कि हर वो कृत्य जो महिलाओं की आजादी का उल्लंघन करता है और उनके आत्मसम्मान और सुरक्षा के अधिकार को कम करता है, इस कानून के दायरे में आएगी। ऐसा करते पकड़े जाने पर 750 यूरो का जर्माना लगेगा। फ्रांस की संसद ने बुधवार रात इस कानून को पास किया। सांसदों का कहना है कि इस नए कानून से लड़कियों से साथ बढ़ रही छेड़छाड़ की घटनाओं को रोकने में मदद मिलेगी। इसके जरिए राष्ट्रपति मैक्रों घर से बाहर महिलाओं को सुरक्षित माहौल उपलब्ध कराना चाहते हैं। पिछले साल एक सर्वे आने के बाद कानून को कड़ा करने के लिए पांच सांसदों की कमेटी बनाई गई थी। इस सर्वे के मुताबिक देश की सभी महिलाओं को सार्वजनिक जगहों पर बदसलूकी का सामना करना पड़ा। इसमें से 50% से ज्यादा लोगों ने कहा था कि उनके साथ पहली बार छेड़खानी तब हुई, जब वो 18 साल से कम उम्र की थी। यानी नाबालिग थी। इससे वो परेशन होती हैं। पर कुछ नहीं कर सकती, क्योंकि यहां माना जाता है कि इसमें कुछ भी गलत नहीं है। यूरोपीय देशों में बेल्जियम, पुर्तगाल जैसे कुछ देशों में इस तरह के कानून हैं, जिसमें उन हरकतों को चिह्नित किया गया है, जो यौन उत्पीड़न की श्रेणी में आते हैं। हालांकि सोशल मीडिया पर लोग इस नए कानून की आलोचना भी कर रहे हैं। लोगों का कहना है कि यह कानून फ्रेंच रोमांस को खत्म कर देगा। वहीं कुछ लोगों का कहना है कि फ्रांस में इस कानून का पालन संभव नहीं है।

फ्रांस ने यौन उत्पीड़न कानून कड़ा किया; पीछा करना, भद्दे कमेंट करने जैसी हरकतें हुई अब अपराध

महिला मंत्री मर्लिना ने देशभर में कड़े कानून के पक्ष में की लॉबिंग, इस तरह दिए तर्क

इस कानून के लिए फ्रांस सरकार में मंत्री मर्लिना शियप्पा लॉबिंग कर रही थी। वो लोगों से कहती थी कि पुरुष महिलाओं का पीछा करते हैं। उनसे जबरिया बात करते हैं। और महिलाएं उनके खिलाफ कुछ नहीं कर सकती। क्योंकि वो अकेले हंै। वो शोर तक नहीं मचाती, क्योंकि उसे लगता है कि इसमें कुछ भी गलत नहीं है। ऐसा तो होता ही है। मैं भागती रहूंगी और बच जाऊंगी। पुरुषों को लगता है यह सही है। वे खुकद को फ्रेंच लव समझते हैं। ये कोई बड़ी डील नहीं है। यह सब तो मैं मस्ती के लिए कर रहा हूं।

संसद में बहस करतीं मर्लिना शियप्पा।