--Advertisement--

पीर दूल्हेशाह बाबा के उर्स के अंतिम दिन निभाई फूल की रस्म

चोटिला दरगाह पर चल रहे पीर दुलेशाह के तीन दिवसीय उर्स मेले का शनिवार को फूल की रस्म के साथ समापन हुआ। मेले में...

Dainik Bhaskar

Nov 11, 2018, 08:51 AM IST
Ras - purna dulheshah baba39s urs on the last day of the flower ritual played
चोटिला दरगाह पर चल रहे पीर दुलेशाह के तीन दिवसीय उर्स मेले का शनिवार को फूल की रस्म के साथ समापन हुआ। मेले में हजारों अकीदतमंदों ने पहुंचकर इबादतगाह पर फूल चढाएं और अमन चैन की दुआएं मांगी। अंतिम दिन भी हजारों मोमिनों ने बाबा ही चौखट पर मत्था टेका। शनिवार को मेले का अंतिम दिन होने के कारण चोटिला में अकीदतमंदों की जबरदस्त भीड़ देखी गई। चोटिला मेले को लेकर अंतिम दिन दिनभर धार्मिक कार्यक्रमों का दौर चला, जिसमें सम्मिलित होने के लिए राज्य भर से बड़ी संख्या में जायरीन पीर दुलेशाह दरगाह पहुंचे। उर्स के अंतिम दिन को लेकर यहां पर मेले सा माहौल रहा। हजारों मोमिनों ने बाबा के दरबार में उपस्थिति दर्ज करा अकीदत के साथ फूल चढाएं। मेले में पहुंचे जायरीन ने झूलों तथा लजीज व्यंजनों का जमकर लुत्फ उठाया। मेले को सफल बनाने के लिए अध्यक्ष अमजद अली रंगरेज, मेला संयोजक नूरअली रंगरेज, सेक्रेटरी हाजी तुराब अली, कैशियर हाजी महबूब अली, उपाध्यक्ष रफीक भाई अब्बासी, हाजी अली बीएस, इरफान अली रंगरेज सहित दरगाह कमेटी के कई सदस्यों का सहयोग रहा।

हजारों जायरीन पहुंचे चोटिला दरगाह : उर्स में बड़ी संख्या में जायरीनों ने उत्साह के साथ भाग लिया। जिनमें विभिन्न समाजों के लोगों ने यहां अपने-अपने समाज के नाम के अनुसार मोहल्ला बना कर तीन दिन तक निवास किया। पीर दुलेशाह उर्स में जिले के साथ साथ बाहर के भी हजारों जायरीनों ने भाग लिया।

बुजुर्गों के लिए आयोजित हुई दौड़ प्रतियोगिता

उर्स के अंतिम दिन दरगाह कमेटी की ओर से बुजुर्गों के लिए दौड़ प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसमें 50 से अधिक साल के युवाओं ने भाग लिया। दौड़ में प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान प्राप्त करने के लिए बुजुर्गों ने पूरे जोश के साथ दौड़ लगाई। इसके बाद विजेताओं को कार्यक्रम के अंत में पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया। इसके बाद प्रदेशभर से आए युवाओं के लिए रस्साकसी प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसमें 18 से 40 वर्ष तक के युवाओं ने उत्साह के साथ भाग लेकर रस्साकसी में जमकर अपना दम आजमाया।

जायरीनों ने जमकर की खरीदारी

उर्स में शरीक होने प्रदेशभर से पहुंचे जायरीनों ने तीन दिन तक चोटिला में हीं निवास किया। अंतिम दिन सभी लोगों ने जमकर खरीददारी की। वहीं महिलाओं व युवतियों लजीज व्यंजनों को लुत्फ उठाया तो युवाओं व युवतियों ने विभिन्न प्रकार के झूलों का आनंद लिया।

X
Ras - purna dulheshah baba39s urs on the last day of the flower ritual played
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..