ओलिंपिक के 12 खेल प्राथमिकता में नहीं, खिलाड़ियों को अपने खर्च पर इंटरनेशनल इवेंट में उतरना पड़ता है

Pali News - अगले साल टोक्यो में ओलिंपिक गेम्स होने हैं। इनमें कुल 33 खेलों को शामिल किया गया है। लेकिन इनमें से 12 खेल भारत सरकार...

Bhaskar News Network

Sep 14, 2019, 07:10 AM IST
Bar News - rajasthan news 12 olympic games not a priority players have to go to international event at their expense
अगले साल टोक्यो में ओलिंपिक गेम्स होने हैं। इनमें कुल 33 खेलों को शामिल किया गया है। लेकिन इनमें से 12 खेल भारत सरकार की प्राथमिकता लिस्ट से बाहर है। यानी इन खेल के खिलाड़ियों को साई से किसी तरह की मदद नहीं मिलती। इन खिलाड़ियों को अपने खर्च पर ही इंटरनेशनल इवेंट में उतरना पड़ता है। एक इंटरनेशनल इवेंट में जाने के लिए खिलाड़ी को औसतन 80 हजार से एक लाख रुपए तक खर्च करने पड़ते हैं। इस कारण कई बार खिलाड़ी कई टूर्नामेंट में शामिल भी नहीं हो पाते हैं।

उच्च प्राथमिकता और प्राथमिकता वाले खेल के खिलाड़ियों के विदेशों में ट्रेनिंग से लेकर इंटरनेशनल टूर्नामेंट तक के खर्च स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (साई) उठाता है। जबकि जनरल और अन्य खेलों की लिस्ट में शामिल एसोसिएशन को सिर्फ नेशनल के आयोजन के लिए पैसे दिए जाते हैं। वो भी बहुत कम। सब जूनियर नेशनल के लिए 10 हजार, जूनियर नेशनल के लिए 7 हजार और सीनियर नेशनल के लिए 5 हजार रु. दिए जाते हैं। अन्य खेलों में शामिल खिलाड़ियों को इंटरनेशनल की सुविधा नहीं है। उन्हें खुद खर्च कर टूर्नामेंट में उतरना पड़ता है।

फेंसिंग: भवानी ने कॉमनवेल्थ में मेडल जीते, लेकिन मदद निजी फाउंडेशन से मिली

फेंसिंग में ओलिंपिक में कुल 12 गोल्ड हैं। इसके बाद भी यह हमारी प्राथमिकता लिस्ट में नहीं है। भारतीय खिलाड़ी भवानी देवी काॅमनवेल्थ चैंपियनशिप में एक सिल्वर, दो ब्रॉन्ज और एशियन चैंपियनशिप में भी एक सिल्वर, दो ब्रॉन्ज मेडल जीत चुकी हैं। पिछले साल इंटरनेशनल टूर्नामेंट में 26 साल की भवानी ने सिल्वर मेडल जीता। वे ओलिंपिक के लिए भी क्वालिफाई कर सकती हैं। शुरुआत में उन्हें काफी संघर्ष करना पड़ा। बाद में निजी फाउंडेशन गो स्पोर्ट्स से उन्हें मदद करने लगा। फेंसिंग फेडरेशन के महासचिव बशीर खान ने कहा कि हमारा खेल रैंकिंग पर आधारित है। ऐसे में जो खिलाड़ी जितने अधिक टूर्नामेंट खेलता है उसे उतने अधिक पॉइंट मिलते हैं।

स्केट बोर्डिंग: अभिजीत ने वर्ल्ड गेम्स में गोल्ड जीता

12वीं के स्टूडेंट अभिजीत अमलराज ने इस साल वर्ल्ड रोलर गेम्स में स्केट बाेर्डिंग में देश को गोल्ड दिलाया। इससे पहले वे दो सिल्वर और एक ब्रॉन्ज मेडल जीत चुके हैं। स्केट बोर्डिंग ओलिंपिक में शामिल है। इंटरनेशनल इवेंट में खिलाड़ी अपने खर्चे पर उतरते हैं। अभिजीत इस बार ओलिंपिक में आइस स्केटिंग में क्वालिफाई करने के लिए मेहनत कर रहे हैं। फेडरेशन के सचिव नरेश कुमार ने बताया कि अगर इन खेलों में ध्यान दिया जाए तो हमें इंटरनेशनल स्तर पर कई मेडल मिलेंगे।

सरकार ने 56 खेलों को चार कैटेगरी में बांटा, उच्च प्राथमिकता वाले खेलों को सपोर्ट लेकिन अन्य को नहीं

भवानी अब ओलिंपिक क्वालिफायर की तैयारी में जुटी हुई हैं।

कराते: पैसे की कमी की वजह से दक्ष वर्ल्ड चैंपियनशिप में नहीं जाएंगे

कराते के खिलाड़ियों ने पिछले तीन साल में इंटरनेशनल टूर्नामेंट में 10 मेडल जीते हैं। नेशनल में दो गोल्ड और 4 सिल्वर जीतने वाले मप्र के दक्ष सिंह ने चिली में नवंबर में होने वाले वर्ल्ड चैंपियनशिप के लिए क्वालिफाई किया। लेकिन उन्हें इसमें शामिल होने के लिए 1 लाख 75 हजार रुपए खुद देने थे। इस कारण उन्होंने अपना नाम टूर्नामेंट से वापस ले लिया। इस साल वर्ल्ड यूथ चैंपियनशिप में कराते के खिलाड़ियों को एक सिल्वर और एशियन चैंपियनशिप में एक ब्रॉन्ज मेडल मिला। 2017 में पांच और 2018 में तीन मेडल मिले थे। फेडरेशन के सचिव भरत शर्मा ने बताया कि कराते 2020 ओलिंपिक में है। लेकिन यहां क्वालिफाई करने के बाद खिलाड़ियों को खुद अपनी व्यवस्था करनी होगी। यह बड़ी दिक्कत है।

ओलिंपिक में शामिल ये खेल प्राथमिकता में नहीं हैं बेसबॉल, फेंसिंग, गोल्फ, कराते, मॉर्डन पेंटाथलॉन, रग्बी-7, स्केट बोर्डिंग, सॉफ्टबॉल, क्लाइंबिंग, सर्फिंग, ताइक्वांडो और ट्रायथलॉन।

रग्बी में महिला टीम एशिया की 9वीं जबकि पुरुष टीम 12वीं वरीयता वाली

रग्बी में महिला और पुरुष टीम का प्रदर्शन पिछले कुछ सालों में बेहतर हुआ है। महिला टीम की एशिया रैंकिंग 9 जबकि पुरुषों की 12 है। फेडरेशन के जनरल मैनेजर नासिर हुसैन ने बताया कि रग्बी-7 ओलिंपिक में शामिल है। हमारी महिला टीम इंटरनेशनल इवेंट में अच्छा कर रही है। वहीं मॉडर्न पेंटाथलॉन के संयुक्त सचिव विकास गुप्ता ने कहा कि 2018 एशिया कप में दो ब्रॉन्ज जीते। ट्रायथलॉन फेडरेशन ऑफ इंडिया के राकेश गुप्ता ने बताया कि सैफ खेलों में इंडिविजुअल में गोल्ड और सिल्वर मिला।

लिस्ट बदलती रहती है, नए खेल शामिल होंगे

साई के एक अधिकारी ने कहा कि हम प्रदर्शन के अाधार पर हर साल लिस्ट तैयार करते हैं। आने वाले समय में इसमें बदलाव किया जाएगा। वहीं अगर कुछ खेल लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं तो उन्हें आने वाले समय में लिस्ट में शामिल किया जाएगा।

इन चार कैटेगरी में 56 खेलों को बांटा गया है

उच्च प्राथमिकता एथलेटिक्स, बैडमिंटन, बॉक्सिंग, हॉकी, टेनिस, शूटिंग, वेटलिफ्टिंग, रेसलिंग। प्राथमिकता बास्केटबॉल, बिलिय‌र्ड्स एंड स्नूकर, ब्रिज, चेस, साइक्लिंग, डीफ स्पोर्ट्स, घुड़सवारी, फुटबाॅल, हैंडबॉल, जूडो, कबड्‌डी, कयाकिंग-केनोइंग, पैरा स्पोर्ट्स, रोइंग, स्कूल गेम्स, सेपक टकरा, स्पेशल भारत, स्क्वॉश, स्वीमिंग, टेबल टेनिस, वॉलीबॉल, वुशू, याचिंग। जनरल फेंसिंग। अन्य आट्या-पाट्या, बाॅल बैडमिंटन, बेसबॉल, बॉडी बिल्डिंग, साइकल पोलो, कराते, खो-खो, कुडो, मलखंब, मोटर स्पोर्ट्स, नेटबॉल, पेनक सिलट, पोलो, रोल बॉल, रोलर स्केटिंग, रग्बी, शूटिंग बॉल, सॉफ्टबॉल, सॉफ्ट टेनिस, टेनीक्वाइट, टेनिस बॉल क्रिकेट, टेन पिन बॉलिंग, ट्रायथलॉन, टग ऑफ वार।

ओलिंपिक के मुकाबले 24 जुलाई से 9 अगस्त तक टोक्यो में होने हैं

Bar News - rajasthan news 12 olympic games not a priority players have to go to international event at their expense
Bar News - rajasthan news 12 olympic games not a priority players have to go to international event at their expense
X
Bar News - rajasthan news 12 olympic games not a priority players have to go to international event at their expense
Bar News - rajasthan news 12 olympic games not a priority players have to go to international event at their expense
Bar News - rajasthan news 12 olympic games not a priority players have to go to international event at their expense
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना