• Hindi News
  • Rajasthan
  • Pali
  • Pali News rajasthan news 49 days will be the aquarius expectation of 15 million people coming to the world39s largest temporary city spending rs 4300 crore
--Advertisement--

49 दिन चलेगा कुंभ; दुनिया के सबसे बड़े अस्थायी शहर में 15 करोड़ लोगों के आने की उम्मीद, खर्च : 4300 करोड़ रु.

Dainik Bhaskar

Jan 14, 2019, 05:56 AM IST

Pali News - 10 करोड़ लोगों के मोबाइल पर मैसेज भेज कुंभ में आने का निमंत्रण दिया गया है भास्कर न्यूज | प्रयागराज दुनिया का...

Pali News - rajasthan news 49 days will be the aquarius expectation of 15 million people coming to the world39s largest temporary city spending rs 4300 crore
10 करोड़ लोगों के मोबाइल पर मैसेज भेज कुंभ में आने का निमंत्रण दिया गया है

भास्कर न्यूज | प्रयागराज

दुनिया का सबसे बड़ा धार्मिक और आध्यात्मिक मेला प्रयागराज कुंभ मंगलवार को मकर संक्रांति के साथ शुरू हो रहा है। यह 15 जनवरी से 4 मार्च तक कुल 49 दिन चलेगा। इस बार इसमें करीब 13 से 15 करोड़ लोगों के आने की उम्मीद है। इसमें करीब 10 लाख विदेशी नागरिक शामिल होंगे। यूपी सरकार कुंभ 2019 को अब तक का सबसे दिव्य और भव्य कुंभ बता रही है।

सरकार के मुताबिक पहली बार मेला क्षेत्र करीब 45 वर्ग किमी के दायरे में फैला है। पहले यह सिर्फ 20 वर्ग किमी इलाके में ही हाेता था। मेले में 50 करोड़ की लागत से 4 टेंट सिटी बसाई गई हैं, जिनके नाम कल्प वृक्ष, कुंभ कैनवास, वैदिक टेंट सिटी, इन्द्रप्रस्थम सिटी हैं। कुंभ के दौरान प्रयागराज में दुनिया का सबसे बड़ा अस्थायी शहर बस जाता है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक कुंभ के आयोजन पर 4300 करोड़ रुपए खर्च हो रहे हंै। इस बार कुंभ की थीम- स्वच्छ कुंभ और सुरक्षित कुंभ है। सरकार ने 10 करोड़ लोगों के मोबाइल पर मैसेज भेजकर उन्हें कुंभ में आने का निमंत्रण भी दिया है।

आस्था| कुंभ में 6 मुख्य स्नान पर्व, जिनमें तीन शाही स्नान

भारत में 4 जगहों पर कुंभ होता है। इनके नाम- प्रयागराज, हरिद्वार, उज्जैन और नासिक हैं। इनमें से हर स्थान पर 12वें साल कुंभ होता है। प्रयाग में दो कुंभ पर्वों के बीच 6 साल के अंतराल में अर्धकुंभ भी होता है। प्रयागराज में पिछला कुंभ 2013 में हुआ था। 2019 में यह अर्द्धकुंभ है। हालांकि यूपी सरकार इसे कुंभ बता रही है। प्रयागराज में पूर्ण कुंभ 2025 में होगा।

दुनिया का सबसे बड़ा धार्मिक और अाध्यात्मिक मेला प्रयागराज कुंभ कल से

कब आता है कुंभ: प्रयागराज कुंभ मेला मकर संक्रांति के दिन शुरू होता है, जब सूर्य और चंद्रमा वृश्चिक राशि में और बृहस्पति मेष राशि में प्रवेश करते हैं।

मान्यता: कुंभ का मतलब कलश होता है। इसका संबंध समुद्र मंथन के दौरान अंत में निकले अमृत कलश से है। मान्यता है कि देवता-असुर जब अमृत कलश को एक दूसरे से छीन रहे थे, तब उसकी कुछ बूंदें धरती की तीन नदियों में गिरी थीं। जहां ये बूंदें गिरीं, वहीं पर कुंभ होता है। इन नदियों के नाम- गंगा, गोदावरी और क्षिप्रा हैं।

शाही स्नान: 15, 21 जनवरी, 4,10,19 फरवरी, 4 मार्च

इतिहास: हर्षवर्धन ने अपना सबकुछ दान कर दिया था



टेंट सिटी में बने इस लग्जरी कॉटेज का एक दिन का किराया 12 हजार रुपए है।

पाली, सोमवार, 14 जनवरी, 2019

सुविधा|690 किमी लंबी पानी की पाइपलाइन बिछाई गई





मेले में 4 टेंट सिटी, इसमें एक लाख कॉटेज हैं

कुंभ से पहले का संगम

कुंभ की खास बातें...

फोटो : ताराचंद गवारिया











11

Pali News - rajasthan news 49 days will be the aquarius expectation of 15 million people coming to the world39s largest temporary city spending rs 4300 crore
X
Pali News - rajasthan news 49 days will be the aquarius expectation of 15 million people coming to the world39s largest temporary city spending rs 4300 crore
Pali News - rajasthan news 49 days will be the aquarius expectation of 15 million people coming to the world39s largest temporary city spending rs 4300 crore
Astrology

Recommended

Click to listen..