• Hindi News
  • Rajasthan
  • Pali
  • Pali News rajasthan news amrita haat fair anita started business to become a drawing power honored with president at kamarunnisha embroidery

अमृता हाट मेला: अनिता ने ड्रॉइंग काे ताकत बना व्यवसाय शुरूकिया, कमरुन्निशा कशीदाकारी में राष्ट्रपति से हुईं सम्मानित

Pali News - एक छाेटी सी शुरुआत ही अापकाे अागे बढ़ा सकती है। बशर्ते अाप में काम करने की लगन हाे अाैर मेहनत करने का जज्बा।...

Feb 15, 2020, 10:36 AM IST
Pali News - rajasthan news amrita haat fair anita started business to become a drawing power honored with president at kamarunnisha embroidery

एक छाेटी सी शुरुआत ही
अापकाे अागे बढ़ा सकती है। बशर्ते अाप में काम करने की लगन हाे अाैर मेहनत करने का जज्बा। बांगड़ स्कूल मैदान में चल रहे अमृता हाट मेले मे देशभर में काम कर रही महिलाओं के स्वयं सहायता समूह द्वारा 60 स्टॉलें लगाई गई हैं। हर समूह का संघर्ष है अाैर अपनी कहानी है। कई समूह ताे ऐसे हैं जिनके उत्पाद देशभर में अपनी अनूठी छाप छाेड़ रहे हैं।

अजमेर की अनिता ने ड्राइंग काे ताकत बना शुरू किया व्यवसाय


अजमेर की अनिता साेनी ने अपनी ड्रॉइंग काे ही ताकत बनाकर बिजनेस करना शुरू किया। पति रवींद्र साेनी से जब मनोबल बढ़ाया ताे घर पर ही 25 हजार रुपए लगाकर वर्ष 2008 में फ्रेमिंग का बिजनेस शुरू किया। अनिता साेनी ने बताया कि पिता रमेशचंद शुरू से ही मेरी ड्राइंग की बहुत तारीफ करते थे। वर्ष 2003 में पिता के कहने पर छाेटा-माेटा काम करने लगे। वर्ष 2007 में अजमेर के रवींद्र साेनी से विवाह हाे गया। रवींद्र जिम में मशीन फिटिंग का काम करते। जब उनकाे अपने काम करने के लिए बाेला ताे उन्होंने भी स्वीकृति दे दी। इसके बाद घर पर ही फ्रेमिंग मशीन लगा कर तस्वीरें बनानी शुरू की। पति रवींद्र उन्हें मार्केट में बेच देते। अच्छा मार्केट मिला ताे 15 महिलाओं का स्वयं सहायता समूह बनाया। इसके बाद फिश के धागे से चीड़ की ज्वेलरी, लकड़ी की दीवार घड़ी, जूट के बैग बनाने का भी काम शुरू किया। धीरे धीरे अच्छा बाजार भी मिलने लग गया अाैर अब हर महीने सारा खर्चा निकाल कर 35 हजार रुपए की कमाई हाेने लगी है।

कोटा की कमरुन्निशा ने 35 साल पहले शुरू किया व्यापार

काेटा से 15 किमी दूर कैथून शहर में रहने वाली कमरुन्निशा ने 35 साल पहले वर्ष 1984 में घर पर लूम लगाकर 2 हजार रुपए से साड़ियां बनाकर व्यवसाय शुरू किया। काेटा जरी से बनी साड़ियां लाेगाें काे पसंद अाने लगी ताे समय के साथ 5 हजार रुपए तक की साड़ी बनाने लगे। व्यवसाय शुरू हाेने के 5 महीने बाद से ही करीब 30 हजार रुपए महीने कमाई हाेने लगी। कमरुन्निशा ने बताया कि वर्ष 1970 में मोहम्मद हुसैन के साथ निकाह हुअा। बचपन से ही मदनीशाह के संपर्क में रहने से वे काफी प्रभावित हुए। शादी के बाद मन मदनीशाह के तरफ ही लगा रहा। 1974 काे वे बुढ़नपुर के मदनीशाह के खलीफा बन गए। पारिवारिक कार्य काे देखते हुए 1984 में घर पर ही लूम लगा कर काेटा जड़ी की साड़िया बनानी शुरू की। लाेगाें काे साड़ी का वर्क इतना पसंद अाया कि 2014 में कमरून्निशा काे तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने सम्मानित किया।

मेले में अनिता साेनी ने भी लगाई दुकान।

अमृता हाट मेले में कमरुन्निशा।

Pali News - rajasthan news amrita haat fair anita started business to become a drawing power honored with president at kamarunnisha embroidery
X
Pali News - rajasthan news amrita haat fair anita started business to become a drawing power honored with president at kamarunnisha embroidery
Pali News - rajasthan news amrita haat fair anita started business to become a drawing power honored with president at kamarunnisha embroidery
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना