शहर में शुरू हाेगी सेंट्रल डिस्पेंसरी, डॉक्टर व कंपाउंडर की हाेगी नियुक्ति

Pali News - राज्य कर्मचारी बीमा निगम से जुड़े बीमित कर्मचारियों काे अब एक ही कार्यालय में स्वास्थ्य जांच के साथ ही क्लेम के...

Dec 04, 2019, 11:27 AM IST
राज्य कर्मचारी बीमा निगम से जुड़े बीमित कर्मचारियों काे अब एक ही कार्यालय में स्वास्थ्य जांच के साथ ही क्लेम के लिए स्वास्थ्य प्रमाण पत्र जमा करवाने की भी सुविधा उपलब्ध हाेगी। श्रम मंत्रालय, भारत सरकार की अाेर से पाली के साथ अजमेर, किशनगढ़ अाैर जोधपुर में इसे पायलट प्रोजेक्ट के ताैर पर शुरू किया जा रहा है। जिले के बीमित कर्मचारियों काे डिस्पेंसरी में इलाज लेने के बाद अवकाश का क्लेम लेने के लिए स्वास्थ्य प्रमाण पत्र निगम के कार्यालय में जमा करवाने के लिए जाना पड़ता है। डिस्पेंसरी अाैर कार्यालय दूर हाेने के चलते बीमित कर्मचारियों काे परेशान हाेना पड़ा है। इसकाे देखते हुए अब निगम के कार्यालय में ही सेंट्रल डिस्पेंसरी शुरू की जाएगी। मरीजों काे देखने के लिए यहां एक डॉक्टर व एक कंपाउंडर काे भी नियुक्त किया जाएगा। जानकारी के अनुसार राज्य कर्मचारी बीमा निगम में पंजीकृत जिले की 844 निजी कंपनियों के 17357 कर्मचारियों के इलाज के लिए तीन डिस्पेंसरी अाैर एक ईएसआई अस्पताल का संचालन किया जा रहा है। लेकिन तीनों डिस्पेंसरी शहर के तीनों कोने में है एक सुभाष नगर ए, दूसरी मंडिया राेड अाैर तीसरी फालना में चल रही है अाैर राज्य कर्मचारी बीमा निगम का कार्यालय महावीर नगर में संचालित हाे रहा है। यदि बीमित कर्मचारी डिस्पेंसरी में डॉक्टर काे दिखा कर कार्यालय से अवकाश लेता है ताे इसका क्लेम लेने के लिए बीमित कर्मचारी काे स्वास्थ्य प्रमाण पत्र महावीर नगर स्थित कार्यालय भवन में जमा करवाने के लिए जाना पड़ता था, लेकिन अब वहीं सेंट्रल डिस्पेंसरी खुलने से मरीजों काे एक ही छत के नीचे सभी सुविधाएं उपलब्ध हाे जाएगी।

िडस्पेंसरी में 50 से अधिक मरीज अाने पर हाेगी 2 डॉक्टर की नियुक्ति : कार्यालय भवन में पायलेट प्रोजेक्ट के तहत खुलने वाली सेंट्रल डिस्पेंसरी में मरीजों काे देखने के लिए एक डॉक्टर अाैर एक कंपाउंडर नियुक्त किया जाएगा। डिस्पेंसरी में 50 से अधिक ओपीडी हाेने पर बीमा निगम की अाेर से दाे डॉक्टर काे नियुक्त किया जाएगा।

निजी अस्पताल मेंं हाे सकेंगे रेफर, खर्च का बिल निगम कार्यालय में जमा कराना होगा

बीमित कर्मचारियों काे गंभीर बीमारी हाेने पर सेंट्रल डिस्पेंसरी से बीमा निगम से जुड़े निजी अस्पतालों में भी रेफर किया जा सकेगा। जहां मरीजों का प्राथमिकता के साथ इलाज हो सकेगा। इलाज में हाेने वाले पूरे खर्च का बिल निगम कार्यालय में जमा करवाने पर मरीज काे पूरा भुगतान किया जाएगा। इसके चलते मरीजों काे आर्थिक नुकसान नहीं उठाना पड़ेगा।

बीमित कर्मचारियों काे फायदा हाेगा


X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना