पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • Pali News Rajasthan News Gujarat Government Imposes Ban On Water Sharing In Sabarmati Basin Jawai Recharging Scheme Stuck Again

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

साबरमती बेसिन में पानी बंटवारे काे लेकर गुजरात सरकार ने लगाया अाक्षेप, जवाई पुनर्भरण योजना फिर अटकी

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पश्चिमी राजस्थान के सबसे बड़े जवाई बांध के पुनर्भरण को लेकर एक बार फिर मामला अटक गया है। गुजरात सरकार ने साबरमती बेसिन में पानी के बंटवारे को लेकर केंद्रीय जल आयोग में अाक्षेप लगाए हैं। इसी कारण इस योजना को लेकर अभी तक स्वीकृति नहीं मिल पाई है। यह खुलासा रविवार को लघु उद्योग भारती द्वारा आयोजित कार्यक्रम में केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्रसिंह शेखावत ने पत्रकार बातचीत में किया। केंद्रीय मंत्री शेखावत ने अपनी बात को स्पष्ट करते हुए कहा कि जवाई पुनर्भरण का मामला अंतरराज्यीय विषय है। इसके समाधान के लिए जल देने वाले राज्य से परामर्श के बाद सहमति भी ली जाती है। तकनीकी विशेषज्ञों और संबंधित प्रशासनिक अधिकारियों की भौतिक रिपोर्ट के आधार पर यह विषय आगे बढ़ाया जाएगा। गौरतलब है कि दिल्ली की वैपकॉस कंपनी ने 8.5 करोड़ की लागत से जवाई पुनर्भरण की डीपीआर तैयार कर राज्य सरकार को सौंपी थी। राज्य सरकार ने केंद्रीय सरकार व केंद्रीय जल बोर्ड को भेजी। इसके बाद अब गुजरात सरकार ने साबरमती बेसिन में पानी के बंटवारे को लेकर अब्जर्वेशन लगाए है। इसी कारण यह योजना गुजरात व राजस्थान सरकार के बीच अटक रही है।

पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने 3 हजार करोड़ रुपए रिजर्व रखने की कर रखी है योजना

पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने सुमेरपुर चुनावी दौरे के समय जवाई पुनर्भरण योजना के तहत तैयार हुई डीपीआर के हिसाब से 3 हजार करोड़ रुपए रिजर्व रखने की घोषणा भी कर रखी है, लेकिन 8 माह बीत जाने के बाद भी जवाई पुनर्भरण योजना को लेकर पूरा मामला उलझता नजर आ रहा है।

साबरमती बेसिन से राजस्थान के हिस्से का पानी लेने की है बात

साबरमती बेसिन का कुछ हिस्सा राजस्थान सीमा में भी है। हर बार बारिश का पानी साबरमती बेसिन से होकर कच्छ के रण में चला जाता है। राजस्थान के हिस्से में आ रहे पानी को डायवर्ट कर जवाई बांध तक लाने को लेकर यह योजना तैयार हुई थी। अब स्थिति यह है कि गुजरात से साबरमती बेसिन के पानी के इस्तेमाल पर अाक्षेप लगाया है।

केंद्रीय मंत्री का स्वागत किया

केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्रसिंह शेखावत के प्रथम बार पाली पहुंचने पर ट्रांसपोर्ट नगर चौराहे पर युवा मोर्चा ने विधायक ज्ञानचंद पारीख के नेतृत्व में उनका स्वागत किया। जिला महामंत्री कांतिलाल वैष्णव ने बताया कि कार्यकर्ता वाहन रैली के रूप में मुख्य मार्गों से होते हुए नगर परिषद कार्यक्रम स्थल तक पहुंचे। इस मौके पर चेयरमैन महेंद्र बोहरा, युवा प्रदेश उपाध्यक्ष मंगलाराम देवासी, जिलाध्यक्ष दिग्विजय सिंह, भंवर चौधरी, राजवेंद्रसिंह भाटी, नरपत दवे, पुखराज बंजारा, प्रमेंद्र सिंह, दिनेश राजपुरोहित, अखिल भारतीय आंजणा समाज के जिलाध्यक्ष नारायणलाल राणा, एडवोकेट राजेंद्र चौधरी, महाराणा प्रताप मंडल अध्यक्ष नरपत दवे अादि ने स्वागत किया।

हम तो हमारे हिस्से में आ रहा पानी ले रहे

साबरमती बेसिन में राजस्थान का भी हिस्सा है। बारिश के पानी को डायवर्ट कर जवाई बांध तक लाने के लिए जवाई पुनर्भरण योजना बनी है। इसकी डीपीआर भी तैयार है। केंद्र सरकार इस योजना काे स्वीकृति भी जारी करेंगे। - मदन राठौड़, पूर्व उपमुख्य सचेतक व सदस्य जवाई पुनर्भरण योजना हाईपावर कमेटी

इन संगठनों ने दिए ज्ञापन

केंद्रीय जलशक्ति मंत्री शेखावत काे कई संगठनों ने मंत्री को ज्ञापन सौंपा। राजस्थान युवा संगठन के जिला महामंत्री मोहित दवे के नेतृत्व में जवाई पुनर्भरण के लिए स्थाई समाधान को लेकर ज्ञापन सौंपा। पाली खेल जगत व नगर परिषद द्वारा हाॅकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद को भारत र| देने के लिए चेयरमैन महेंद्र बोहरा व चम्पालाल सिसोदिया के नेतृत्व में ज्ञापन सौंपा। पार्षद किशोर सोमनानी के नेतृत्व में बाड़मेर जिला प्रवासियों ने रानीखेत एक्सप्रेस को लूनी जंक्शन पर ठहराव की मांग की।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय निवेश जैसे किसी आर्थिक गतिविधि में व्यस्तता रहेगी। लंबे समय से चली आ रही किसी चिंता से भी राहत मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए बहुत ही फायदेमंद तथा सकून दायक रहेगा। ...

    और पढ़ें