पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

किसी को बंधक बनाना खुद भी बंध जाना है

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
वामन बने भगवान विष्णु ने राजा बलि से तीन पग भूमि का दान मांग कर उसे पाताल में बंधक तो बना दिया, लेकिन वह खुद भी दान के बंधन में बंध गए और पाताल में बलि के महल के द्वार पर पहरा देने लगे। उधर, पृथ्वी पर लंका का राजा रावण अपनी शक्ति के मद में सोचने लगा कि बलि को बंधन से मुक्त करा कर भूमंडल में प्रतिष्ठित कराया जाए। इस पर चर्चा के लिए वह बलि के यहां पहुंचा और द्वारपाल को अपना परिचय देकर महल में गया। रावण को देख बलि ने प्रसन्नता व्यक्त की और कहा कि तुम्हारे पितामह पुलस्त्य ऋषि थे और मेरे पितामह प्रह्लाद दोनों ही ईश्वरभक्त थे, लेकिन हम दोनों ही आसुरी वृत्ति अपनाकर देवों और ऋषियों के दुख का कारण बने। आप आने का प्रयोजन बताएं।

रावण ने कहा, महाराज बलि भूमंडल पर मेरा राज होने के बावजूद आप बंदी जैसा जीवन बिताएं, यह उचित नहीं है। मैं आपको मुक्त कराना चाहता हूं और इसके लिए किस प्रकार से आक्रमण करना है उस पर विमर्श के लिए ही मैं यहां आया हूं।

बलि ने कहा कि अच्छा हुआ आप आक्रमण से पहले ही यहां आ गए। मैं तो यहां सुखी हूं और हर प्रकार का ऐश्वर्य भोग रहा हूं। बंदी तो द्वार पर खड़ा वह व्यक्ति है, जाे दिन-रात पहरा देने के लिए बंदी जैसा जीवन बिता रहा है। मुझे मुक्त कराने के लिए उससे लड़ना होगा। खैर इस पर बाद में सोचेंगे तुम जरा मेरे कुंडल उठा लाओ। यह सुनकर रावण प्रसन्न हुआ और कुंडल उठाने लगा, लेकिन वह उन्हें उठा ही नहीं सका और बार-बार प्रयास की वजह से मूर्छित हो गया। बलि ने उसके चेहरे पर पानी डाला तो वह होश में आया। बलि ने उसे बताया कि ये कुंडल उसके प्रपितामह हिरण्यकश्यप के हैं और अब वह इन्हें धारण करता है। रावण इससे बहुत लज्जित हुआ। अब बलि ने पूछा कि क्या तुम इस द्वारपाल से जीत सकोगे। वह कुछ नहीं बोल सका। बलि ने कहा कि रावण मेरी चिंता मत करो। मैं बंधन में नहीं हूं, बल्कि मैंने नारायण को बांध रखा है। यह द्वारपाल खुद नारायण हैं, जो दिन-रात मेरी निगरानी के बंधन में बंधे हैं। आशय यह है कि अगर अाप स्वतंत्रता चाहते हैं तो कभी भी किसी को बंधक बनाने की न सोचें। अगर आप किसी को बंधक बनाते हंै तो आप भी निगरानी के लिए बंधक बन जाते हैं।

 

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थिति पूर्णतः अनुकूल है। बातचीत के माध्यम से आप अपने काम निकलवाने में सक्षम रहेंगे। अपनी किसी कमजोरी पर भी उसे हासिल करने में सक्षम रहेंगे। मित्रों का साथ और सहयोग आपकी हिम्मत और...

    और पढ़ें