• Hindi News
  • Rajasthan
  • Pali
  • Pali News rajasthan news pccb home loan the broker himself took responsibility for the creation of a fake income tax report manager and management had never investigated
विज्ञापन

पीसीसीबी होम लोन- दलाल खुद लेता था फर्जी इनकम टैक्स रिपोर्ट बनवाने की जिम्मेदारी, मैनेजर व प्रबंधन ने कभी जांच तक नहीं करवाई

Dainik Bhaskar

Mar 17, 2019, 05:20 AM IST

Pali News - होमलोन घोटाले के मामले में नया पेच सामने आया है। होमलाेन का पूरा खेल फर्जी आईटीआर से ही शुरू होता है। शहर में फर्जी...

Pali News - rajasthan news pccb home loan the broker himself took responsibility for the creation of a fake income tax report manager and management had never investigated
  • comment
होमलोन घोटाले के मामले में नया पेच सामने आया है। होमलाेन का पूरा खेल फर्जी आईटीआर से ही शुरू होता है। शहर में फर्जी आईटीआर बनाने और होमलोन की फाइल तैयार कर बैंक से लोन उठाने का गोरखधंधा भी चल रहा है। इसमें कई अनभिज्ञ लोग फंसे हुए है। बैंक से नोटिस जारी होने के बाद ही उनको इसकी जानकारी मिल रही है। कोतवाली में दर्ज एफआईआर में कई पीड़ितों को यह भी नहीं पता कि उनका प्लॉट कहा है और उस पर क्या काम हो रखा है। फर्जी आईटीआर बनवाने के साथ पूरी फाइल भी एजेंटों द्वारा तैयार करवाई जाती है। शहर में कई जगहों पर फिक्स फॉर्मेट में होमलोन की पूरी सूचनाएं उपलब्ध है। बताया जाता है कि एजेंट होमलोन फाइल तैयार करवाने और होमलोन स्वीकृत करवाने के लिए 10 से 15 प्रतिशत राशि भी ले रहे है। ऐसे मामलों में पहली किश्त में ही राशि काटने के बाद ही उन्हें लोन की राशि भी मिल रही है। इधर, पीसीसीबी होमलोन घोटाले के मामले में जांच करने आए आरसीएस अनिल मेहता ने पीसीसीबी प्रबंध से होमलोन देने के भौतिक सत्यापन के दस्तावेज की सूचनाएं मांगी है। आरसीएस मेहता ने बताया कि पूरे मामले की जांच करने के लिए जल्द ही अलग से कमेटी गठन भी किया जाएगा।

ठग्स ऑफ पीसीसीबी होम लोन

फर्जी आईटीआर के दो किस्से, समझिए, कैसे बैंक का पूरा सिस्टम ही बना भ्रष्टाचार का गठबंधन

1. लोनधारक- लादूलाल, शाखा-स्टेशन ब्रांच, आय से ज्यादा कटौती की रिटर्न, फिर भी डेढ़ लाख ज्यादा का लोन

स्टेशन ब्रांच से 2016-17 में लोन हुआ। आवेदक की आय 3 लाख 84 हजार रुपए। टैक्स में छूट योग्य कटौतियां बताई 4 लाख 56 हजार रुपए। जबकि यह अधिकतम डेढ़ लाख हो सकती थी। हैरत की बात देखिए, इन दोनों को जोड़कर उसकी कुल आय बता दी गई। और उसका लोन मंजूर कर दिया। घपला यहीं नहीं रुका। स्वीकृत लोन के अलावा उसे डेढ़ लाख रुपए और ज्यादा दे दिए।

2. शाखा लक्ष्मी मार्केट- लोन धारक नवीन संचेती, विभाग की साइट पर इनकी रिटर्न नहीं, दलाल ने बैंक में दे दी

इस मामले में हैरत की बात यह भी कि इनकी जन्म तिथि 15.18. 1981 बताई गई है। कोई बताए कि साल में 18वां महीना कौनसा होता है। इनका 13 लाख रुपए का लोन स्वीकृत किया है। जगदंबा नगर में इनका भूखंड बताया गया है। मौके पर अधूरा निर्माण है, जबकि लोन पूरा उठ गया।

भास्कर संवाददाता | पाली

होमलोन घोटाले के मामले में नया पेच सामने आया है। होमलाेन का पूरा खेल फर्जी आईटीआर से ही शुरू होता है। शहर में फर्जी आईटीआर बनाने और होमलोन की फाइल तैयार कर बैंक से लोन उठाने का गोरखधंधा भी चल रहा है। इसमें कई अनभिज्ञ लोग फंसे हुए है। बैंक से नोटिस जारी होने के बाद ही उनको इसकी जानकारी मिल रही है। कोतवाली में दर्ज एफआईआर में कई पीड़ितों को यह भी नहीं पता कि उनका प्लॉट कहा है और उस पर क्या काम हो रखा है। फर्जी आईटीआर बनवाने के साथ पूरी फाइल भी एजेंटों द्वारा तैयार करवाई जाती है। शहर में कई जगहों पर फिक्स फॉर्मेट में होमलोन की पूरी सूचनाएं उपलब्ध है। बताया जाता है कि एजेंट होमलोन फाइल तैयार करवाने और होमलोन स्वीकृत करवाने के लिए 10 से 15 प्रतिशत राशि भी ले रहे है। ऐसे मामलों में पहली किश्त में ही राशि काटने के बाद ही उन्हें लोन की राशि भी मिल रही है। इधर, पीसीसीबी होमलोन घोटाले के मामले में जांच करने आए आरसीएस अनिल मेहता ने पीसीसीबी प्रबंध से होमलोन देने के भौतिक सत्यापन के दस्तावेज की सूचनाएं मांगी है। आरसीएस मेहता ने बताया कि पूरे मामले की जांच करने के लिए जल्द ही अलग से कमेटी गठन भी किया जाएगा।

होमलोन के लिए शहर में फर्जी आईटीआर बनवाने का चल रहा गिरोह

शहर में होमलोन में ठगी के मामले में नया पेंच सामने आया है। लोन का पूरा खेल आईटीआर पर ही निर्भर है। पीसीसीबी होमलोन घोटाले के मामले में पीड़ितों ने बताया कि होमलोन की पूरी फाइल भरत कुमार व उनके साथ काम करने वाले सदस्य ही तैयार करवाते थे। भरत कुमार ने होमलोन की कई फाइलों में फर्जी आईटीआर भी बनवाई है। यह आईटीआर मात्र कुछ ही घंटों में बना भी जाती है, जबकि अमूमन तौर पर आईटीआर बनवाने के लिए तीन साल तक रिटर्न भरना होता है।

होमलोन घोटाले में ज्यादातर केस ऐसे, जिसमें लोगों को होमलोन की प्रक्रिया तक नहीं पता

पीसीसीबी होमलोन घोटाले में 12 जनों द्वारा दर्ज करवाई एफआईआर में ज्यादातर कम पढ़े लिखे लोगों को मोहरा बनाया गया है। उनके दस्तावेजों को बनवाकर उनसे हस्ताक्षर करवाए और उनको झांसे में लेकर बैंक के चैक और वाउचर लेकर लोन की सारी राशि निकलवाई। अब स्थिति यह है कि बैंक होमलोन धारक को, जिसका न तो मकान बना और न ही उसके हाथ में पैसा आए, उसे डिफॉल्टर मानते हुए उन्हें नोटिस जारी कर रही है। इतना ही नहीं दैनिक भास्कर में खबर प्रकाशित होने के बाद बैंक प्रबंधकों ने हड़बड़ाते हुए लोनधारकों को उनके पास पड़े चैक पर डिफॉल्टर बनाते हुए नोटिस भी थमा रही है।

सूचनाएं मांगी हैं


15 मार्च को प्रकाशित समाचार

Pali News - rajasthan news pccb home loan the broker himself took responsibility for the creation of a fake income tax report manager and management had never investigated
  • comment
X
Pali News - rajasthan news pccb home loan the broker himself took responsibility for the creation of a fake income tax report manager and management had never investigated
Pali News - rajasthan news pccb home loan the broker himself took responsibility for the creation of a fake income tax report manager and management had never investigated
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन