• Hindi News
  • National
  • Rajasthan News Rajasthan News Police Considered Both Sons Of The Aspect To Be Gotaskar Cm Says If The Disorder Is Found Then It Will Be Re Examined

पुलिस ने पहलू के दोनों बेटों को गोतस्कर माना, सीएम बोले- गड़बड़ी मिली तो दोबारा जांच होगी

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस ने दो साल पहले हाईवे पर गोरक्षकों की भीड़ द्वारा पीट-पीटकर मारे गए पहलू खान (55) के दो बेटाें इरशाद (25), आरिफ खान (22) और ट्रक अाॅपरेटर खान माेहम्मद को गाेवंश तस्करी का दोषी माना है। पहलू की मौत होने से उसके खिलाफ आरोप वापस ले लिया गया है। 1 अप्रैल 2017 के इस मामले में पुलिस ने दिसंबर 2018 में अाराेप-पत्र तैयार किया था और 24 मई 2019 को एसीजेएम कोर्ट में पेश किया। चार्जशीट पेश होने के साथ प्रदेश में सियासत भी गर्मा गई है। सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि पहलू मामले में जांच भाजपा सरकार में हुई है। कोई गड़बड़ी मिली तो दोबारा जांच होगी।

पुलिस ने पूरे घटनाक्रम ने कुल 6 वाहन जब्त कर गोतस्करी के प्रकरण दर्ज किए थे। इनमें केस संख्या 252/17 में पहलू खान, उसके दोनों बेटों व पिकअप मालिक खान मोहम्मद को आरोपी बनाया था। सभी के खिलाफ गोजातीय पशु अधिनियम 1995 के तहत चालान पेश किया गया। पहलू के दोनों बेटे व पिकअप मालिक जमानत पर हैं।

पहलू खान

गोतस्करी के शक में भीड़ ने की थी पहलू की पिटाई
चार्जशीट में पहलू खान का नाम नहीं : गहलाेत

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा- पहलू खान का नाम दिसंबर 2018 में तैयार की गई चार्जशीट में नहीं था। उस चार्जशीट को 24 मई 2019 को जिला कोर्ट ने स्वीकार भी कर लिया। इसके बावजूद हमारी सरकार फिर से देखेगी कि जांच भेदभावपूर्ण और गलत इरादे से तो नहीं की गई है। उनके बेटों के ऊपर अलग केस दर्ज हुए। हम मॉब लिंचिंग को कहीं भी जायज नहीं ठहरा सकते।

अाेवैसी बाेले- मुसलमान कांग्रेस का समर्थन बंद करें

एअाईएमअाईएम नेता असदुद्दीन अाेवैसी ने कहा- कांग्रेस भी भाजपा जैसी ही है। मैं मुस्लिमाें से अपील करूंगा कि वाे कांग्रेस का समर्थन नहीं करें।

2 अप्रैल को तत्कालीन सब इंस्पेक्टर दामोदर सिंह ने रिपोर्ट दर्ज करवाई कि 1 अप्रैल शाम 7.30 बजे अपेक्स कंपनी के सामने विहिप कार्यकर्ताओं सहित 200-300 लोग थे। यहां एक गोवंश से भरी पिकअप व तीन लोग सड़क पर लहुलुहान पड़े मिले। घायलों की पहचान हरियाणा के नूहूं मेवात के जयसिंहपुरा निवासी पहलू खान, उसके दो बेटे आरिफ व इरशाद के रूप में हुई। घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया। पहलू के बयान के आधार पर 6 जनों के खिलाफ हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज किया गया। मौके पर ही पिकअप वाहन में दो गाय व दो बछड़े भी मिले। इनके बारे में घायलों ने बताया कि इन्हें वे जयपुर से खरीद कर लाए और मेवात ले जा रहे थे। इसके चलते भीड़ ने मारपीट की। रुपए व मोबाइल छीने व गाड़ी में तोड़फोड़ की। पहलू की इलाज के दौरान मौत हो गई।

पहलू वाली पिकअप में बरामद गोवंश के संबंध में पुलिस ने प्रकरण संख्या 257/17 दर्ज किया। वहीं, पहलू की मौत के संबंध में अलग प्रकरण संख्या 253/17 दर्ज किया था।

दिसंबर में आरोप पत्र तैयार, 24 मई 2019 को पेश
बहरोड थानाधिकारी सुगन सिंह ने बताया कि 30 दिसंबर 2018 को तत्कालीन थानाधिकारी वीरेंद्र यादव ने तत्कालीन एसपी से चालान पेश करने के आदेश लिए। चुनावी व्यस्तता व स्थानान्तरण होने से चालान 24 मई 2019 को एसीजेएम कोर्ट में पेश किया जा सका। तत्कालीन जांच अधिकारियों ने आरबीए एक्ट के तहत धारा 5, 6, 8 व 9 के तहत इरसाद, आरिफ व खान मोहम्मद को गोतस्करी का आरोपी माना। अन्य केस कोर्ट में विचाराधीन हैं।

... और पहलू की हत्या के मामले में फैसला जल्द
पहलू की हत्या के मामले में भी जल्द फैसला आ सकता है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर केस ऑफिसर स्कीम में अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश (प्रथम) डाॅ. सरिता स्वामी की अदालत में नियमित सुनवाई चल रही है। एसपी पीए देशमुख का कहना है कि हत्या के मामले में 46 गवाहों में से 42 के बयान दर्ज हो चुके हैं। शेष 4 गवाहों के बयान जल्दी दर्ज होंगे। अगली सुनवाई 3 जुलाई को होगी।

खबरें और भी हैं...