• Hindi News
  • Rajasthan
  • Pali
  • Bar News rajasthan news shooting the 39 year old tejaswini got the 12th quota his first time to play in the olympics

शूटिंग: 39 साल की तेजस्विनी ने 12वां कोटा दिलाया, उनके पास पहली बार ओलिंपिक में खेलने का मौका

Pali News - भारत ने 14वीं एशियन शूटिंग चैंपियनशिप से एक बार फिर ओलिंपिक कोटा हासिल कर लिया। तेजस्विनी सावंत ने 50 मी राइफल थ्री...

Nov 10, 2019, 07:02 AM IST
भारत ने 14वीं एशियन शूटिंग चैंपियनशिप से एक बार फिर ओलिंपिक कोटा हासिल कर लिया। तेजस्विनी सावंत ने 50 मी राइफल थ्री पोजीशन में ओलिंपिक कोटा दिलाया। यह भारत का शूटिंग में 12वां कोटा है। वहीं, इस चैंपियनशिप से हमें तीसरा कोटा मिला। इससे पहले, दीपक कुमार ने 10 मी एयर राइफल और चिंकी यादव ने 25 मी पिस्टल में कोटा दिलाया था। अब 39 साल की तेजस्विनी के पास करिअर में पहली बार ओलिंपिक में खेलने का मौका है। तेजस्विनी ने अपने 15 साल के करिअर में एक वर्ल्ड कप गोल्ड और तीन कॉमनवेल्थ गोल्ड जीते, लेकिन कभी ओलिंपिक में नहीं खेलीं। तेजस्विनी ने क्वालिफिकेशन में 1171 का स्कोर किया आैर पांचवें नंबर पर रहीं। इसी के साथ उन्होंने 8 खिलाड़ियों के फाइनल के लिए क्वालिफाई कर लिया। इन 8 में से 5 खिलाड़ी पहले ही कोटा हासिल कर चुकी थीं। इसलिए शेष तीन खिलाड़ियों को कोटा मिले।

तेजस्विनी, काजल, गायत्री को टीम इवेंट में ब्रॉन्ज

तेजस्विनी 50 मी राइफल थ्री पोजीशन में मेडल से चूक गईं। वे 435.8 पॉइंट के स्कोर के साथ चौथे नंबर पर रहीं। वे दूसरी सीरीज तक तीसरे नंबर पर चल रहीं थीं। लेकिन फिर उन्हांेने 8.8 स्काेर किया और मेडल की होड़ से बाहर हो गईं। चीन को गोल्ड, मंगोलिया को सिल्वर और जापान को ब्रॉन्ज मिला। काजल सैनी क्वालिफिकेशन में 13वें और गायत्री नित्यानंदम 16वें नंबर पर रहीं। तेजस्विनी, काजल और गायत्री ने टीम इवेंट में ब्रॉन्ज मेडल जीता।

जसमीन ने 10 मी एयर राइफल यूथ में गोल्ड दिलाया

जसमीन कौर ने 10 मी एयर राइफल यूथ इवेंट में गोल्ड दिलाया। जसमीन ने 248.7 का स्कोर किया। चीन की नेई वेंकी को 248.5 के स्कोर के साथ सिल्वर और कोरिया की किम सियोंजा को 226.4 के स्कोर के साथ ब्रॉन्ज मिला। भारत की जीना खीता और नुपुर हेगावाने भी फाइनल में पहुंचीं, लेकिन मेडल नहीं जीत सकीं। इस बीच, आध्या तेयाल, शिखा नरवाल और रिदम संगवान की टीम ने 10 मी एयर पिस्टल महिला यूथ में गोल्ड जीता। गुरप्रीत सिंह ने 25 मी सेंटर फायर पिस्टल में सिल्वर मेडल जीता। गुरप्रीत, योगेश, आदर्श ने टीम इवेंट में ब्रॉन्ज हासिल किया। यह ओलिंपिक इवेंट नहीं था। िदलशान, राजकंवर, मितेश की टीम ने 25 मी पिस्टल जूनियर में सिल्वर दिलाया। हालांकि, दिलशान और राजकंवर इंडिविजुअल में मेडल चूक गए अौर चौथे व पांचवें नंबर पर रहे।

 

तेजस्विनी 50 मीटर राइफल थ्री पोजीशन में चौथे नंबर पर रहीं

उम्र मायने नहीं रखती, 39 की तेजस्विनी की फिटनेस 17 साल की मनु भाकर जैसी है

शूटिंग में उम्र कोई मायने नहीं रखती। लक्ष्य को पूरा करने के लिए खिलाड़ी की फिटनेस ज्यादा जरूरी होती है। 39 साल की तेजस्विनी ने यह साबित कर दिया। उन्होंने इस उम्र में अपनी फिजिकल और मेंटल फिटनेस अच्छी रखकर कोटा दिलवाया। 39 साल की तेजस्विनी की फिटनेस 17 साल की शूटर मनु भाकर जैसी है। 2010 की वर्ल्ड चैंपियन तेजस्विनी की जीत में कड़ी मेहनत, फिटनेस, निरंतरता, इच्छाशक्ति आैर सपने को पूरा करने की जिद ये फैक्टर महत्वपूर्ण रहे। उनकी इस सफलता के पीछे सीनियर शूटर कुहेली गांगुली ने अहम जिम्मेदारी निभाई। कुहेली ने तेजस्विनी के लिए अलग शेड्यूल बनाया। इसमें योग के जरिए एकाग्रता बढ़ाना अहम रहा। याेग ने ही तेजस्विनी को फिट रखा, उन्हें कभी अनफिट नहीं होने दिया। चीन के शूटर वांग यिफू ने 44 साल की उम्र में ओलिंपिक में गोल्ड जीता था। अब तेजस्विनी के पास भी वैसा मौका है।


अंजली भागवत, ओलिंपियन शूटर

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना