कई बार वाक्यों के बीच छिपे छोटे शब्द भी बड़ा असर पैदा करते हैं

Pali News - हममें से बहुत से लोग सोचते हैं कि वाक्य के बीच में इस्तेमाल होने वाले ‘उम्म’...’तो’...जैसे शब्द आपकी विश्वसनीयता कम...

Oct 13, 2019, 07:05 AM IST
हममें से बहुत से लोग सोचते हैं कि वाक्य के बीच में इस्तेमाल होने वाले ‘उम्म’...’तो’...जैसे शब्द आपकी विश्वसनीयता कम करते हैं। इसीलिए जहां तक हो सके इन्हें किसी भाषण में भी शामिल नहीं किया जाता है। लेकिन कई बार यही शब्द मददगार भी साबित होते हैं, यदि इन्हें रणनीति के तहत इस्तेमाल किया जाए। ये तब काम आते हैं जब आपको कूट-नीति दिखानी होती है। यदि आप किसी को विनम्रता पूर्वक अपना फीडबैक देना चाहते हैं, तो ‘केवल’ या ‘हम दोबारा इसपर विचार करना चाहते हैं’ जैसे शब्द काफी असरदार साबित हो सकते हैं। ऐसे शब्द आपको मजबूती के साथ जमीन पर खड़े रहने की ताकत देते हैं। ‘वैसे’ या ‘दरअसल’ जैसे शब्द आपको बातचीत शुरू करने में मदद देते हैं। बस इतना ध्यान जरूर रखना चाहिए कि आप किसी की बात को बीच में ही ना काट दें।

(वाय फिलर वर्ड्स लाइक उम्म और आह आर एक्चुअली यूजफुल, एलिसन शपीरा)

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना