• Hindi News
  • Rajasthan
  • Pali
  • Rajasthan News rajasthan news there was no toilet in the house youth looking at their problems created 5 villages in 484 toilets

घर में टॉयलेट नहीं था, अपनी परेशानी देख युवक ने 5 गांव में बनवा दिए 484 शौचालय

Pali News - चंद्रसेन देशमुख | उस्मानाबाद महाराष्ट्र के उस्मानाबाद में रहने वाले 34 वर्षीय गणेश देशमुख ने पांच गांवों में 484...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 10:35 AM IST
Rajasthan News - rajasthan news there was no toilet in the house youth looking at their problems created 5 villages in 484 toilets
चंद्रसेन देशमुख | उस्मानाबाद

महाराष्ट्र के उस्मानाबाद में रहने वाले 34 वर्षीय गणेश देशमुख ने पांच गांवों में 484 टॉयलेट बनवा दिए, ताकि ग्रामीणों को बाहर न जाना पड़े। दरअसल, 34 वर्षीय गणेश किसान परिवार से हैं।

2006 में 10वीं करने के बाद वे नौकरी करने पुणे चले गए। अपनी गरीबी दूर करना उनकी जिद थी। उन्होंने पुणे में कई दिनों तक ट्रक क्लीनर का काम किया और आज वे 15 ट्रक के मालिक हैं। वे अपना खुद का ट्रांसपोर्ट बिजनेस चला रहे हैं। कुछ समय पहले वह अपने गांव ईट वापस आए। उन्होंने देखा कि अब तक उनके घर में टॉयलेट नहीं है। ये उनके घर की ही नहीं, बल्कि पूरे गांव की परेशानी है। इसके बाद उन्होंने अपने गांव के साथ आसपास के गांव में टॉयलेट बनवाना शुरू कर दिया। अब तक वे 484 शौचालय बनवा चुके हैं।

कर्ज लेकर ट्रक खरीदा था, अब 15 के मालिक

गणेश बताते हैं कि पुणे में उन्होंने क्लीनर और ड्राइवर का काम किया। लेकिन कमाई न के बराबर थी। कुछ साल रुपए जुटाकर और कर्ज लेकर एक ट्रक खरीदा। धीरे-धीरे कारोबार बढ़ा तो और ट्रक खरीद लिए। हालांकि इस काम में मन को शांति नहीं मिली। तब जाकर सामाजिक कार्य करने का फैसला किया। अब वे 15 ट्रक के मालिक हैं और 25 लोगों को रोजगार दे रहे हैं।

चंद्रसेन देशमुख | उस्मानाबाद

महाराष्ट्र के उस्मानाबाद में रहने वाले 34 वर्षीय गणेश देशमुख ने पांच गांवों में 484 टॉयलेट बनवा दिए, ताकि ग्रामीणों को बाहर न जाना पड़े। दरअसल, 34 वर्षीय गणेश किसान परिवार से हैं।

2006 में 10वीं करने के बाद वे नौकरी करने पुणे चले गए। अपनी गरीबी दूर करना उनकी जिद थी। उन्होंने पुणे में कई दिनों तक ट्रक क्लीनर का काम किया और आज वे 15 ट्रक के मालिक हैं। वे अपना खुद का ट्रांसपोर्ट बिजनेस चला रहे हैं। कुछ समय पहले वह अपने गांव ईट वापस आए। उन्होंने देखा कि अब तक उनके घर में टॉयलेट नहीं है। ये उनके घर की ही नहीं, बल्कि पूरे गांव की परेशानी है। इसके बाद उन्होंने अपने गांव के साथ आसपास के गांव में टॉयलेट बनवाना शुरू कर दिया। अब तक वे 484 शौचालय बनवा चुके हैं।

X
Rajasthan News - rajasthan news there was no toilet in the house youth looking at their problems created 5 villages in 484 toilets
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना