पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Pali News Rajasthan News Twice A 12 Year Old Girl Wanted To Get Married Too Invoice Against The Accused In 10 Days

12 साल की बच्ची से दो बार दुष्कर्म, शादी भी करना चाहता था, आरोपी के खिलाफ 10 दिन में चालान

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
... क्याेंकि सभी के बच्चे स्कूल जाते हैं। ट्यूशन जाते हैं। ऑटो-बस में सफर करते हैं। अनजान लोगों से मिलते हैं। परिचितों के साथ समय बिताते हैं। हर माता-पिता के लिए यह जानना जरूरी है कि किस तरह सतर्क रहकर वे बच्चों को इस तरह की अनहोनी से बचा सकते हैं।

जिले के सोजतरोड कस्बे के निकट धुंधला गांव के 41 वर्षीय आरोपी अजीज खान के 12 साल की बच्ची के अपहरण और दुष्कर्म करने की घटना के 10 दिन बाद ही पुलिस ने चार्जशीट पेश कर दी। पाली जिले में नाबालिग के अपहरण, दुष्कर्म व पाॅक्सो एक्ट में यह दूसरा मामला है, जिसकी गंभीरता को समझते हुए पुलिस ने 10 दिन में आरोप पत्र पेश किया है। इससे पहले देसूरी इलाके में भी एक बच्ची का अपहरण कर दुष्कर्म की घटना हुई थी। सोजतरोड थाना क्षेत्र के धुंधला का आरोपी अजीज खान द्वारा मजदूर की बेटी से दुष्कर्म के मामले की जांच में आरोपी की विकृत मानसिकता वाला चेहरा उजागर हुआ है। आरोपी के शादी के 20 साल बाद भी औलाद नहीं थी। वह अपने पास काम करने वाली महिला की 12 साल की बच्ची को बेटी कहता था। 3 माह पहले पीड़िता से दुष्कर्म किया।

ऐसा सोच भी नहीं सकते, लेकिन सजगता के लिए चार्जशीट में लिखा यह पढ़ना जरूरी है

चार्जशीट में उल्लेख है कि मकान निर्माण की ठेकेदारी करने वाले आरोपी अजीज की शादी 20 साल पहले हुई, लेकिन उसके कोई औलाद नहीं हुई। आरोपी के पास पीड़िता के माता-पिता मजदूरी करते थे। कभी-कभार उनकी 12 वर्षीय बेटी भी मकान निर्माण में मां का हाथ बंटाने आती थी, जिस पर आरोपी बदनीयत रखता था। उसने बहला-फुसला कर बच्ची से नजदीकियां बढ़ाई। जांच में पता चला कि करीब तीन माह पहले आरोपी बच्ची को मजदूरी के बहाने अपने साथ सोजतरोड के धुंधला गांव में एक मकान निर्माण पर ले गया। जहां डरा धमका कर बच्ची से दुष्कर्म किया और मोबाइल में पीडि़ता के अश्लील फोटो भी लिए। आरोपी ने बच्ची को धमकाया कि घटना के बारे में किसी को बताया तो उसकी जान का खतरा हो सकता है। उसके बाद आरोपी झांसे में लेकर मोबाइल पर पीड़िता से बातें करने बहलाने लगा, जो बार-बार यही कहता था कि उसके कोई औलाद नहीं है। इसके चलते वह प|ी को छोड़ पीड़िता के साथ नई दुनिया बसाएगा। इसी मंसूबे में सफल होने के लिए आरोपी ने प|ी को बताए बगैर ही गत 18 फरवरी को ब्यावर जाकर किराए पर कमरा भी ले लिया। तय प्लान को पूरा करने के लिए प|ी को छोड़ आरोपी गत 22 फरवरी को सुबह शौच के लिए जा रही पीडि़ता को बाइक पर बैठाकर ब्यावर ले गया और वहां उससे दुष्कर्म किया। आरोपी ने वहां मकान मालिक व आसपास के लोगों को बताया कि यह उसकी बेटी है। जब मकान मालिक ने बच्ची का आधार कार्ड मांगा तो आरोपी आधार कार्ड लाने का कहते हुए पीडि़ता को लेकर कहीं और ठिकाना ढूंढने की फिराक में ब्यावर से निकला। उस समय तलाश करते हुए पुलिस दल ने आरोपी को दबोचा और उसके चंगुल से पीडि़ता को मुक्त कराया।

बच्चे को समझने, उसका साथ देने और दरिंदों को सजा दिलाने की जिम्मेदारी हमारी ही है।

कोई भी हो सकता है अपराधी

सोजतरोड में बच्ची से दरिंदगी करने वाला मकान निर्माण का ठेकेदार था। दरिंदा कोई भी हो सकता है, करीबी या परिचित भी। बच्चे से बात करें, समझाएं कि गुड और बैड टच क्या है। बच्चे में भरोसा जगाएं।

हर मां-बाप के लिए यह खबर पढ़ना अनिवार्य है...

पुलिस ने कड़ी से कड़ी जोड़ी तो परिचित ही निकला आरोपी, बच्ची मजदूरी करने जाती थी उसके पास

ऐसा किसी के भी साथ हो सकता है

राजस्थान में बच्चों से दुष्कर्म के 897 मामले दर्ज हुए थे। पाली जिले में यह आंकड़ा 7 केस तक रहा। बच्चे की दिनचर्या, मिलने वालों का ध्यान रखिए। उसे खतरों से बचाना आपकी जिम्मेदारी है।

सिर्फ स्कूल के भरोसे मत बैठिए

बच्चा सबसे ज्यादा समय स्कूल में बिताता है, ये मानकर मत बैठिए कि ऐसी शिकायत पर कार्रवाई करना स्कूल की जिम्मेदारी है। बच्चे से खुद बात कीजिए, समस्या को जानिए और समाधान करें।

पुलिस को जरूर बताएं, डरें नहीं

परिजन तुरंत थाने गए, जिससे पुलिस भी सक्रिय हो गई और दूसरे दिन आरोपी पुलिस के हाथ लग गए। मगर अकसर देखा जाता है कि परिजन लोक-लाज के भय दबा देते हैं। ऐसा बिल्कुल नहीं करें।

 **

4**

3**

2**

1**

गत 22 फरवरी को सुबह बच्ची के गायब होने की सूचना के बाद सोजतरोड थाना प्रभारी सीमा जाखड़ ने अपने स्तर पर तलाश शुरू की, मगर बच्ची का पता नहीं चला। कुछ देर बाद ही सोजत सीओ डॉ. हेमंत जाखड़ भी सोजतरोड पहुंचे और बच्ची के परिजनों से पूछताछ कर पता लगाया कि पिछले कुछ दिनों से बच्ची की दिनचर्या क्या थी। उस समय पता चला कि बच्ची स्कूल से छुट्टी रख ठेकेदार अजीज खान के पास मजदूरी पर जाती थी। छानबीन की तो पता चला कि अजीज खान गायब है, जिसकी जानकारी उसकी प|ी को भी नहीं। साइबर तकनीक से छानबीन करते हुए 23 फरवरी को पुलिस दल ब्यावर की ओर रवाना हुआ तो सेंदड़ा के आसपास ही आरोपी गिरफ्त में आ गया और उसके साथ पीडि़ता भी दस्तयाब हो गई। पुलिस की भी किस्मत अच्छी रही कि 36 घंटे में ही आरोपी व पीडि़ता मिल गए। क्योंकि पूछताछ में पता चला कि ब्यावर में मकान मालिक द्वारा पूछताछ करने पर आरोपी उसे लेकर कहीं और जा रहा था। मगर बाद में आरोपी पीडि़ता के साथ किस तरह की दरिंदगी करता, जिसका अंदेशा भी नहीं किया जा सकता।

आरोपी अजीज।

आईओ डॉ. हेमंत जाखड़।
खबरें और भी हैं...