नासा भी हार गया तो चेन्नई के शनमुग ने बताया- कहां पड़ा है लैंडर विक्रम

Pali News - चांद की सतह पर चंद्रयान-2 के लैंडर (विक्रम) का मलबा मिल गया है। 7 सितंबर को क्रैश लैंडिंग के बाद भारतीय अंतरिक्ष...

Dec 04, 2019, 11:46 AM IST
Rani News - rajasthan news when nasa also lost shanmug of chennai told where is lander vikram lying
चांद की सतह पर चंद्रयान-2 के लैंडर (विक्रम) का मलबा मिल गया है। 7 सितंबर को क्रैश लैंडिंग के बाद भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो से लेकर अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा तक सबने तलाशने के प्रयास किए। फिर 17 सितंबर को नासा ने क्रैश साइट की तस्वीर जारी करते हुए कहा कि विक्रम का कुछ पता नहीं चल पाया है।

32 लाख पिक्सल वाली इसी तस्वीर को चेन्नई के 33 साल के एप डेवलपर शनमुग सुब्रह्मण्यम 17 दिन तक रोज 4-6 घंटे छानते रहे और 3 अक्टूबर को उन्हें मलबा दिख गया। हालांकि इसरो इस दावे को लेकर चुप है, जबकि नासा ने शनमुग को इस उपलब्धि के लिए बधाई भी दे दी।

मैं कोई वैज्ञानिक नहीं, तस्वीरें ही छान सकता था; सो किया और सफल रहा

मैं सुबह चार बजे सोकर उठा तो देखा कि फोन पर नासा से आए ई-मेल का नोटिफिकेशन पड़ा है। मैंने ईमेल पढ़ा और उसे ट्वीट किया। साथ ही ट्विटर हैंडल पर स्टेटस में जोड़ दिया-‘आई फाउंड विक्रम लैंडर’। आज एक दिन में ही मेरे ट्विटर एकाउंट पर 7 हजार से ज्यादा फालोअर बढ़ गए हैं।

दरअसल, 7 सितंबर की रात जब विक्रम लैंडिंग से ठीक पहले संपर्क से बाहर हो गया तो मुझे बहुत दुख हुआ। मैं कुछ दिन खामोश रहा। 10 दिन बाद नासा के सैटेलाइट ने उस स्थान की तस्वीर जारी की तो मेरी रुचि बढ़ गई। मैंने इसरो के लाइव टेलीमेट्री डेटा के हिसाब से तय किया कि तस्वीर पर 2 गुना 2 किमी इलाके में विक्रम को तलाशने का प्रयास करता हूं। नासा की तस्वीर 1.5 जीबी की थी। उसमें 32 लाख पिक्सल थे। ऑफिस से लौटने के बाद शौकिया तौर पर मैं रात दो बजे तक दो लैपटॉप लेकर (एक पर नई तस्वीर, दूसरे पर पुरानी तस्वीर) काम करता रहा। रोज 4 से 6 घंटे तक यही करता रहा। मैं कोई वैज्ञानिक तो हूं नहीं, पर तस्वीरें तो छान ही सकता था। 3 अक्टूबर को मुझे प्रस्तावित लैंडिंग साइट से 750 मी. दूर एक सफेद बिंदु दिखा, जो लैंडिंग की तारीख से पहले नहीं था। मुझे विश्वास हो गया कि यह विक्रम का ही टुकड़ा है। मैंने नासा को यह जानकारी ई-मेल की। लेकिन, दोस्तों ने मुझे गंभीरता से नहीं लिया। अब मुझे बेहद खुशी है कि नासा ने विक्रम को तलाशने का श्रेय भी मुझे ही दिया है। हालांकि, इसरो ऐसा करता तो मुझे कहीं ज्यादा खुशी होती।’ - शनमुग सुब्रह्मण्यम

इसरो 3 माह से जुटा था, नासा हाथ खड़े कर चुका था, तस्वीरों की तुलना से शनमुग ने 17 दिन में ढूंढ निकाला

शनमुग ने रोज 4 से 6 घंटे 32 लाख पिक्सल वाली तस्वीर के हरेक पिक्सल की तुलना कर खोजा मलबा

 जहां विक्रम लैंडर के टुकड़े पड़े हुए हैं।

 जहां टकराव के बाद मिट्‌टी उड़ी है।

शनमुग ने यह जगह खाेज कर नासा को बताई थी

नासा ने सैटेलाइट से पूरा इलाका छाना और मलबे के टुकड़े खोजे

नासा ने कहा- शनमुग को बधाई!

नासा ने शनमुग को ई-मेल में लिखा...

‘आपकी सूचना के आधार पर हमने उस स्थान की विस्तृत छानबीन की और हमें विक्रम के टुकड़े मिले। इसलिए नासा इस खोज का श्रेय आपको देता है। बधाई!’

अजमेर में बोले इसरो प्रमुख- नासा के दावे का खंडन नहीं करेंगे

अजमेर में सेंट्रल यूनिवर्सिटी आॅफ राजस्थान के छठे दीक्षांत समाराेह में बताैर मुख्य अतिथि पहुंचे भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसराे) प्रमुख के. सिवन ने कहा कि हम नासा के खिलाफ कुछ नहीं बाेलना चाहते। नासा का खंडन नहीं है।

Rani News - rajasthan news when nasa also lost shanmug of chennai told where is lander vikram lying
Rani News - rajasthan news when nasa also lost shanmug of chennai told where is lander vikram lying
X
Rani News - rajasthan news when nasa also lost shanmug of chennai told where is lander vikram lying
Rani News - rajasthan news when nasa also lost shanmug of chennai told where is lander vikram lying
Rani News - rajasthan news when nasa also lost shanmug of chennai told where is lander vikram lying
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना