• Hindi News
  • Rajasthan
  • Pali
  • Bar News rajasthan news world para swimming brazilian daniel has just one finger in his hand not one leg won two medals including gold

वर्ल्ड पैरा स्वीमिंग: ब्राजील के डेनियल के हाथ में सिर्फ एक अंगुली, एक पैर नहीं; गोल्ड सहित दो मेडल जीते

Pali News - यह तस्वीर ब्राजील के पैरा स्विमर डेनियल डियास की है। इसमें डेनियल वर्ल्ड पैरा स्वीमिंग चैंपियनशिप में जीता अपना...

Sep 16, 2019, 07:00 AM IST
यह तस्वीर ब्राजील के पैरा स्विमर डेनियल डियास की है। इसमें डेनियल वर्ल्ड पैरा स्वीमिंग चैंपियनशिप में जीता अपना गोल्ड दिखा रहे हैं। उन्हाेंने मेडल को अंगूठे से पकड़ रखा है। डेनियल जन्म से दिव्यांग हैं। उनका एक हाथ कोहनी के पास से नहीं है जबकि दूसरे हाथ में सिर्फ अंगूठा है, बाकी अंगुलियां नहीं। एक पैर भी घुटने के नीचे से नहीं है। वे प्रॉस्थेटिक पैर का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन उनके चेहरे की मुस्कान बता रही है कि इस दिव्यांगता को उन्होंने खुद पर हावी नहीं होने दिया। डेनियल ने चैंपियनशिप में एक गोल्ड और एक ब्रॉन्ज मेडल जीता। वर्ल्ड पैरा स्वीमिंग चैंपियनशिप लंदन में रविवार को खत्म हुई। इसमें 73 देशों के 637 खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया। यह रियो पैरालिंपिक-2016 के बाद सबसे बड़ा पैरा स्वीमिंग टूर्नामेंट है। यह टोक्यो पैरालिंपिक-2020 का क्वालिफाइंग इवेंट है।

31 साल के डेनियल ने 16 की उम्र से स्वीमिंग शुरू की थी

डेनियल 14 ओलिंपिक गोल्ड और 24 वर्ल्ड चैंपियनशिप गोल्ड जीत चुके हैं

डेनियल डियास को 2009 में लॉरियस अवॉर्ड मिल चुका है।

वे 2008 में पहली बार ओलिंपिक में उतरे

ब्राजील के केंपिनास शहर में जन्मे डेनियल जन्म से दिव्यांग हैं। उन्होंने 16 साल की उम्र में ब्राजील के पैरा स्विमर क्लोडोआल्डो सिल्वा से प्रेरित होकर स्वीमिंग करना शुरू किया। डेनियल ने दो महीने में ही स्वीमिंग की 4 स्टाइल सीख लीं। उन्होंने 2006 में पहली बार वर्ल्ड चैंपियनशिप में हिस्सा लिया और तीन गोल्ड जीत लिए। 2008 में पहली बार पैरालिंपिक में उतरे और बीजिंग में 4 गोल्ड, 4 सिल्वर, 1 ब्रॉन्ज जीते। डेनियल 3 पैरालिंपिक में 14 गोल्ड, 7 सिल्वर, 3 ब्रॉन्ज जीत चुके हैं। वहीं, वर्ल्ड चैंपियनशिप में 24 गोल्ड, 6 सिल्वर जीत चुके हैं। वे सभी स्ट्रोक में वर्ल्ड रिकॉर्ड बना चुके हैं।

रूस का बैन हटने के बाद पहला इवेंट, मलेशिया से इसकी मेजबानी छीनकर लंदन को दी गई थी

इंटरनेशनल पैरालिंपिक कमेटी (आईपीसी) ने रूस पर 29 महीने से लगा बैन हटा दिया। बैन हटने के बाद यह रूस का पहला टूर्नामेंट है। इस चैंपियनशिप में सबसे ज्यादा 52 खिलाड़ी रूस के उतरे। पहले यह चैंपियनशिप मलेशिया में आयोजित होनी थी। लेकिन उसकी सरकार ने इजरायल के खिलाड़ियों को हिस्सा लेने की अनुमति नहीं दी। इसके बाद जनवरी 2019 में मलेशिया से मेजबानी छीन ली। आईपीसी ने अप्रैल 2019 में लंदन को मेजबानी दी थी।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना