जेडएलडी प्रोजेक्ट में 2 करोड़ की बैंक गारंटी की शर्त थी, इसलिए 11 कंपनियां आई ही नहीं

Pali News - शहर की फैक्ट्रियों से निकलने वाले रंगीन पानी को जीरो लिक्विड डिस्चार्ज प्रोजेक्ट लगाने को लेकर केंद्रीय वस्त्र...

Jan 16, 2020, 10:05 AM IST
Pali News - rajasthan news zld project had a bank guarantee of 2 crore so 11 companies did not come
शहर की फैक्ट्रियों से निकलने वाले रंगीन पानी को जीरो लिक्विड डिस्चार्ज प्रोजेक्ट लगाने को लेकर केंद्रीय वस्त्र मंत्रालय की मंजूरी दूसरी बार मिलने के बाद से ही सीईटीपी फाउंडेशन ने इस प्रोजेक्ट को धरातल उतारने के प्रयास शुरू कर दिए थे। नवंबर महीने के आखिरी दिनाें में टेंडर जारी कर देशभर की प्रमुख कंपनियों को आमंत्रित किया था। इसमें भाग लेने के लिए राे-केम सेपरेशन, मुंबई, टी-गोन टेक्नोलॉजिस्ट, मुंबई, अरविंद इनवोसेल लिमिटेड, अहमदाबाद, केटव कंस्लटेंट, गांधी नगर, स्टार कंस्ट्रक्शन, पुणे, ग्रेटीयंट इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, चेन्नई, त्रिवेणी इंजीनियरिंग इंडस्ट्रीज, दिल्ली, इफ्वा इंफ्रा रिचर्स प्राइवेट लिमिटेड, थाणे, मुंबई, विश्वराज एनवायरमेंट प्राइवेट लिमिटेड, नागपुर, गोंडवेन इंजीनियरिंग लिमिटेड, नागपुर तथा डि-टोक्स कॉरपोरशन प्राइवेट लिमिटेड, सूरत समेत कुल 14 कंपनियों ने 20 हजार रुपए में टेंडर कॉपी खरीदकर यहां पर प्री-टेक्निकल बिड्स में भी भाग लिया था।

शहर में जेडएलडी प्रोजेक्ट के लिए 14 कंपनियों ने खरीदी थी टेंडर कॉपी, तीन कंपनियां ही पहुंची

आगे क्या: खरा उतरने वाली कंपनियाें के साथ की जाएगी फाइनेंशियल बिड

सीईटीपी फाउंडेशन में बुधवार को टेक्निकल बिड्स में शिरकत करने वाली कंपनियों के प्रतिनिधियों की तरफ से सौंपी गई रिपोर्ट की फिजिबलिटी जांच की जाएगी। इसके लिए सीईटीपी में देश में पर्यावरण क्षेत्र में काम करने वाली कंपनी सेपियंस को कंसलटेंट नियुक्त रखा है। इसके बाद निदेशकों की टीम को जहां पर भी इन कंपनियों ने अपने जेडएलडी प्रोजेक्ट लगा रखे हैं। वहां पर जाकर भौतिक सत्यापन भी करेगी। इसमें प्रदूषण नियंत्रण मंडल के तकनीकी विशेषज्ञों के साथ ही प्रमुख एक्सपर्ट्स की मदद भी ली जाएगी। इसमें खरा उतरने वाली कंपनियों के साथ फाइनेंशियल बिड्स होगी। जनवरी में ही एक कंपनी के नाम टेंडर जारी करेंगे।

पाली. जेडएलडी प्रोजेक्ट को लेकर बुधवार को आयोजित बैठक में मौजूद पदाधिकारी व कंपनी प्रतिनिधि।

सीईटीपी फाउंडेशन कार्यालय में 3 कंपनियों ने 2 करोड़ की गारंटी के साथ टेक्निकल बिड्स सबमिट की

अब बुधवार को टेक्निकल बिड्स में भाग लेने के लिए तीन कंपनियां अरविंद इनवोसेल लिमिटेड, अहमदाबाद, डि-टोक्स कॉरपोरशन प्राइवेट लिमिटेड, सूरत तथा त्रिवेणी इंजीनियरिंग इंडस्ट्रीज, दिल्ली ही पूर्व निर्धारित शर्त 2 करोड़ की गारंटी के साथ अपनी टेक्निकल बीड्स सबमिट की। करीब 3 घंटे तक मंडिया रोड स्थित सीईटीपी फाउंडेशन कार्यालय में चली टेक्निकल बीड्स में सेपिंसय कंपनी के कंसलटेंट के अलावा सचिव अरुण जैन, उपाध्यक्ष अमरचंद समदड़िया, निदेशक रवि मेहता, विनय बंब, राकेश अखावत, कोषाध्यक्ष सुरेश गुप्ता, अनिल मेहता, प्रकाश गुंदेचा, रंगराज मेहता, संदीप मेहता, अभिषेक बालड़ समेत कई निदेशक मंडल के सदस्य भी मौजूद रहे।

प्रत्येक कंपनी का दावा

हमें जेडएलडी प्रोजेक्ट का अनुभव, देश में कई स्थानों पर संचालित हो रहे ऐसे ट्रीटमेंट प्लांट, पाली के जेडएलडी प्रोजेक्ट को सफलतापूर्वक संचालित करेंगे, इसका संचालन, मेंटेनस तथा ट्रीटेड पानी का 92 प्रतिशत तक पानी को री-यूज भी करेंगे। शेष पानी को एमईई से उड़ाकर नमक बनाया जाएगा। इससे स्लज की समस्या भी नहीं रहेगी।

आरटीएचपी से बंब निदेशक

टैक्सटाइल हैंड प्रोसेसर्स एसोसिएशन अध्यक्ष विनय बंब को सीईटीपी फाउंडेशन में निदेशक बनाया जा रहा है। पूर्व में रवि मोहन भूतड़ा को निदेशक बनाया था, मगर भूतड़ा ने उनके नाम की अनुशंसा की।

X
Pali News - rajasthan news zld project had a bank guarantee of 2 crore so 11 companies did not come
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना