• Hindi News
  • Rajasthan
  • Pali
  • Pali - सामवेदी ब्राह्मणों ने वैदिक मंत्रों के साथ विधि-विधान से किया उपाकर्म
--Advertisement--

सामवेदी ब्राह्मणों ने वैदिक मंत्रों के साथ विधि-विधान से किया उपाकर्म

सामवेदी ब्राह्मणों का उपाकर्म भाद्रपद शुक्ल द्वितीया हस्त नक्षत्र के दिन मंगलवार को पाली के लाखोटिया तालाब के गऊ...

Dainik Bhaskar

Sep 12, 2018, 05:36 AM IST
Pali - सामवेदी ब्राह्मणों ने वैदिक मंत्रों के साथ विधि-विधान से किया उपाकर्म
सामवेदी ब्राह्मणों का उपाकर्म भाद्रपद शुक्ल द्वितीया हस्त नक्षत्र के दिन मंगलवार को पाली के लाखोटिया तालाब के गऊ घाट पर आयोजित किया गया। श्रीमाली ब्राह्मण समाज विकास समिति के सत्यनारायण ओझा ने बताया कि सुबह 11 बजे काशी के सामवेदी आचार्य पंडित पंकज मिश्र द्वारा सामवेदी उपाकर्म का विधि विधान के साथ शुभारंभ किया गया। इसमें सरोवर में स्नान के पश्चात सभी ने पवित्र कुशा की पवित्र धारण कर पंचगव्य ग्रहण कर शुद्धिकरण किया। सामवेदी परंपरानुसार आचमन, प्राणायाम, शिखा बंधन, भस्मी धारण, गणपति स्मरण के पश्चात हैमाद्री संकल्प द्वारा वर्ष पर्यन्त के कार्यों का प्रायश्चित कर्म करने के बाद दश विधि स्नान किया गया। जिसमें मृतिका, भस्मी, गाय गोबर, गौमूत्र, फल, सर्वोषधि, हिरण्य, कुशा आदि दस पदार्थों से स्नान कर सामवेदी मध्यान्ह संध्या की गई। गायत्री स्मरण, माला जप कर्म, विष्णु पूजन, ऋषि स्थापन पूजन, विष्णु तर्पण, देव-ऋषि-पितृ तर्पण, मनुष्य तर्पण अन्य तर्पणादि सहित यज्ञोपवीत पूजन के बाद ऋषि उत्सर्जन व ब्रह्म यज्ञ किया गया। जिसमें मंत्रोच्चार के साथ नवीन पूजित यज्ञोपवीत धारण कर पुराने यज्ञोपवीत का विसर्जन किया गया। आरती के बाद प्रसादी का वितरण किया गया। अंत मे आचार्य पंकज मिश्र द्वारा सभी ब्राह्मण बन्धुओं के तिलक कर रक्षा सूत्र बांधकर आशीर्वाद प्रदान किया। कार्यक्रम संयोजक कमलकांत व्यास ने बताया कि रक्षा बंधन ब्राह्मणों का मुख्य त्यौहार है। प्रत्येक द्विज ब्राह्मण के लिए उपाकर्म करना आवश्यक है। इसके लिए पिछले कई वर्षों से श्रीमाली ब्राह्मण समाज के तत्वावधान में प्रतिवर्ष हस्त राखड़ी के दिन पाली के लाखोटिया सरोवर पर सामवेदी उपाकर्म का आयोजन काशी के प्रशिक्षित आचार्य द्वारा करवाया जाता है। कार्यक्रम में पाली, खेरवा, जोधपुर एवं मुंबई से आए विप्र बंधुओं ने भाग लिया। इस मौके पर मोतीलाल व्यास, मनोहरलाल व्यास, मदनलाल व्यास, सत्यनारायण ओझा, गंगाशंकर त्रिवेदी, निर्मल व्यास, कांति-प्रकाश व्यास, ओमप्रकाश ओझा, त्रिभुवन त्रिवेदी, विनोद व्यास, विनोद दवे, संजय अवस्थी, ओमप्रकाश व्यास, कृष्णकुमार शास्त्री, अरुण त्रिवेदी सहित कई विप्र बंधु मौजूद रहे।

भास्कर संवाददाता | पाली

सामवेदी ब्राह्मणों का उपाकर्म भाद्रपद शुक्ल द्वितीया हस्त नक्षत्र के दिन मंगलवार को पाली के लाखोटिया तालाब के गऊ घाट पर आयोजित किया गया। श्रीमाली ब्राह्मण समाज विकास समिति के सत्यनारायण ओझा ने बताया कि सुबह 11 बजे काशी के सामवेदी आचार्य पंडित पंकज मिश्र द्वारा सामवेदी उपाकर्म का विधि विधान के साथ शुभारंभ किया गया। इसमें सरोवर में स्नान के पश्चात सभी ने पवित्र कुशा की पवित्र धारण कर पंचगव्य ग्रहण कर शुद्धिकरण किया। सामवेदी परंपरानुसार आचमन, प्राणायाम, शिखा बंधन, भस्मी धारण, गणपति स्मरण के पश्चात हैमाद्री संकल्प द्वारा वर्ष पर्यन्त के कार्यों का प्रायश्चित कर्म करने के बाद दश विधि स्नान किया गया। जिसमें मृतिका, भस्मी, गाय गोबर, गौमूत्र, फल, सर्वोषधि, हिरण्य, कुशा आदि दस पदार्थों से स्नान कर सामवेदी मध्यान्ह संध्या की गई। गायत्री स्मरण, माला जप कर्म, विष्णु पूजन, ऋषि स्थापन पूजन, विष्णु तर्पण, देव-ऋषि-पितृ तर्पण, मनुष्य तर्पण अन्य तर्पणादि सहित यज्ञोपवीत पूजन के बाद ऋषि उत्सर्जन व ब्रह्म यज्ञ किया गया। जिसमें मंत्रोच्चार के साथ नवीन पूजित यज्ञोपवीत धारण कर पुराने यज्ञोपवीत का विसर्जन किया गया। आरती के बाद प्रसादी का वितरण किया गया। अंत मे आचार्य पंकज मिश्र द्वारा सभी ब्राह्मण बन्धुओं के तिलक कर रक्षा सूत्र बांधकर आशीर्वाद प्रदान किया। कार्यक्रम संयोजक कमलकांत व्यास ने बताया कि रक्षा बंधन ब्राह्मणों का मुख्य त्यौहार है। प्रत्येक द्विज ब्राह्मण के लिए उपाकर्म करना आवश्यक है। इसके लिए पिछले कई वर्षों से श्रीमाली ब्राह्मण समाज के तत्वावधान में प्रतिवर्ष हस्त राखड़ी के दिन पाली के लाखोटिया सरोवर पर सामवेदी उपाकर्म का आयोजन काशी के प्रशिक्षित आचार्य द्वारा करवाया जाता है। कार्यक्रम में पाली, खेरवा, जोधपुर एवं मुंबई से आए विप्र बंधुओं ने भाग लिया। इस मौके पर मोतीलाल व्यास, मनोहरलाल व्यास, मदनलाल व्यास, सत्यनारायण ओझा, गंगाशंकर त्रिवेदी, निर्मल व्यास, कांति-प्रकाश व्यास, ओमप्रकाश ओझा, त्रिभुवन त्रिवेदी, विनोद व्यास, विनोद दवे, संजय अवस्थी, ओमप्रकाश व्यास, कृष्णकुमार शास्त्री, अरुण त्रिवेदी सहित कई विप्र बंधु मौजूद रहे।

पाली. उपकर्म करते सामवेदी ब्राह्मण समाजबंधु। फोटो|भास्कर

X
Pali - सामवेदी ब्राह्मणों ने वैदिक मंत्रों के साथ विधि-विधान से किया उपाकर्म
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..