• Home
  • Rajasthan News
  • Parbatsar News
  • किसान नेताओं को किया था गिरफ्तार, परबतसर जेल में शुरू किया अनशन, एसडीएम की समझाइश पर तोड़ा
--Advertisement--

किसान नेताओं को किया था गिरफ्तार, परबतसर जेल में शुरू किया अनशन, एसडीएम की समझाइश पर तोड़ा

अखिल भारतीय किसान सभा के नेतृत्व में मंगलवार को अपनी मांगों को लेकर जयपुर विधानसभा घेराव के लिए कूच कर रहे किसानों...

Danik Bhaskar | Feb 22, 2018, 07:00 AM IST
अखिल भारतीय किसान सभा के नेतृत्व में मंगलवार को अपनी मांगों को लेकर जयपुर विधानसभा घेराव के लिए कूच कर रहे किसानों को गिरफ्तार कर जेल में बंद करने के मामले में बुधवार को किसान नेताओं ने सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर इस दमनकारी नीति का विरोध किया। इसके बाद तहसीलदार को प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन दिया। वहीं परबतसर में दो किसान नेताओं की गिरफ्तारी के बाद उन्हें जेल भेजने पर उन्होंने जेल में ही अनशन शुरू कर दिया। उनका कहना था कि उन्हें जयपुर में विधानसभा घेराव में शामिल होने के लिए जाने दिया जाए। वहीं बुधवार देर रात करीब 8.30 बजे एसडीएम की समझाइश पर दोनों किसान नेताओं का अनशन तुड़वाया गया।

किसान सभा की ओर से दिए गए ज्ञापन में बताया गया कि सरकार किसानों के आंदोलन को कुचलना चाहती है। उन्होंने कहा कि एक तरफ तो सरकार किसानों के हित की बात करती है तथा दूसरी तरफ किसानों को गिरफ्तार कर जेल में डाल रही है। जिसका किसानों के विरोध करते हुए जेल में बंद किसानों को रिहा करने की मांग की है। वहीं जेल में बंद मंगलवार को गिरफ्तार किए गए किसान नेता रामदेव ऊंटवाल व मनोहर सिंह नैणियां की जमानत के लिए वकील ने एसडीएम के समक्ष अर्जी पेश की। इस पर एसडीएम ने सुनवाई एक दिन के लिए टाल दी। वहीं मंगलवार रात से ही जेल मे बंद दोनों किसान नेता अनशन पर बैठे रहे। बुधवार रात करीब 8.30 बजे एसडीएम राजेंद्र सिंह चांदावत की समझाइश पर दोनों किसान नेताओं को ज्यूस पिलाकर उनका अनशन तुड़वाया गया। इस दौरान जेलर किरण सिंह भी मौजूद थे। वहीं ज्ञापन देते समय किसान नेता भंवर लाल मुंडेल, भैरूराम, गुमान लेगा, सुखराम डूडी, पीसी चौधरी सहित अनेक किसान नेता उपस्थित रहे। शांति भंग करने की आशंका को देखते हुए मंगलवार दोपहर में परबतसर पुलिस ने किसान नेता रामदेव ऊंटवाल व मनोहर सिंह नैणियां को गिरफ्तार कर एसडीएम कोर्ट में पेश किया था। जहां से दोनों को जेल भेज दिया गया था। दोनों किसान नेताओं की अगुवाई में परबतसर क्षेत्र से किसान 22 फरवरी को सुबह जयपुर कूच करने की पुलिस को सूचना मिलने पर पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार किया था।

जानकारी मिलने पर तुड़वाया अनशन


नेताओं की गिरफ्तारी के प्रयास करती रही पुलिस

पुलिस मंगलवार व बुधवार को दिनभर कॉमरेड नेताओं की गिरफ्तारी के प्रयास करती रही। थानाधिकारी गोमाराम चौधरी ने टीमों का गठन कर कॉमरेड मोतीलाल शर्मा को गिरफ्तार करने के लिए सफेड़, देवरी, डोडवाड़ी, बूड़सू सहित अन्य संभावित स्थानों पर दबिशें दी। परंतु उनका कोई सुराग नहीं मिला।

डीडवाना में कॉमरेड नेताओं ने किया प्रदर्शन

डीडवाना |
अखिल भारतीय किसान सभा के तत्वावधान में बुधवार को कॉमरेड नेताओं व किसान नेताओं की गिरफ्तारी के खिलाफ रैली निकालकर उपखंड परिसर के बाहर मुख्यमंत्री का पुतला जलाया गया एवं एसडीएम को राज्यपाल के नाम ज्ञापन दिया गया। ज्ञापन में बताया कि किसानों की संपूर्ण कर्जमाफी व 13 सितंबर को हुए समझौते को लागू करवाने की मांग को लेकर कॉमरेड अमराराम के नेतृत्व में किसानों का पैदल जत्था जयपुर के लिए रवाना हुआ था। मंगलवार को जयपुर पहुंचने से पहले कॉमरेड नेताओं व किसान नेताओं को गिरफ्तार कर लिया गया। ज्ञापन में कॉमरेड नेताओं व किसान नेताओं की जल्द रिहाई की मांग की गई। ज्ञापन में बताया कि अगर कॉमरेड नेताओं की रिहाई नहीं की जाती है तो किसान सभा के नेतृत्व में 22 फरवरी को डीडवाना से बड़ी संख्या में किसान जयपुर जाएंगे। ज्ञापन देने वालों में एसएफआई जिला कमेटी सदस्य सुरेंद्र नेतड़, महेंद्र नेतड़, गोपीराम गोदारा, रणवीर सिंह, हरीशंकर, सुरजीत डूडी, प्रकाश सेवदा, मुकेश बुगालिया, सुरेश डोडवाड़िया, गोरधन डूडी, भागीरथ बुगालिया सहित अनेक कार्यकर्ता उपस्थित थे।