• Home
  • Rajasthan News
  • Parbatsar News
  • मनुष्य के सौलह संस्कार बताए हैं, उनका पालन करना चाहिए
--Advertisement--

मनुष्य के सौलह संस्कार बताए हैं, उनका पालन करना चाहिए

हनुमान कॉलोनी में चल रही भागवत कथा में कथा वाचिका कंचन पारीक बुरहानपुर ने कहा कि गाय के अंदर 33 करोड़ देवी-देवताओं...

Danik Bhaskar | May 13, 2018, 05:55 AM IST
हनुमान कॉलोनी में चल रही भागवत कथा में कथा वाचिका कंचन पारीक बुरहानपुर ने कहा कि गाय के अंदर 33 करोड़ देवी-देवताओं का वास होता है। उन्होंने कहा कि भारतीय संस्कृति में मनुष्य के सोलह संस्कार माने गए हैं। जिनका पालन करना आवश्यक है। भगवान श्री कृष्ण ने अपने सखाओं के साथ बाल रूप में अनेक लीलाएं करते हुए पृथ्वी के निवासियों को अलग-अलग रूप से परिचित करवाया। इंद्र के कोप करने पर भगवान ने गौवर्धन पर्वत को अपनी अंगुली पर उठा कर सभी प्राणियों की रक्षा की थी। हमें भी अपने परिवार, समाज, देश की रक्षा करने का संकल्प करना चाहिए। समाज और देश से ही व्यक्ति की पहचान होती है। कथा के दौरान गौवर्धन पर्वत धारण करने की झांकी, कृष्ण के बालरूप की झांकी सजाई गई।

मौलासर| गांव बेगसर की श्री बालाजी मंदिर में सात दिवसीय श्रीमद् भागवत कथा का समापन पूर्णाहूति के साथ किया। इस मौके पर क्षेत्र के सैकड़ों श्रद्धालुओं ने भाग लिया। समापन से पूर्व व्यासपीठ पर विराजित पं.जयगोपाल शास्त्री ने सत्राजित मणि प्रसंग, जामवती, कृष्ण-विवाह, श्रीकृष्ण-सुदामा की मित्रता से संबंधित प्रसंग सुनाए। इस मौके पर राजेश कुमार, दुर्ग सिंह, सोहनलाल, जुगल किशोर, रामअवतार शर्मा, हरी शर्मा सहित अनेक लोगो ने सहयोग प्रदान किया।

कलश यात्रा के साथ गौकथा शुरू

मौलासर| निमोद में रविवार से आयोजित सात दिवसीय गौ कथा महोत्सव को लेकर कलश यात्रा का आयोजन किया जाएगा। कथा 13 से 19 मई तक स्थानीय गौशाला में कथावाचक साध्वी गोपाल दीदी के सान्निध्य में की जाएगी। पूर्व उपसरपंच धर्मेंद्र भार्गव ने बताया कि सात दिवसीय गौ कथा के शुभारंभ से पहले 8 बजे से कलश यात्रा का शुभारंभ बालाजी मंदिर से किया जाएगा। जो कस्बे के विभिन्न मार्गो से होते हुए गौशाला कथा स्थल तक पहुंचेगी। भार्गव ने बताया कि कथा के आयोजन को लेकर आसपास के गांवों से श्रद्धालुओं को लाने ले जाने का प्रबंध भी किया गया है। कथा प्रतिदिन शाम सात से रात्रि 10 बजे तक प्रवचन किए जाएंगे। इस दौरान बड़ी संख्या में श्रद्धालु मौजूद रहेंगे।