Hindi News »Rajasthan »Parbatsar» गोदाम के शटर का ताला तोड़ा, दीवार में छेद कर स्ट्रांग रूम में घुसने का प्रयास, बैंक में रखे 21 लाख रुपए बच गए

गोदाम के शटर का ताला तोड़ा, दीवार में छेद कर स्ट्रांग रूम में घुसने का प्रयास, बैंक में रखे 21 लाख रुपए बच गए

गांधी चौक के पास किशनगढ़ रोड स्थित दी नागौर सेंट्रल को-ऑपरेटिव बैंक की शाखा में चोरों ने चोरी का प्रयास किया।...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 10, 2018, 06:01 AM IST

गोदाम के शटर का ताला तोड़ा, दीवार में छेद कर स्ट्रांग रूम में घुसने का प्रयास, बैंक में रखे 21 लाख रुपए बच गए
गांधी चौक के पास किशनगढ़ रोड स्थित दी नागौर सेंट्रल को-ऑपरेटिव बैंक की शाखा में चोरों ने चोरी का प्रयास किया। लेकिन वे स्ट्रांग रूम तक पहुंचने में सफल नहीं हो पाए। इससे बैंक के लॉकर रूम में रखे 21 लाख रुपए बच गए। वारदात के लिए पहले चोरों ने बैंक भवन के पीछे स्थित एक गोदाम के ताले तोड़े। गोदाम और बैंक के बीच दीवार में लोहे के सरिए से छेद भी किया। लेकिन दीवार के पास स्टेशनरी की मात्रा अधिक होने और छेद छोटा होने से वे स्ट्रांग रूम में प्रवेश नहीं कर सके। मालिक जितेंद्र कुमार बागड़ा सुबह गोदाम पहुंचा तो शटर का ताला टूटा देखा। उसने भीतर देखा तो सारा माल सुरक्षित था। लेकिन दीवार में छेद और स्टेशनरी बिखरी देखकर उसने बैंक कर्मचारी को सूचना दी। कर्मचारी ने बैंक मैनेजर संजय पारीक को सूचना दी। उन्होंने पुलिस को सूचना दी। थानाधिकारी पुष्पेंद्र सिंह ने मौका मुआयना किया। मैनेजर पारीक ने बताया कि बैंक के स्ट्रांग रूम में रखी तिजोरी सुरक्षित है। इसमें करीब 21 लाख रुपए थे।

दीवार के पास स्टेशनरी ज्यादा थी, इसलिए भीतर नहीं पहुंच सके चोर

गोदाम और बैंक के स्ट्रांग रूम के बीच की दीवार में छेद कर चोरों ने भीतर घुसने का प्रयास किया। लेकिन बैंक में दीवार के पास अधिक मात्रा में स्टेशनरी रखी हुई थी। इसके चलते चोर बड़ा छेद नहीं कर पाए। छेद छोटा होने के कारण वे स्ट्रांग रूम में नहीं घुस पाए। मैनेजर ने परबतसर थाने में अज्ञात चोरों के खिलाफ मामला दर्ज करवाया है।

परबतसर. बैंक में सेंधमारी का किया प्रयास।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Parbatsar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×