• Home
  • Rajasthan News
  • Pawta News
  • श्याम मंदिर में फागोत्सव में गायकों ने दी प्रस्तुति
--Advertisement--

श्याम मंदिर में फागोत्सव में गायकों ने दी प्रस्तुति

धौला| ताला गांव स्थित श्याम मंदिर में मंगलवार को देर रात में फागोत्सव हुआ। इसमें स्थानीय व बाहरी भजन गायकों ने...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 05:50 AM IST
धौला| ताला गांव स्थित श्याम मंदिर में मंगलवार को देर रात में फागोत्सव हुआ। इसमें स्थानीय व बाहरी भजन गायकों ने बाबा के दरबार में भजन आपकी कृपा से सब काम हो रहा है..., रंग मत डारे र सांवरिया... सहित भजनों की प्रस्तुति देकर माहौल को भक्ति के रंग में रंग दिया।

श्याम धणी के भजनों पर श्रद्धालु अपने आप को झूमने से नहीं रोक सके। जयपुर जिला प्रमुख मूलचन्द मीणा ने ताला गांव में सामुदायिक भवन निर्माण की घोषणा की। सरपंच अन्नू खां ने बिजाका की ढाणी जाने वाली सड़क से मंदिर तक सीसी सड़क व पेयजल टंकी निर्माण करने की घोषणा की। भामाशाह नवलकिशोर गुप्ता, रामकरण कुम्हार, कमलसिंह शेखावत व कैलाशचंद शर्मा ने भी मंदिर निर्माण में सहयोग की घोषणा की। मौके पर श्याम धणी की मनमोहक झांकी सजाई गई। वहीं रंग गुलाल के साथ फागोत्सव मनाया गया। इससे पहले मंदिर कमेटी के सदस्यों ने कार्यक्रम में आए हुए अतिथियों का स्वागत किया। श्रद्धालुओं को पंगत प्रसादी दी गई। रिछपाल शर्मा, विष्णु सैनी आदि मौजूद थे।

चक्रतीर्थ में टीलाजी महाराज के निशान चढ़ाए

पावटा ग्रामीण | टसकोला ग्राम पंचायत के अन्तर्गत चक्रतीर्थ की ढाणी स्थित टीलाजी महाराज मंदिर में बुधवार को सैकडों की तादाद में आए महिला पुरुष श्रद्धालुओं ने पहुंचकर निशान चढ़ाकर मंन्नतें मांगी। टसकोला से आए श्रद्धालुओं ने पहले जीणमाता की पूजा अर्चना की। बाद में झांकी के साथ होली खेलते हुए व गाते हुए चक्रतीर्थ टीलाजी के मंदिर में पहुंचकर निशान चढ़ाए।

सरपंच मुकेश सैनी, महावीर प्रसाद स्वामी, अश्वनी स्वामी, प्रदीप स्वामी, पवन, वार्डपंच कैलादेवी, श्याम लाल आदि मौजूद थे। इसी तरह भौमियां मंदिर की तरफ से आए झांकी के साथ श्रद्धालुओं ने टीलाजी महाराज की पूजा अर्चना कर निशान चढ़ाकर मन्नते मांगी। जगदीश राबड आदि मौजूद थे।

पण्डितपुरा की तरफ से आए श्रद्धालुओं ने ब्रह्मजोडी के ठाकुरजी में मंदिर में महंत हरिदास के सान्निध्य में पूजा अर्चना कर टीलाजी महाराज के निशान चढ़ाए।

पावटा ग्रामीण. टीलाजी महाराज के निशान चढ़ाने जाते श्रद्धालु।