पावटा

--Advertisement--

पावटा बिजली ग्रिड पर चल रहा धरना समाप्त

कस्बे के सहायक अभियन्ता बिजली कार्यालय पर किसानों व आम उपभोक्ता के बिल दो माह में देने की मांग को लेकर डॉ. नगेन्द्र...

Danik Bhaskar

Sep 11, 2018, 06:06 AM IST
कस्बे के सहायक अभियन्ता बिजली कार्यालय पर किसानों व आम उपभोक्ता के बिल दो माह में देने की मांग को लेकर डॉ. नगेन्द्र सिंह शेखावत के नेतृत्व में चल रहा धरना पांचवें दिन सोमवार सांय कोटपूतली एसडीएम ज्योति मीणा के आश्वासन पर समाप्त हुआ। डॉ. शेखावत ने बताया कि किसानों व आम उपभोक्ताओं को पहले दो महीने में बिजली बिल आता था अब प्रतिमाह आ रहा है जिससे किसानों का आर्थिक रूप से शोषण हो रहा है।

बिजली बिल के विरोध व पुन: दो माह में ही बिजली बिल देने की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन धरना चल रहा था। सायं कोटपूतली एसडीएम ज्योति मीणा, एक्सईएन केसी वर्मा, एईएन पावटा विकास कुमार, जेईएन संजीव जाखड़, एसएचओ प्रागपुरा डा. सुरेशकुमार यादव, नायब तहसीलदार संदीप चौधरी धरना स्थल पर पहुंचकर मांगें सुनी। अधिकारियों ने किसानों व आमउपभोक्ताओं की समस्या सुनते हुए उनकी समस्या ऊर्जा मंत्री को पहुंचाने का आश्वासन दिया। हर महीने मिलने वाले बिजली बिल को जमा करवाने के लिए सभी किसानों व उपभोक्ताओं को बिना पैनल्टी छह महीने का समय मिलेगा और बिजली बिलों में कमियों व अन्य बिजली सम्बन्धित समस्याओं के निस्तारण के लिए 14 व 18 सितम्बर को पावटा पावर हाउस पर कैम्प लगाने का आश्वासन दिया। इसके बाद नगेन्द्र सिंह सहित सैकडों लाेगों ने धरना समाप्त करने की घोषणा की। धरने में रामोतार गढ़वाल, राधेश्याम शुक्लावास, शैतान गुरूजी, विक्रम पुरूषार्थी, पूरण यादव, रामकुवार रावत, रामकरण गुर्जर, कैलाश बोहरा, पूरण यादव, सरदार थालोड़, मेहर, सूबेदार बलबीर सिंह आदि ने सम्बोधित किया।

आंदोलन की जीत

भास्कर न्यूज | पावटा

कस्बे के सहायक अभियन्ता बिजली कार्यालय पर किसानों व आम उपभोक्ता के बिल दो माह में देने की मांग को लेकर डॉ. नगेन्द्र सिंह शेखावत के नेतृत्व में चल रहा धरना पांचवें दिन सोमवार सांय कोटपूतली एसडीएम ज्योति मीणा के आश्वासन पर समाप्त हुआ। डॉ. शेखावत ने बताया कि किसानों व आम उपभोक्ताओं को पहले दो महीने में बिजली बिल आता था अब प्रतिमाह आ रहा है जिससे किसानों का आर्थिक रूप से शोषण हो रहा है।

बिजली बिल के विरोध व पुन: दो माह में ही बिजली बिल देने की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन धरना चल रहा था। सायं कोटपूतली एसडीएम ज्योति मीणा, एक्सईएन केसी वर्मा, एईएन पावटा विकास कुमार, जेईएन संजीव जाखड़, एसएचओ प्रागपुरा डा. सुरेशकुमार यादव, नायब तहसीलदार संदीप चौधरी धरना स्थल पर पहुंचकर मांगें सुनी। अधिकारियों ने किसानों व आमउपभोक्ताओं की समस्या सुनते हुए उनकी समस्या ऊर्जा मंत्री को पहुंचाने का आश्वासन दिया। हर महीने मिलने वाले बिजली बिल को जमा करवाने के लिए सभी किसानों व उपभोक्ताओं को बिना पैनल्टी छह महीने का समय मिलेगा और बिजली बिलों में कमियों व अन्य बिजली सम्बन्धित समस्याओं के निस्तारण के लिए 14 व 18 सितम्बर को पावटा पावर हाउस पर कैम्प लगाने का आश्वासन दिया। इसके बाद नगेन्द्र सिंह सहित सैकडों लाेगों ने धरना समाप्त करने की घोषणा की। धरने में रामोतार गढ़वाल, राधेश्याम शुक्लावास, शैतान गुरूजी, विक्रम पुरूषार्थी, पूरण यादव, रामकुवार रावत, रामकरण गुर्जर, कैलाश बोहरा, पूरण यादव, सरदार थालोड़, मेहर, सूबेदार बलबीर सिंह आदि ने सम्बोधित किया।

एसडीएम के आश्वासन पर माने लोग, अब बिजली का बिल दो माह में ही आएगा

Click to listen..