--Advertisement--

भजनों के साथ निकाली कलश यात्रा, जगह-जगह स्वागत

श्रीचारभुजा मंदिर में भागवत कथा की शुरुआत कलशयात्रा निकाले जाने से हुई। कथा को लेकर भूतेश्वर शिवालय में कलश ध्वज...

Danik Bhaskar | Jan 24, 2018, 10:05 PM IST
श्रीचारभुजा मंदिर में भागवत कथा की शुरुआत कलशयात्रा निकाले जाने से हुई। कथा को लेकर भूतेश्वर शिवालय में कलश ध्वज पूजा अर्चना की गई। इसके बाद गाजे बाजे से गांव के विभिन्न मार्गों में होकर कलशयात्रा निकाली गई।

जिसमें श्रद्धालु नाचते गाते हुए चले। कथा के प्रथम दिन भागवताचार्य पंड़ित चिरंजीलाल दाधीच ने भागवत कथा का सार सुनाया तथा कहा कि प्रत्येक व्यक्ति को भागवत कथा का श्रवण, मनन, चिंतन करना चाहिए। कथा में भक्ति भजनों पर महिलाओं ने नृत्य किया। कथा का विश्राम आरती एवं प्रसादी वितरण पर हुआ।

अहमदगंज में चल रही भागवत कथा में पंड़ित रामावतार शास्त्री ने गजेन्द्र मोक्ष, समुद्र मंथन, भगवान वामन प्राकट्य तथा रामचरित्र का प्रसंग सुनाया। उन्होंने कथा में कहा कि भगवान राम के द्वारा स्थापित मर्यादा का अनुसरण कर जीवन को सफल बनाए। मां, महात्मा, परमात्मा को कभी नहीं भूलना चाहिए।

पीपलू। कस्बे में भागवत कथा को लेकर निकाली गई कलशयात्रा