• Home
  • Rajasthan News
  • Peplu News
  • पीपलू उपखंड में अंधड़ से तबाही, 30 खंभे टूटे, पांच गांवों की बिजली ठप, कई परिवार बेघर
--Advertisement--

पीपलू उपखंड में अंधड़ से तबाही, 30 खंभे टूटे, पांच गांवों की बिजली ठप, कई परिवार बेघर

उपखंड क्षेत्र के कई गांवों में सोमवार शाम आए अंधड़ से 30 से अधिक बिजली के खंभे कुछ ही पल में गिर गए तथा कई खंभे टूट गए।...

Danik Bhaskar | Jun 13, 2018, 05:35 AM IST
उपखंड क्षेत्र के कई गांवों में सोमवार शाम आए अंधड़ से 30 से अधिक बिजली के खंभे कुछ ही पल में गिर गए तथा कई खंभे टूट गए। कई गांवों में मकानों पर लगे टीन, छप्पर उड़कर तहस नहस हो गए। पक्के मकानों की दीवारें तक गिर गईं। बिजली लाइनें गिरने से मोहनी, अरनिया कांकड़, जानकी वल्लभपुरा, हरिपुरा सहित आसपास के क्षेत्र में बिजली सप्लाई ठप हो गई। लोगों के अनुसार अंधड़ की रफ्तार 70 से 80 किमी प्रति घंटा की थी।

इन दिनों मौसम में आए बदलाव से रोज आंधी तूफान या हल्की बारिश का दौर चल रहा है। कई बार दिन में तेज धूप से लोग बेहाल हैं। दिनभर धूप के बाद शाम को बादल छा रहे हैं। कई बार तेज हवा के साथ बादल छंट जाते हैं तो कई बार तेज अंधड़ से जनजीवन प्रभावित हो रहा है। सोमवार शाम को आए अंधड़ ने उपखंड क्षेत्र में तबाही मचा दी। कई परिवार बेघर हो गए। कई परिवारों की स्थिति तो ऐसी हो गई कि उन्हें तंबू लगाकर रहने की मजबूरी हो गई। कई निर्माणाधीन मकानों की दीवारें धराशायी हो गई तो जिन मकानों की छत पर टिनशेड लगे हुए थे वे उड़कर दूर जा गिरे।

पीपलू उपखंड के अरनिया कांकड में अंधड़ से गिरी दीवार

किरावल में चार मकानों की दीवारें गिरीं

पचेवर | किरावल गांव में सोमवार शाम आई तेज आंधी से चार मकानों में नुकसान हो गया। मकानों के चद्दर उड़ गए और दीवारें गिर गईं। दीवार गिरने से एक मवेशी की मौत हो गई। ट्रैक्टर भी क्षतिग्रस्त हो गया। समाजसेवी महेन्द्र शर्मा ने बताया कि सोमवार को आई तेज आंधी के कारण नौरत तिवाड़ी के घर की पक्की दीवार के गिरने से उसके नीचे बंधे एक मवेशी की मौत हो गई। कालू पटेल के मकान की दीवार गिरने से उसके पास खड़ा ट्रैक्टर क्षतिग्रस्त हो गया। जगदीश कूंटवाले व रामप्रसाद तिवाड़ी के मकानों की दीवारें गिर गईं। ग्रामीणों ने अपने स्तर पर राहत व बचाव कार्य किया।

पचेवर. किरावल मे गिरी एक मकान की दीवार व टीनशेड।

इन परिवारों को हुआ नुकसान

सोमवार शाम को आए तेज अंधड़ से मोहिनी में रामनारायण माली के 30 लोहे के टीनशेड, 30 फुट पक्की दीवार, सीताराम माली के 20 सीमेंट के टीनशेड, राजाराम माली के 7 लोहे के टीनशेड, 15 फीट पक्की दीवार, मन्नालाल माली-रामसिंह के 6-6 सीमेंट के टीनशेड, जगदीश कुम्हार की 20 फुट पक्की दीवार गिर गई तथा 15 लोहे के टीनशेड उड़कर तहस नहस हो गए। रामनारायण की एक भैंस टीन से कटने से घायल हो गई। इसी तरह अरनियाकांकड के भरत मीणा के लोहे के टीन, पक्के मकान की दीवार, रक्खाराम जाट के 7 सीमेंट के टीन, बदरी जाट के 5 सीमेंट के टीन टूट गए तथा एक आम का पेड़ गिर गया। इसी तरह जानकी वल्लभपुरा में सूरज, प्रहलाद, शंकर, महेन्द्र, रामप्रसाद, गंगाराम, बाबू बागरिया के टीन तथा छप्पर गिर गया। मकानों की दीवारें गिरने से काफी नुकसान हुआ है। कनिष्ठ अभियंता भरत विजय ने बताया कि मोहनी, अरनियाकांकड, जानकी वल्लभपुरा, हरिपुरा गांवों को जाने वाली लाइन में लगभग 30 खंभे क्षतिग्रस्त हुए हैं। बिजली सुचारू करने के लिए युद्धस्तर पर कार्य शुरू किया गया है।