Hindi News »Rajasthan »Peplu» वेतन विसंगति पर बिजली अभियंताओं ने कलाई पर काली पट्टी बांधकर जताया विरोध

वेतन विसंगति पर बिजली अभियंताओं ने कलाई पर काली पट्टी बांधकर जताया विरोध

डिग्री इंजीनियर को प्रदेश में देय ग्रेड पे की विसंगतियों को लेकर सोमवार को यहां विद्युत निगम कार्यालय में...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 24, 2018, 05:40 AM IST

वेतन विसंगति पर बिजली अभियंताओं ने कलाई पर काली पट्टी बांधकर जताया विरोध
डिग्री इंजीनियर को प्रदेश में देय ग्रेड पे की विसंगतियों को लेकर सोमवार को यहां विद्युत निगम कार्यालय में अभियंताओं ने कलाई पर काली पट्टी बांधकर विरोध जताया। प्रदेश में इंजीनियर को देय पे ग्रेड कम है। जबकि सत्ताधारी पार्टी ने अपने चुनावी घोषणापत्र में वेतन विसंगतियों को दूर करने का संकल्प किया था। परंतु अब तक इंजीनियर एक मजदूर की श्रेणी में अपमानजनक सेवा करने को विवश है। विद्युत अभियंताओं ने सोमवार को यहां सहायक अभियंता कार्यालय में काम के दौरान हाथ की कलाई पर काली पट्टी बांधकर विरोध प्रदर्शन किया ।विरोध जता रहे कनिष्ठ अभियंता अजय मीणा, चंद्रशेखर, धर्म चंद जैन ने बताया कि अगर राज्य सरकार ने वेतन विसंगति को दूर नहीं किया तो आगामी एक मई को मांग को लेकर जयपुर में विशाल रैली कर आंदोलन तेज किया जाएगा।

एक मई को इंजीनियर मनाएंगे मजदूर दिवस

पीपलू| बिजली निगम सहित अन्य विभागों के जेईएन इंजिनियर्स ने पांचवे दिन शुक्रवार को भी काली पट्टी बांध कार्य किया। जेईएन त्रिभुवन भरत विजय ने बताया कि डिग्री इंजिनियर काउंसिल ऑफ राजस्थान (डेकोर) के प्रदेशव्यापी आह्वान के तहत अपमान जनक वेतन विसंगतियों के विरोध में जब तक उन्हें अपना हक 4800 ग्रेड पे नहीं मिल जाता है, तब तक वह अपनी ड्यूटी सरकार तथा प्रशासन के विरोध स्वरूप काली पट्टी बांध कर करेंगे। इसके लिए 26 अप्रैल को जिलास्तर पर समस्त विभागों के सभी जेईएन कलक्टर को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपेगे तथा अपने हक़ की आवाज़ उठाएंगे।

देवली. विद्युत निगम के सहायक अभियंता कार्यालय पर सोमवार को वेतन विसंगति को लेकर अभियंताओं ने हाथ की कलाई पर काली पट्टी बांध कर विरोध जताते हुए।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Peplu

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×