• Home
  • Rajasthan News
  • Peplu News
  • तहसीलदार की शिकायत करने वाले दो जनों को थमाए नोटिस पर वबाल
--Advertisement--

तहसीलदार की शिकायत करने वाले दो जनों को थमाए नोटिस पर वबाल

दो जागरुक कार्यकर्ताओं को तहसीलदार की एसीबी समेत उच्च स्तर पर सरकारी आवास में रहकर हाउस रेंट उठाने की शिकायत करना...

Danik Bhaskar | Jul 03, 2018, 05:45 AM IST
दो जागरुक कार्यकर्ताओं को तहसीलदार की एसीबी समेत उच्च स्तर पर सरकारी आवास में रहकर हाउस रेंट उठाने की शिकायत करना सोमवार को भारी पड गया। तहसीलदार ने उनके खिलाफ कार्रवाई होती देख अब शिकायत करने वाले दोनों कार्यकर्ताओं पर दबाव बनाने के लिए सोमवार को नोटिस देकर शिकायत के तथ्य पेश करने को कहा। साथ ही शिकायतकर्ताओं पर पांच करोड रुपए की मानहानि का केस करने की धमकी दी।

इसका पता लगने के बाद ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष रामगोपाल मीणा व पूर्व विधायक कमल बैरवा सहित कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने इसकी कड़े शब्दों में निंदा की है तथा निश्पक्ष कार्रवाई की मांग को लेकर 5 जुलाई को कलेक्टर को ज्ञापन देने का निर्णय लिया।

जानकारी के अनुसार क्षेत्र के जागरुक कार्यकर्ता रामबख्श मीणा, अहसान नद्दाफी ने तहसीलदार के खिलाफ सरकारी आवास में रहकर हाउस रेंट उठाने के मामले को लेकर की गई नियमितता की शिकायत भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो जयपुर, राजस्व मंडल अजमेर, कलेक्टर आदि को की थी। इस पर विचाराधीन जांच को दबाने को लेकर तहसीलदार ने इन कार्यकर्ताओं को पांच करोड़ रुपए की मानहानि व पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराने की धमकी देते हुए सोमवार को एक नोटिस थमाया है, नोटिस में चेताया गया है कि वह उनके समक्ष पेश होकर की गई शिकायत के साक्ष्य प्रस्तुत करे। अन्यथा सरकारी रिकॉर्ड चोरी कर ले जाने के आशय की कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

तहसीलदार बेवजह शिकायतकर्ताओं को नोटिस देकर धमका रहे है कांग्रेस के अध्यक्ष ब्लॉक राम गोपाल मीणा ने बताया कि पीपलू तहसीलदार चोरी और सीनाजोरी वाली कहावत चरितार्थ करते हुए उल्टा चोर कोतवाल को डांटने वाला कृत्य कर रहे है। जो जागरक दलित, अल्पसंख्यक कार्यकर्ताओं को नोटिस देकर धमका रहे हैं।

पीपलू. शिकायतकर्ताओं को धमकाने को लेकर दिया गया नोटिस

कलेक्टर को ज्ञापन देगे कांग्रेसी

पूर्व विधायक कमल बैरवा ने बताया कि धमकाने का नोटिस दिया गया है, इसके खिलाफ 5 जुलाई को कांग्रेस कार्यकर्ता कलेक्टर को ज्ञापन देकर निपक्ष कार्रवाई की मांग करेंगे।

मेरे पर आरोप निराधार

दोनों युवकों के मुझ पर लगाए आरोप गलत है। दोनों युवकों के पास ऐसे दस्तावेजों की फोटो कॉपी है। जिनकी मूल कॉपी तहसील के लॉकर में है। इनके पास इन दस्तावेजों की फोटो कॉपी कैसे आई। ये युवक किसी से मिलीभगत कर या फिर चोरी से ये दस्तावेज बाहर ले जाकर उनकी फोटो काॅफी कर ली। इनके पास फोटो कॉफी कैसे आई? इसका पता लगाने के लिए इन दोनों को नोटिस दिया है।