• Home
  • Rajasthan News
  • Phalodi
  • ग्राम विकास अधिकारी पर चहेतों को लाभ पहुंचाने का आरोप
--Advertisement--

ग्राम विकास अधिकारी पर चहेतों को लाभ पहुंचाने का आरोप

विकास अधिकारी से की शिकायत- चहेतों के साथ बैठ के सूची बनाई पक्के आवासों को कच्चा बताया, सूची में नाम लिखने के रुपए...

Danik Bhaskar | Aug 09, 2018, 06:50 AM IST
विकास अधिकारी से की शिकायत- चहेतों के साथ बैठ के सूची बनाई पक्के आवासों को कच्चा बताया, सूची में नाम लिखने के रुपए लिए

बाप| ग्राम पंचायत कल्याणसिंह की सिड्ड के ग्रामीणों ने ग्राम विकास अधिकारी पर पीएम आवास योजना में जमकर धांधली करने का आराेप लगाया है। विकास अधिकारी से शिकायत कर ग्रामीणों ने बताया कि ग्राम विकास अधिकारी ने अपने चहेते लोगों के साथ बैठ कर सर्वे सूची तैयार की, जिसमें पक्के आवासों को कच्चा बताया और सूची में नाम लिखने के लिए पैसे भी लिए गए। ग्रामीण रमेश, नारायणराम, भैराराम व जगदीश नेे विकास अधिकारी को बताया कि जुलाई 2018 में आदर्श ग्राम मालमसिंह की सिड्ड में पंचायत समिति फलोदी से चेलाराम पीएम आवास योजना को लेकर पात्र परिवारों का सर्वे करने आए थे। लेकिन ग्राम विकास अधिकारी पदमाराम के कहे अनुसार दो व्यक्तियों ने चेलाराम के पास बैठकर सर्वे सूची तैयार कर ली। इसमें कई अपात्र परिवारों का नाम पैसा लेकर जोड़ दिया गया। जिनके पक्के मकान थे उनको सर्वे सूची में शामिल कर लिया गया। कई अपात्र परिवार आज भी सूची से वंचित है। ग्रामीणों ने विकास अधिकारी को एक सूची दी, जिसमें उन लोगों के नाम लिखे हैं जिनके पक्के मकान होने के बाद भी सर्वे में लिया गया है। ग्रामीणों ने पुन: सर्वे करवा पात्र परिवारों को लाभ दिलाने व दोषी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

10 हजार मांगे, पांच दिए फिर भी योजना से वंचित

श्रवण कुमार ने विकास अधिकारी को दिए एक अन्य शिकायती पत्र में बताया कि पीएम आवास योजना मे नाम आने पर ग्राम विकास अधिकारी के पास गया। ग्राम विकास अधिकारी ने आवश्यक कागजात के साथ दस हजार रुपए मांगे। साथ ही कहा कि अगर नहीं दिए तो योजना से नाम काट दूंगा। इसके बाद वह मजदूरी करने के लिए मुंबई चला गया। फाेन पर बात हुई तो ग्राम विकास अधिकारी ने पैसे देने की बात दोहराई। उसने अपना यूको का बैंक खाता नंबर दिया। 8 सितंबर 2016 को मुंबई से उनके खाते में पांच हजार रुपए भी जमा करवा दिए। उसके बाद कहा कि पहली किस्त आने पर शेष पांच हजार दे दूंगा, लेकिन ग्राम विकास अधिकारी नहीं माना। पत्र में बताया कि शेष पांच हजार नहीं देने की वजह से वह पीएम आवास योजना से आज भी वंचित है। श्रवण कुमार ने बैंक में पैसे जमा करवाने की बैंक स्लिप भी दिखाई। बाप विकास अधिकारी डॉ. दीपक कुमार ने बताया कि ग्रामीणों के आरोपों को लेकर जांच कमेटी गठित की गई है। जांच में दोषी पाए जाने पर कार्रवाई की जाएगी।