• Hindi News
  • Rajasthan
  • Pokran
  • होली के पर्व पर अबीर व गुलाल से रंगीन हुई जैसाणे की सड़कें
--Advertisement--

होली के पर्व पर अबीर व गुलाल से रंगीन हुई जैसाणे की सड़कें

Pokran News - जिले भर में होली का त्योहार उल्लास व उमंग के साथ मनाया गया। दो दिवसीय होली के त्योहार पर पहले दिन जहां माला घोळाई व...

Dainik Bhaskar

Mar 04, 2018, 04:00 AM IST
होली के पर्व पर अबीर व गुलाल से रंगीन हुई जैसाणे की सड़कें
जिले भर में होली का त्योहार उल्लास व उमंग के साथ मनाया गया। दो दिवसीय होली के त्योहार पर पहले दिन जहां माला घोळाई व होलिका दहन की परंपरा का निर्वाह विधिवत पूजा अर्चना के साथ किया गया और दूसरे दिन शुक्रवार को धुलंडी के दिन रंगों से सराबोर होकर लोगों ने होली की मस्ती की। फाग के गूंजते गीतों के बीच सभी ने होली के हुड़दंग में भाग लिया और परंपरा अनुसार होली खेली गई।

होली पर जैसलमेर में मस्ती का आलम नजर आया। होली के हुड़दंग में आसमान गुलाल और अबीर से आच्छादित हो गया। लोगों ने घरों की छतों से रंग और गुलाल बरसाई। फिजां में रंग ही रंग नजर आए। पुते हुए चेहरे, रंग लगे गाल और उड़ती गुलाल ने होली के आनंद को चौगुना कर दिया। आसमान में गुलाल के रंग बिखर रहे थे वहीं शहर की सड़कें भी रंगीन हो गई।

जिले के हर समाज में होली मनाने की अलग अलग परंपराएं है। समाज के लोग परंपराओं को निर्वहन करते हुए होली का पर्व मनाते हैं। होली के असली रंग तो दुर्ग और चैनपुरा में देखने को मिले। फाग की मस्ती, रंगों की बौछार, गुलाल और अबीर की महक ने रंगों के त्यौहार की रंगीनियत बढ़ा दी। सोनार किले में लक्ष्मीनाथजी खुद रंगों से सराबोर हो गए।

रवि व्यास बने बादशाह : जैसलमेर में होली पर एक दिन का बादशाह बनने की परंपरा आज भी कायम है। व्यास जाति के ब्राह्मण में से किसी एक को बादशाह बनाया जाता है और इसी जाति से लड़के को शहजादा बनाया जाता है। धुलंडी के दिन रवि व्यास को बादशाह बनाया गया। शिव-पार्वती के स्वांग स्वरूप जैसलमेर के चैनपुरा में जिंदा-जिंदी बनाए जाते हैं। जिंदा-जिंदी पुरोहित जाति के लोग ही बनते हैं। इस बार देवेश बल्लाणी जिंदा व रोशन पुरोहित जिंदी बने। चैनपुरा वासियों ने जिंदा-जिंदी की गेर निकालकर घर-घर से चंदा राशि एकत्रित की और शनिवार को गोठ का आयोजन किया।

माळा घोळाई पर भाइयों को लगाया टीका : गुरुवार को माळा घोळाई का त्यौहार महिलाओं ने हर्षोल्लास से मनाया। कन्याओं और महिलाओं ने अपने भाइयों के सिर पर माळा घोळी और उनका मुंह मीठा करवाया। महिलाओं ने नव ग्रहों के प्रतीक गोबर की माला घुमाकर उन्हें हर मुसीबत से बचाने की कामना की तथा इन बाद में इन मालाओं को होलिका के साथ जलाने की परंपरा का निर्वहन किया।

सैलानी भी होली के रंगों में रंगे : सात समंदर पार से आने वाले विदेशी सैलानियों ने भी होली का जमकर लुत्फ उठाया। होली के अवसर पर विदेशी पर्यटकों ने एक दूसरे पर रंग डाला। धुलंडी के दिन सुबह-सुबह ही विदेशी पर्यटक आने लगे। सैलानी भी हाथों में रंग और गुलाल लिए हुए थे। सैलानियों ने स्थानीय लोगों और पर्यटन व्यवसायियों के साथ होली खेली।

रामगढ़ | कस्बे में रंगों का त्योहार होली पारम्परिक रूप से मनाया गया। कस्बे के समस्त मोहल्लों में शुभ मुहूर्त पर होलिका का दहन किया गया। ग्रामीण ढोल नगाड़ों व मंगल गीत गाती महिलाओं के साथ होलिका दहन स्थल पर पहुंचे और विधि विधान से दहन किया गया। धुलंडी को सुबह होली का पूजन किया गया। ग्रामीणों ने एक दूसरे के गुलाल लगाकर होली का पर्व मनाया तथा होली की बधाई दी। रंग बिरंगे रंगों से सराबोर युवाओं की टोलियां होली के मौके पर पूरे दिन मस्ती करती नजर आई। विभिन्न वर्गों की गेर निकाली गई तथा रात्रि में गोठों का आयोजन किया गया।

पोकरण |उपखंड क्षेत्र में होली का त्योहार धूमधाम और हर्षाेल्लास के साथ मनाया गया। छुट-पुट वारदातों को छोड़कर पूरे उपखंड में होली शांति पूर्वक मनाई गई। होली के अवसर पर पूरे क्षेत्र में माहौल उत्साह पूर्वक रहा।

धुलंडी के दिन लोगों ने जमकर रंग और गुलाल उड़ाया। इस अवसर पर शहर में विभिन्न जाति वर्ग के लोगों ने अलग-अलग गेर का आयोजन किया। विभिन्न मोहल्लों से होकर निकाली गई गेर में गेरियों ने चंग की थाप पर फाग गाकर माहौल को फागणियां रंग में रंग दिया। इस अवसर पर कई नवयुवकों ने गदर्भ की सवारी की। दोपहर पश्चात विभिन्न रंगों से सराबोर गेरियों ने नहा धोकर नए वस्त्र धारण कर अपने मित्रों के घर जाकर लोगों को होली की शुभकामनाएं दी।

पोकरण (आंचलिक)| ग्रामीणों इलाकों में होली का पर्व उत्साह व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इस अवसर पर ग्रामीणों द्वारा एक दूसरे पर रंग गुलाल डालकर होली का पर्व उत्साह व उमंग के साथ मनाया गया। वहीं दूसरी ओर ग्रामीण इलाकों की महिलाओं ने भी होली पर्व पर रंग गुलाल डालकर होली खेली गई। होली के शाम के समय शुभमुहूर्त में होली का दहन किया गया तथा चंग की थाप पर महिलाओं व पुरुषों ने नृत्य प्रस्तुत कर लोगों का मनमोह लिया। ग्रामीण इलाकों में 15दिन पूर्व ही फाग गीत गाकर फाग का महीना का लुत्फ उठाया जाता है।

रामदेवरा | में रंगों का त्योहार कस्बे में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। होली की सुबह से ही नवयुवकों की टोलियां रंग से सराबोर होकर धुलंडी की शाम तक एक दूसरे को विभिन्न प्रकार के रंगों एवं गुलाल, अबीर से रंगते रहे। होली का त्योहार कस्बे सहित आसपास के गांवों में शांति पूर्वक ढंग से मनाया गया। वहीं कस्बे की बाजारों में दिन भर नवयुवक होली खेलते रहे तथा दर्जनों नवयुवकों की टोलियों ने गेर निकाल कर कस्बे वासियों के घर-घर जाकर नाच एवं डांडिया नृत्य पेश किया। कस्बे में सुनारों के कुएं एवं परचा बावड़ी के पास अलग-अलग होली दहन किया गया। होलिका दहन के पश्चात देर रात्रि तक नवयुवक चंग की थाप पर धमाल गाते रहे। होली के पर्व को देखते हुए कस्बे में नियमित पुलिस गश्त करती रही।

भीखोड़ाई | में नवयुवकों ने रंग और गुलाल छिड़ककर कर एक दूसरे के प्रति प्रेम एवं स्नेह का प्रदर्शन किया। धुलंडी के दिन प्रात:काल से ही आठ से साठ वर्ष तक की आयु के लोग रंग एवं गुलाल लेकर गलियों में निकल पड़े। होली खेलने का यह दौर सायंकाल 5 बजे तक जारी रहा। इस दौरान लोगों ने चंग की थाप के साथ फाग गाकर होली का आनंद उठाया।

फलसूंड | कस्बे में होली का त्योहार धूमधाम के साथ मनाया गया। ग्राम पंचायत फलसूंड के सरपंच आनंद कंवर ने पंचायत क्षेत्र के सभी लोगों को होली की शुभकामनाएं देते हुए शांति पूर्वक होली मनाने पर आभार प्रकट किया।

नाचना | कस्बे में होली का जमकर लुत्फ उठाया गया। होली पर चारों तरफ रंग और गुलाल उड़ते नजर आए। जिधर देखो उधर रंग ही रंग छाए हुए थे। बच्चे, बड़े, जवान और वृद्ध जिसे देखो होली खेलते हुए दिखाई दिए।

सांकड़ा | कस्बे में होली का त्योहार धूमधाम के साथ मनाया गया। इस अवसर पर लोगों ने एक दूसरे को होली की बधाई दी । चंग की थाप पर फाग गाकर होली का आनंद लिया। वही लोगों ने बिना किसी जाति वर्ग का भेद करते हुए एक दूसरे पर रंग और गुलाल लगाकर उन्हें गले लगाकर होली की बधाई दी।

नोख | गांव में होली तीन जगह धूमधाम से मनाई। जसोडों के वास में स्थित होली नोख सरपंच मेघसिंह भाटी के सानिध्य में पंडित धनराज जोशी के मंत्रोच्चारण के साथ 8:15 पर मनाई गई। साथ ही नोख सीनियर स्कूल के मैदान में माली समाज की ओर से होलिका दहन 8:15 बजे किया गया। जिसमें सत्यनारायण माली के सानिध्य में पंडित भवानी शंकर जोशी ने मंत्रोच्चारण के साथ विधिवत समय के साथ होलिका दहन करवाया। वहीं कुम्हारों के वास में ठाकर रूपसिंह भाटी के सानिध्य में पंडित दिलीप कुमार बिच्छा द्वारा मंत्रोच्चारण के साथ होलिका दहन कराया गया।

लाठी | पुलिस थाना लाठी में शनिवार को होली मनाई गई। क्षेत्र के लोगों की शांतिप्रिय होली त्यौहार निपटने के बाद दूसरे दिन पुलिस अधिकारियों सहित कर्मचारियों ने पुलिस थाने में होली का त्यौहार रंग, उमंग और मौज के साथ मनाया। होली की मस्ती में सराबोर होकर हैड कांस्टेबल कालू सिंह, भागीरथ सहित अन्य पुलिसकर्मियों ने होली के गीतों पर डांस किया।

फतेहगढ़| उपखंड मुख्यालय सहित विभिन्न गांवों में होली का पर्व धूमधाम से मनाया गया। गोधुली वेला पर होलिका का दहन किया गया। धुलण्डी के दिन लोगों ने एक दूसरे के घर जाकर होली की बधाई दी। होली पर्व को देखते हुए सांगड़ थानाधिकारी मूलाराम चौधरी के नेतृत्व में हर जगह पुलिस जाब्ता तैनात रहा।

चांधन | क्षेत्र में होली व धुलण्डी का त्योहार हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। क्षेत्र मे होलिका दहन के पश्चात लोगो ने एक दूसरे के रंग गुलाल लगाकर होली की बधाई दी। लोगो ने एक दूसरे के घर जाकर मिष्ठान्न भोजन करके होली के पर्व पर शुभकामनाएं दी। क्षेत्र के ग्रामीण आंचल में बुजुर्गों, युवाओं, बालकों द्वारा फाग गीत चंग बजाकर होली पर्व का लुफ्त उठाया गया। धुलण्डी के दिन लोग रंगों से सराबोर रहे।

जैसंलमेर. होली के रंगों से सराबोर विदेशी मेहमान।

जैसंलमेर. पारंपरिक तरीके से होली मनाते दुर्गवासी।

पोकरण (आंचलिक). शहर में होली का त्यौहार मनाते युवक ।

जैसंलमेर. होलिका दहन पर धूं धूंकर जलती होलिका।

लाठी. पुलिस थाने में पुलिसकर्मियाेें ने खेली होली।

X
होली के पर्व पर अबीर व गुलाल से रंगीन हुई जैसाणे की सड़कें
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..